Saturday , July 24 2021
Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / कानपुर: क्रिमिनल को कस्टडी से भगाता दिखा एक और बीजेपी नेता, वीडियो वायरल

कानपुर: क्रिमिनल को कस्टडी से भगाता दिखा एक और बीजेपी नेता, वीडियो वायरल

कानपुर : यूपी के कानपुर में बीजेपी के अंदर युवा नेताओं के बीच वर्चस्व की लड़ाई चल रही है। बीजेपी नेता एक-दूसरे की तस्वीरें और वीडियो वायरल कर कीचड़ उछालने का काम कर रहे हैं। कानपुर में इन दिनों एक और वीडियो वायरल है, जो लोगों के बीच चर्चा का विषय बना हुआ है। कानपुर बुंदेलखंड के भाजयुमो क्षेत्रीय उपाध्यक्ष संदीप का कथित वीडयो वायरल हो रहा है। इसमें संदीप ठाकुर अपने समर्थकों के साथ मिलकर एक शातिर अपराधी को छुड़ाने के लिए पुलिस से बहस करते हुए नजर आ रहे हैं। सत्ता की हनक के आगे पुलिस नतमस्तक नजर आ रही है। कथित वायरल वीडियो बीते फरवरी महीने का बताया जा रहा है।

कानपुर बुंदेलखंड के भाजयुमो क्षेत्रीय उपाध्यक्ष संदीप ठाकुर के दोस्त की जन्मदिन पार्टी राम गोपाल चौराहा स्थित एक पार्क में चल रही थी। पार्क में भीड़ अधिक होने की सूचना पर तत्कालीन गुजैनी चौकी इंचार्ज दिवाकर पांडेय मौके पर पहुंचे थे। इस दौरान पुलिस की नजर एक शातिर अपराधी अजय सिंह पर पड़ी। पुलिस ने पुलिस ने अजय सिंह को दौड़ा कर पकड़ने का प्रयास किया, तो अजय सिंह गिर गया और उसके चोट लग गई। इस दौरान संदीप ठाकुर अपने दोस्तों के साथ पहुंच गया और पुलिस के साथ बहस कर उसे वहां से भगा दिया। उधर, पुलिस कमिश्नर असीम अरुण ने वायरल वीडियो के संबंध में बर्रा थाने से रिपोट मांगी है।

क्या है वायरल वीडियो
सोशल मीडिया पर एक वीडियो है। जिसमें तत्कालीन गुजैनी चौकी इंचार्ज दिवाकर पांडेय और संदीप ठाकुर और उसके मिलने वाले युवाओं की फौज नजर आ रही है। वीडियो में एक युवक नजर आ रहा है, जिसके सिर से खून निकल रहा है। युवक पुलिस पर आरोप लगा रहा है कि एक सिपाही ने उससे 50 हजार रुपए मांगे थे। रुपए नहीं देने पर मारपीट की है। संदीप ठाकुर और उसके मिलने वाले पुलिस से बहस करते हैं। फिर उसे मौके से भगा देते हैं। फिलहाल इस मामले में किसी पर कार्रवाई नहीं करती है।

कौन है अजय

बर्रा का रहने वाला अजय सिंह संदीप ठाकुर का खास गुर्गा है। संदीप ठाकुर ने अजय सिंह को सरक्षण दिया है। अजय ठाकुर पर लूट, मारपीट, रंगदारी, आईटी एक्ट की धाराओं में एक लगभग एक दर्जन मुकदमें दर्ज हैं। बर्रा के अंदर संदीप ठाकुर और हिस्ट्रीशीटर मनोज सिंह में वर्चस्व की लड़ाई चलती है। संदीप ठाकुर खुलकर सामने नहीं आता है। संदीप ठाकुर के काम को अजय सिंह संभालता है।

हिस्ट्रीशीटर को छुड़ाने के मामले में बीजेपी नेता को जाना पड़ा था जेल
कानपुर दक्षिण मंत्री रहे नारायण सिंह भदौरिया ने 25 हजार के पेशेवर अपराधी को अपने समर्थकों के साथ मिलकर पुलिस कस्टडी से छुड़ा लिया था। इस मामले में बीजेपी ने नारायण सिंह को पार्टी से बाहर का रास्ता का दिखा दिया था। इसके साथ ही नारायण सिंह भदौरिया समेत 19 लोगों पर मुकदमा दर्ज किया था। जिसमें बीजेपी निष्कासित नेता नारायण सिंह, हिस्ट्रीशीटर मनोज सिंह समेत चार लोगों को जेल भेजा गया था।

नारायण सिंह और हिस्ट्रीशीटर मनोज सिंह की दोस्ती संदीप को चुभ रही थी
बीजेपी नेता संदीप ठाकुर को हिस्ट्रीशीटर मनोज सिंह और जिलामंत्री रहे नारायाण सिंह भदौरिया के बीच दोस्ती कांटे की तरह चुभ रही थी। हिस्ट्रीशीटर मनोज सिंह को जिलामंत्री का संरक्षण मिल रहा था और मनोज सिंह खुले आम बर्रा क्षेत्र में घूम रहा था। नारायण सिंह भदौरिया को इस बात की जानकारी थी कि संदीप ठाकुर उसे बिल्कुल भी पसंद नहीं करता है। सूत्रों के मुताबिक नारायण सिंह भदौरिया की जन्मदिन पार्टी में हिस्ट्रीशीटर मनोज सिंह शामिल होने के लिए पहुंचा था, नौबस्ता पुलिस को सूचना संदीप ठाकुर ने सूचना दी थी।

संदीप ठाकुर पर थे दर्जनों मुकदमे
संदीप ठाकुर पर हत्या समेत दर्जनों मुकदमे दर्ज थे। बल्कि हिस्ट्रीशीटर अपराधी था। सत्ता के दम पर उसने अपने हिस्ट्रीशीट खत्म करा ली। लेकिन टोनी यादव हत्याकांड का मामला अभी भी ट्रायल पर है। संदीप ठाकुर 2002 में डीबीएस कॉलेज से अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ रहा था। संदीप के विरोध में दबौली में रहने वाले मनोज सिंह भी चुनावी मैदान में थे। मनोज सिंह का चुनावी जुलूस बर्रा दो से निकल रहा था। इसी दौरान संदीप ठाकुर ने मनोज सिंह के समर्थक टोनी यादव की गोली मार कर हत्या कर दी थी। इस मामले में संदीप ठाकुर समेत पिता जेबी सिंह और भाई संजीव पर पुलिस ने गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज किया था।

 

 

loading...

Check Also

वैक्सीन लगाने को लेकर आपस में भिड़ गईं महिलाएं, जमकर हुई मारपीट, वीडियो वायरल

खरगोन एमपी के खरगोन जिले में वैक्सीन को लेकर जबरदस्त मारामारी (People Crowd For Vaccine) ...