Sunday , June 13 2021
Breaking News
Home / खबर / EVM पर जो लोग उठाते हैं सवाल, उनके लिए ये डेटा है करारा जवाब

EVM पर जो लोग उठाते हैं सवाल, उनके लिए ये डेटा है करारा जवाब

नई दिल्ली। इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (EVM) के साथ छेढ़छाड़ कर चुनावों को प्रभावित करने के आरोप लगते रहे हैं। हालांकि, अभी तक प्राणिक तौर पर कोई सबूत सामने नहीं आया है। इन लगते आरोपों के बीच वोटर वेरिफाएबल पेपर ऑडिट ट्रेल्स (VVPAT) का प्रयोग किया जा रहा है, ताकि इस बात का पता चल सके कि किसी मतदाता ने जिसे अपना वोट दिया है, वास्तव में उसी को गया है या नहीं। अब इन आरोपों के बीच चुनाव आयोग के एक अधिकारी ने हाल में संपन्न हुए विधानसभा चुनावों के लेकर एक बड़ी बात कही है। उन्होंने कहा कि पांच राज्यों में हुए संपन्न हुए विधानसभा चुनावों में EVM और VVPAT का मिलान सौ फीसदी रहा है।

भारत के चुनाव आयोग (ECI) के एक अधिकारी ने कहा, “डेटा ईवीएम और वीवीपैट के बीच 100 प्रतिशत मिलान दिखाता है, जो इसकी सटीकता और प्रामाणिकता साबित करता है। पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनावों में इन दो मशीनों के परिणाम इसकी प्रमाणिकता का पहले की तरह पुन: पुष्टि करता है।” बता दें कि हाल में पश्चिम बंगाल, केरल, तमिलनाडु और असम के अलावा केंद्र शासित राज्य पुडुचेरी में चुनाव संपन्न हुए हैं।

आपको बता दें कि चुनाव आयोग की हर इलेक्शन में कुछ सीटों पर वीवीपैट मशीन का इस्तेमाल करती है, ताकि इससे बाद में पता लगाया जा सके कि मतदाता ने जिसे वोट दिया उसी को वह वोट मिला है या नहीं। इस साल पांच राज्यों में संपन्न हुए विधानसभा चुनावों में भी चुनाव आयोग ने कुछ मतदान केंद्रों पर EVM के साथ VVPAT मशीन का इस्तेमाल किया था।

पश्चिम बंगाल में 1492, तमिलनाडु में 1183, केरल में 728, असम में 647 और पुडुचेरी में 156 वीवीपैट मशीन लगाई गई थी। अब इन मशीनों द्वारा प्राप्त डेटा का विश्लेषण करने के बाद चुनाव आयोग ने कहा है कि EVM और VVPAT डेटा टैली 100 फीसदी सही है।

loading...
loading...

Check Also

बिहार ने कोरोना से मौत पर जो फर्जीवाड़ा किया, वैसा ही MP में भी हुआ!

भोपाल: बिहार के बाद मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh Covid Deaths) में भी कोरोना वायरस (Corona ...