Saturday , November 27 2021
Home / उत्तर प्रदेश / कोरोना के दौर में खामोश नहीं हैं अमित शाह, संभाले हुए हैं ये मोर्चा

कोरोना के दौर में खामोश नहीं हैं अमित शाह, संभाले हुए हैं ये मोर्चा

अमित शाह के नेतृत्व में केंद्रीय गृह मंत्रालय कोरोना वायरस के खिलाफ रणनीति बनाने और राज्यों के साथ समन्वय स्थापित करने की दिशा में बड़ा काम कर रहा है। मंत्रालय में बैठकों का सिलसिला सप्ताह के सातों दिन और लगभग 24 घंटे चल रहा है। इतना ही नहीं, किसी राज्य या केंद्रशासित प्रदेश में यदि कोई समस्या खड़ी हो रही है तो गृह मंत्रालय उसे भी हल करने में मदद कर रहा है।

गृह मंत्रालय में 24 घंटे काम करने वाला नियंत्रण कक्ष
सोमवार से मंत्रालय में अपनी ड्यूटी ज्वॉइन करने के बाद सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रख सभी नौकरशाह लगातार अपने काम में व्यस्त हैं। 21 दिनों के लॉकडाउन के कार्यान्वयन के लिए मंत्रालय में 24 घंटे एक्टिव रहने वाला एक नियंत्रण कक्ष भी स्थापित किया गया है। शाह का मंत्रालय उन गिने-चुने दफ्तरों में शामिल है जो 24 मार्च को पीएम मोदी द्वारा घोषित किए गए देशव्यापी लॉकडाउन के दौरान भी काम कर रहा है।

इन जिम्मेदारियों को संभाल रहा गृह मंत्रालय
गृह मंत्रालय राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में कानून-व्यवस्था पर निगरानी रखने के साथ ही देशभर में आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति सुनिश्चित करने की दिशा में लगातार काम कर रहा है। लॉकडाउन के दौरान प्रवासी श्रमिकों के बड़े पैमाने पर पलायन करने से पैदा हुई स्थिति की निगरानी, उनके आश्रय, भोजन और स्वास्थ्य सुविधाओं की निगरानी का काम भी गृह मंत्रालय कर रहा है।

रणनीति बनाने में जुटे हैं शाह के साथ दो सिपाहसालार
गृहमंत्री अमित शाह के अलावा दो राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी और नित्यानंद राय लगातार मंत्रालय में आयोजित बैठकों में हिस्सा ले रहे हैं। सूत्रों के अनुसार, केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला सहित शीर्ष अधिकारी छुट्टियों और साप्ताहिक अवकाश के दिन भी कार्यालय में भाग लेते रहे हैं।

गृह सचिव अजय भल्ला लगातार रख रहे नजर
केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला भी मंत्रालय में सभी सहयोगियों के साथ लगातार काम को अंजाम दे रहे हैं। हाल में ही उन्होंने कैबिनेट सचिव राजीव गौबा द्वारा बुलाए गए मुख्य सचिवों की विडियो कांफ्रेंसिंग में हिस्सा लिया था। अजय भल्ला आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005 को संचालित करने वाली राष्ट्रीय कार्यकारी समिति के अध्यक्ष भी हैं। इसी अधिनियम के तहत लॉकडाउन उपायों को देशभर में लागू किया जा रहा है।

loading...

Check Also

क्या 7 दिन बाद MP में हो जाएगा अंधेरा ! रोजाना 68 हजार मीट्रिक टन खपत, सतपुड़ा पावर प्लांट के पास 7 दिन का स्टॉक

मध्य प्रदेश में कोयले का संकट गहराने लगा है. बात करें बैतूल के सतपुड़ा पावर ...