Thursday , December 2 2021
Home / ऑफबीट / कोरोना : चीन के बराबर है रूस का गुनाह, सब जानकर भी खामोश रहा !

कोरोना : चीन के बराबर है रूस का गुनाह, सब जानकर भी खामोश रहा !

दुनिया भर में कोरोना वायरस को लेकर कई तरह की बातें हो रही हैं। जहां अधिकांश लोग इसे वुहान के सीफ़ूड मार्केट से फैला वायरस बता रहे हैं तो वहीं ऐसे लोगों की भी कमी नहीं है जो इसे चीन का जैविक हथियार करार दे रहे हैं वहीं कुछ की नजर में यह अमेरिका की साजिश है। इन्हीं खबरों के बीच रूस से एक बेहद चौंकाने वाली खबर सामने आई है। जिससे अब यह सवाल खड़ा हो गया है कि क्या रूस को पहले से ही कोरोना संकट की जानकारी थी?

सेटेलाइट से ली गई तस्वीरों से यह पता चलता है कि रूस ने काफी पहले ही मास्को के बाहर 92 मिलियन पाउंड की लागत से एक अस्पताल का निर्माण शुरू कर दिया था। यानी स्पष्ट है कि रूस को कोरोना संकट की पहले से जानकारी थी तभी तो इतने बड़े पैमाने पर तैयारी संभव है, जब किसी बड़ी अनहोनी की आशंका हो।

आइये रूस की इस तैयारी को सेटेलाइट द्वारा ली गईं तस्वीरों के जरिये समझने का प्रयास करते हैं :

नीचे दिख रही यह तस्वीर पिछले साल 11 नवंबर की है, जिसमें ज़्यादातर खेत ही नजर आ रहे हैं – यानी चीन के वुहान में कोरोना वायरस की शुरुआत से लगभग एक महीने पहले।

अब उस तस्वीर की बात करते हैं जो 28 फरवरी, 2020 यानी तकरीबन तीन महीने बाद ली गई इस तस्वीर में साफ़ नजर आ रहा है कि खेतों को जला दिया गया है और बड़े पैमाने पर वहां इमरजेंसी यार्ड बनाये जा रहे हैं।

ये वही अस्पताल है, जिसके बारे में दावा किया जा रहा है कि रूस ने इसे रिकॉर्डतोड़ समय में बना लिया। लेकिन हकीकत क्या है, वो इन तस्वीरों में आपने खुद देखा। रूस ने अस्पताल का निर्माणा काफी पहले शुरु किया था, लगभग उसी समय जब वुहान में कोरोना फैलना शुरु हुआ था।

यही वजह है कि अब चीन के साथ-साथ रूस को भी पूरी दुनिया शक्की निगाहों से देख रही है। माना यही जा रहा है कि कोरोना के बारे में चीन ने रूस को काफी कुछ बता रखा था, जो उसने भी दुनिया से छुपाए रखा।

loading...

Check Also

2700 साल पहले भी इंसान इस्तेमाल करते थे टॉयलेट, इजरायल में मिला दुर्लभ शौचालय

यरुशलम । इजरायल के पुरातत्वविदों को 2700 साल पुराना दुर्लभ शौचालय ‎मिला है। यह शौचालय ...