Thursday , May 6 2021
Breaking News
Home / खबर / एक दूसरे को प्लाज़्मा दे रहे हिंदू-मुस्लिम, कर रहे हैं अंतिम संस्कार, मोदीजी इनको कपड़ों से पहचानेंगे या लहू से?

एक दूसरे को प्लाज़्मा दे रहे हिंदू-मुस्लिम, कर रहे हैं अंतिम संस्कार, मोदीजी इनको कपड़ों से पहचानेंगे या लहू से?

कृष्णकांत

कभी देश के मुखिया ने कहा था कि ‘उन्हें कपड़ों से पहचाना जा सकता है’. आज हम लोगों को उनके लहू के रंग से पहचान रहे हैं जो एक-दूसरे की रगों में उतरकर हम सबकी जान बचा रहा है. मैं कहना चाहता हूं कि हमें हमारे कपड़ों से मत पहचानो. हमें हमारे लहू के लाल रंग से पहचानो.

कहानी उसी झारखंड की है जहां पर कपड़ों से पहचानने की सलाह दी गई थी. पलामू के मेदिनीनगर में कुछ मुसलमान युवकों को पता चला कि उनके हिंदू दोस्त की मां को कोरोना लील गया.

बेचारा बेटा मां की लाश के साथ अकेला पड़ गया था. कोई परिवार साथ नहीं आया था. मरे हुए को कंधा देने के लिए चार कंधे चाहिए होते हैं.

ये वक्त बुरा है. जनता को सहारा देने के लिए जालिम हुकूमत ने अपना कंधा खींच लिया है. डर के मारे किसी मरहूम के अपने भी कंधा खींच ले रहे हैं. लेकिन युवक के दोस्त मोसैफ, फैशल, सुहैल, आसिफ, शमशाद जाफर, महबूब सभी श्मशान पहुंच गए.

वे सभी रमजान के महीने में रोजा रखे हुए थे. पर इससे क्या, इंसानी सेवा बड़ी कोई इबाबत नहीं. वे अपने दोस्त के पास पहुंचे. मां के शव को लेकर साथ श्मशान गए.

दोस्त को मुश्किल घड़ी में सहारा दिया. मरहूम मां को एंबुलेंस से उतरवाया, कंधा दिया. पूरे हिंदू रीति-रिवाज से अंतिम संस्कार संपन्न हुआ.

ये कोई अकेली मिसाल नहीं है. शामली के आसिफ ने रोजा तोड़कर एक गर्भवती महिला की जान बचाई है. झालावाड़ के आबिद ने रोजा तोड़कर एक 15 दिन की बच्ची की जान बचाई है.

उदयपुर के अकील मंसूरी ने रोजा तोड़कर दो हिंदू महिलाओं के लिए प्लाज्मा डोनेट किया है. समाज में रोज हजारों लोग हजारों लोगों की जान बचा रहे हैं.

इसके उलट सियासत इस ‘आपदा में भी अवसर’ खोज रही है. इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, गुजरात के एक श्मशान में कुछ मुस्लिम स्वयंसेवक क्रिया कर्म में सहयोग कर रहे थे तो कुछ बीजेपी के नेताओं ने आपत्ति दर्ज करा दी कि हिंदुओं का अंतिम संस्कार मुसलमान कैसे करा सकते हैं?

उन्हें श्मशान पहुंचकर भी नफरत ही सूझी. उनके बताए रास्ते पर मत चलो. उन्हें अपने रास्ते पर लाओ.

समाज मुश्किल में है लेकिन समाज से मानवता खत्म नहीं होगी. इंसान जब तक रहेगा, इंसानियत सिर उठाकर साथ चलती रहेगी. आज इंसानियत निभाने में वायरस का खौफ भी है लेकिन इंसानी साहस और प्रेम का जुनून अब भी मजबूत है.

सोचने पर लगता है कि ये तो आम बात है. इंसान ही इंसान के काम आता है. इसमें नया क्या है?

लेकिन फिर लगता है कि जब आपके बच्चों को देश की सियासत पोशाक और हुलिये से पहचान करने जैसी नफरत सिखा रही हो, तब उन्हें ये भी बताना जरूरी हो जाता है कि नहीं, कपड़ों से मत पहचानो, इंसानियत के जज्बे से पहचानो.

आपसी मोहब्बत से पहचानो. उस लहू के रंग से पहचानो जो हम सबकी रंगों में उतरने से इनकार नहीं करता, ​बल्कि जिंदगी अता करता है.

(यह लेख पत्रकार कृष्णकांत की फेसबुक वॉल से साभार लिया गया है)

loading...
loading...

Check Also

महाराष्ट्र में कोरोना : लापरवाही से ‘स्वैब स्टिक’ बनाते मिले बच्चे, न हाथ में ग्लव्स और न चेहरे ढंके हुए

मुंबई. महाराष्ट्र में संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच ठाणे के उल्हासनगर में कोविड टेस्टिंग ...