Monday , December 6 2021
Home / ऑफबीट / कोरोना का टूटा कहर तो चीन वालों ने बदली आदत, अब खा रहे वो मांस जो मांस है ही नहीं !

कोरोना का टूटा कहर तो चीन वालों ने बदली आदत, अब खा रहे वो मांस जो मांस है ही नहीं !

कोरोना वायरस के प्रकोप से उबरने के बाद चीन में लोग अब मांसाहार की जगह स्वास्थ्यप्रद भोजन पर ध्यान देने लगे हैं। यही कारण है कि वहां ग्लोलब फास्ट फूड चेन शाकाहारी खानपान ऑफर करने लगी हैं। यही नहीं, मांसाहार के आदि चीनियों को लुभाने के लिए शाकाहारी पदार्थों को ही चिकन के टुकड़े का रूप दिया जा रहा है ताकि खाने वाले को आभास हो कि वह चिकन ही खा रहा है।

प्लांट बेस्ड प्रोटीन प्रॉडक्ट्स बनाने वाली अमेरिकी कंपनी बियॉन्ड मीट ने माना कि चीन में शाकाहारी भोजन की मांग बढ़ रही है। अमेरिकी कॉफी चेन स्टारबक्स ने चीन में शाकाहारी उत्पाद परोसने के लिए बियॉन्ड मीट और ओट मिल्क बनाने वाली कंपनी ओटली के साथ साझेदारी की है। चीन में मंगलवार से स्टारबक्स के 4,200 आउटलेट्स दोबारा खुल गए। चीन में कोरोना का संक्रमण शुरू होने पर जनवरी के आखिर में स्टारबक्स आउटलेट्स बंद कर दिए गए थे जो अब खुल गए हैं।

वहीं, केएफसी ने भी ‘शाकाहारी चिकन’ परोसने का मन बनाया है। उसने कहा कि चीन में पहली बार प्लांट-बेस्ड चिकन बेचने की योजना है। वह शंघाई, गुआंगजो और शेनजेन से इसकी शुरुआत करेगा। कंपनी का कहना है कि अगर इसका रेस्पॉन्स ठीक रहा तो आगे इसका विस्तार किया जाएगा।

चीन में वैसे भी मांस और खासकर सूअर के मांस (पोर्क) की कमी हो रही है। 2018 में अफ्रीकन स्वाइन फ्लू होने के कारण काफी संख्या में सूअरों को मारना पड़ा था। अब दुनियाभर में लॉकडाउन के कारण वह सूअर का मांस आयात भी नहीं कर पा रहा है।

ऐसा नहीं है कि सिर्फ चीन में ही शाकाहारी भोजन की मांग बढ़ रही है। यह ट्रेंड पूरी दुनिया में देखा जा रहा है। यूके में ग्रेग्स, मैकडॉनल्ड्स, बर्गर किंग्स से लेकर केएफसी तक, सभी कंपनियां मेन्यू में शाकाहारी भोजन के विकल्प बढ़ाने लगी हैं।

loading...

Check Also

पेट्रोल-डीजल की कमी के बाद अब इस देश में अंडरवियर्स और पजामे की भारी किल्लत

लंदन (ईएमएस)।आपकों जानकार हैरानी होगी कि यूके में इन दिनों अंडरवियर्स और पजामे की भारी ...