Thursday , October 21 2021
Breaking News
Home / खबर / औंधे मुंह गिरा सोना: 861 रुपये टूटा भाव, 47000 रु. से कम में मिल रहा 10 ग्राम

औंधे मुंह गिरा सोना: 861 रुपये टूटा भाव, 47000 रु. से कम में मिल रहा 10 ग्राम

वैश्विक बाजारों में कमजोरी के रुख के बीच दिल्ली सर्राफा बाजार में गुरुवार को सोना 861 रुपये गिर कर 46,863 रुपये प्रति दस ग्राम रह गया। एचडीएफसी सिक्योरिटीज ने यह जानकारी दी। इससे पिछले दिन सोना 47,724 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ था। चांदी की कीमत (Silver Price) भी 1,709 रुपये की गिरावट के साथ 68,798 रुपये प्रति किलोग्राम रह गई। पिछले सत्र में चांदी का बंद भाव 70,507 रुपये पर था।

​वैश्विक बाजार में क्या कीमत
अंतरराष्ट्रीय बाजार में सोना गिरावट दर्शाता 1,810 डॉलर प्रति औंस रहा, जबकि चांदी 26.89 डॉलर प्रति औंस पर अपरिवर्तित रही। एचडीएफसी सिक्योरिटीज के वरिष्ठ विश्लेषक (जिंस) तपन पटेल ने कहा, ‘‘अमेरिकी फेडरल रिजर्व की टिप्पणी के बाद कल रात की बिकवाली के बाद सोने की कीमतों पर दबाव रहा। फेडरल रिजर्व द्वारा अपनाए गए रुख के कारण प्रमुख मुद्राओं की तुलना में डॉलर में मजबूती आई, जिससे सोने में बिकवाली बढ़ गई।’’ उन्होंने कहा कि डॉलर की मजबूती से थोड़े समय तक सोने की कीमतों पार दबाव रहेगा जिससे सुरक्षित निवेश के विकल्प के रूप में सोने की मांग प्रभावित हो सकती है।

​कमजोर मांग से सोना वायदा कीमतों में गिरावट
कमजोर मांग के बीच सटोरियों ने अपने सौदों के आकार को घटाया, जिससे स्थानीय वायदा बाजार में गुरुवार को सोने का भाव 1,005 रुपये की गिरावट के साथ 47,501 रुपये प्रति 10 ग्राम रह गया। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज में अगस्त महीने की डिलीवरी के लिए सोने की कीमत 1,005 रुपये यानी 2.07 प्रतिशत की गिरावट के साथ 47,501 रुपये प्रति 10 ग्राम रह गई। इसमें 10,746 लॉट के लिए कारोबार हुआ।

​कमजोर मांग से चांदी वायदा कीमतों मे गिरावट
कमजोर हाजिर मांग के कारण कारोबारियों ने अपने सौदों के आकार को घटाया, जिससे वायदा कारोबार में गुरुवार को चांदी की कीमत 1,717 रुपये की गिरावट के साथ 69,751 रुपये प्रति किलो रह गई। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज में चांदी के जुलाई डिलीवरी वाले वायदा अनुबंध का भाव 1,717 रुपये यानी 2.4 प्रतिशत की गिरावट के साथ 69,751 रुपये प्रति किलो रह गया। इस वायदा अनुबंध में 11,322 लॉट के लिए सौदे किए गए।

कब तक रहेगा गिरावट का दौर
विशेषज्ञों के मुताबिक सोना अभी कंसोलिडेशन के दौर से गुजर रहा है और अगले एक महीने के दौरान यह 48,300 से 49,500 रुपये की रेंज में बना रह सकता है। उनका कहना है कि निवेशकों को इसे सोने में निवेश के मौके के रूप में लेना चाहिए क्योंकि गोल्ड का मीडियम टर्म लुक पॉजिटिव है और यह 51,000 रुपये तक जा सकता है। इंटरनेशनल मार्केट में यह अभी 1880 डॉलर प्रति ओंस पर बना हुआ है लेकिन यह 1850 से 1860 डॉलर तक के स्तर पर जा सकता है।

कितने रुपये तक जा सकती है कीमत
जानकारों के मुताबिक दिवाली से लेकर इस साल के अंत तक घरेलू बाजार में सोने की कीमत 53,500 रुपये तक जा सकती है। 15 जुलाई के बाद सोने की मांग में तेजी के साथ कीमतें भी बढ़ने की संभावना है। दिवाली से साल के अंत तक सोने की कीमत पीक पर होगी। पिछले साल सोने की कीमत 57,000 रुपये चली गई थी। लेकिन इसके बाद इसमें गिरावट आई। इसके बावजूद सोने ने पिछले साल 28 फीसदी रिटर्न दिया।

2020 में आया था तगड़ा उछाल
2020 में सोने के दाम में तगड़ी तेजी की वजह कोरोना वायरस रहा, जिसकी वजह से लोग निवेश का सुरक्षित ठिकाना ढूंढ रहे थे। सोने में निवेश हमेशा से ही सुरक्षित रहा है। कोरोना की वजह से शेयर बाजार में लोगों ने निवेश कम कर दिया, क्योंकि शेयर बाजार में निवेश रिस्की होता है। पिछले साल जनवरी-फरवरी में तो सोना धीरे-धीरे बढ़ रहा था, लेकिन मार्च में भारत में कोरोना वायरस की दस्तक के बाद इसने स्पीड पकड़ ली।

loading...

Check Also

खूबसूरत जेलीफिश को देखने नजदीक जाना पड़ेगा महंगा, 160 फीट लंबी मूछों में भरा है जहर

लंदन (ईएमएस)। पुर्तगाली मैन ओवर नाम की जेलीफिश आजकल ब्रिटेन के समुद्र किनारे आतंक मचा ...