Wednesday , May 12 2021
Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / कोरोना का प्रकोप : UP में एक दिन में सबसे ज्यादा मौतें, महाराष्ट्र में अब तीसरी लहर का खतरा

कोरोना का प्रकोप : UP में एक दिन में सबसे ज्यादा मौतें, महाराष्ट्र में अब तीसरी लहर का खतरा

देश में कोरोना महामारी बेलगाम होती दिख रही है। उत्तरप्रदेश और महाराष्ट्र में संक्रमण विकराल हो रहा है। इन दोनों प्रदेशों में देश की 30% आबादी रहती है। उत्तरप्रदेश में बीते 24 घंटों में सर्वाधिक 332 लोगों की मौत हुई हैं। इसके साथ ही 34,626 नए मरीजों भी मिले हैं।

इसके साथ ही राज्य में कोरोना से जान गंवाने वालों की संख्या 12,570 हो गई है। वहीं, बलिया जिले से भाजपा विधायक सुरेंद्र सिंह ने कहा कि नौकरशाही के जरिए कोरोना पर नियंत्रण का मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का प्रयोग विफल रहा है।

दूसरी ओर, महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे के अनुसार राज्य में जुलाई-अगस्त में कोरोना की तीसरी लहर आ सकती है। हालांकि नए मामलों में मई अंत तक गिरावट शुरू हो जाएगी, लेकिन जुलाई और अगस्त में वायरस फिर असर दिखाएगा, यह तीसरी लहर होगी। प्रदेश सरकार की ओर से बनाई टास्क फोर्स के विशेषज्ञों से मिली जानकारी के आधार पर टोपे ने यह दावा किया है।

पीएम ने कहा था आरटीपीसीआर जांच की दर 70% से ऊपर हो, यूपी में 50% से भी कम है

उत्तरप्रदेश में कोरोना की लगभग 4 करोड़ 7 लाख 97 हजार 875 कुल जांचों में आरटीपीसीआर टेस्ट की संख्या लगभग 1.70 करोड़ है। यह कुल जांचों का 50% से भी कम है। प्रदेश में तीन दिन के अंतराल के बाद लगातार दूसरे दिन दो लाख से अधिक जांच हुईं। शुक्रवार को 2.44 लाख जांचें हुईं जिसमें 1.08 लाख आरटीपीसीआर हैं। गुरूवार को 2.25 लाख जांच में 35156 केस मिले थे।

पंचायत चुनाव की मतगणना में कोरोना जांच की अनिवार्यता के चलते एक बार फिर गुरूवार को जांच की संख्या दो लाख से ऊपर पहुंची। जबकि, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दूसरी लहर की शुरूआत में ही कहा था कि ‘संक्रमण पर काबू पाने के लिए ‘टेस्ट, ट्रैक और ट्रीट’ को लेकर पहले जैसी ही गंभीरता दिखानी होगी। कम समय में संक्रमित व्यक्ति को ट्रैक करना और आरटीपीसीआर जांच की दर 70% से ऊपर रखना बहुत अहम है।’

पंचायत चुनाव में नहीं मान रहे कोरोना नियम, अब तक यूपी के 800 कर्मचारियों की मौत

उप्र में कोरोना से अब तक 12238 मरीजों की मौत हुई है। इनमें अकेले 706 प्राथमिक स्कूलों के शिक्षक है। राज्य कर्मचारी महासंघ के अध्यक्ष हरिकिशोर तिवारी के अनुसार करीब 800 राज्य कर्मचारियों की कोरोना से मौत हुई है। महासंघ की बैठक में उप्र के पंचायत चुनावों की मतगणना को टालने की मांग की गई है। क्योंकि, मतगणना के प्रशिक्षण में कोरोना प्रोटोकाल का पालन नहीं हो रहा है।

उप्र प्राथमिक शिक्षक संघ व शिक्षक महासंघ के अध्यक्ष डाॅ. दिनेशचंद्र शर्मा ने कहा कि पंचायत चुनावों में डयूटी के कारण शिक्षकों के मौत की संख्या बढ़ रही है। 24 घंटे में 20 से अधिक शिक्षकों की मौत की जानकारी मिली है। इनके संपर्क में आकर जान गंवाने वाले परिवार के सदस्यों के नाम तो सूची में ही नहीं हैं।

उप्र बेसिक शिक्षा संघ ने राज्य के पंचायत चुनाव आयोग और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को कोरोना की जंग हार चुके शिक्षकों की अधिकृत सूची भेजी है।

loading...
loading...

Check Also

कोरोना मरीज का ऑक्सीजन मास्क हटाकर महिलाएं करने लगीं पूजा, फिर हुआ कुछ ऐसा!

यूपी के कानपुर से एक हैरान कर देने वाला वीडियो वायरल हुआ है. जहां पर ...