Thursday , December 2 2021
Home / ऑफबीट / कोरोना ने अमेरिका का जो हाल किया, वो चीन के 10 परमाणु बम भी न कर पाते !

कोरोना ने अमेरिका का जो हाल किया, वो चीन के 10 परमाणु बम भी न कर पाते !

दुनिया के सर्वशक्तिशाली देश अमेरिका कोविड-19 को ले कर उपहास का केंद्र बनता जा रहा है। एक विकसित देश के रूप में अपनी सारी शक्तियों के उपयोग के बावजूद अमेरिका में बुधवार की सायं तक इस अदृश्य संक्रमण से तेरह हज़ार से अधिक जानें जा चुकी हैं। एक सौ वर्षों में बेरोज़गारी के अपने निम्नतम स्तर 3.5 प्रतिशत के स्तर तक पहुँचने के क़यास लगाए जाने लगे हैं। तब बेरोज़गारी दस प्रतिशत से अधिक पहुँच गई थी। यही नहीं, स्टाक मार्केट लाल रेखा से नीचे रसातल की ओर बढ़ने से निवेशकों और बड़े उद्यमियों की स्थिति दयनीय हुई है। अमेरिका के लोग भी ग्रामीण भारत की तरह अपने-अपने गाँवों की ओर जाने लगे हैं।

बेरोज़गारी और आर्थिक पैकेज:

अमेरिकी इकानमी को बदतर स्थिति में जाने से रोकने के लिए सेंट्रल बैंक ”फ़ेड रिज़र्व” और कांग्रेस दोनों ओर से खरबों डालर के आर्थिक पैकेज से उपाय किए जा रहे हैं। इस आर्थिक पैकेज में कोविड-19 के उपचार में अरबों डालर की मदद की जा रही है। बड़े और छोटे व्यवसायों से नौकरियों से निकाले जा चुके अथवा संक्रमण से जान बचा कर ख़ुद घर में बैठे 66.5 लाख बेरोज़गारों को मज़दूरी भत्ते देने, छोटे व्यवसाइयों और बड़े कारपोरेट को ज़िंदा रखने के लिए सरकारी ख़ज़ाना खोल देने के सतत उपक्रम किए जा रहे हैं। अभी तक क़रीब साढ़े पाँच खरब डालर की स्वीकृति जारी की जा चुकी है, तो पाँच सौ अरब डालर की स्वीकृति के लिए रिपब्लिकन और डेमोक्रेट के बीच बातचीत हो रही है। इस तरह के आर्थिक उपचार चीन सहित किसी देश ने नहीं किए हैं।

अमेरिकी कांग्रेस में डेमोक्रेट बहुल प्रतिनिधि सभा में स्पीकर नैंसी पेलोसी ने बुधवार को एक वीडियो जारी कर सीधे-सीधे आरोप लगाया है कि ट्रम्प कोविड-19 से निपटने में विफल रहे हैं। इस पर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने ही नहीं, रिपब्लिकन नेताओं ने भी नेंसी पेलोसी की निंदा की है।

यह अदृष्य संक्रमण आया कहाँ से है?

इस पर पूँजीवादी अमेरिकी विद्वत समुदाय और चीन के साम्यवादी तंत्र में परस्पर तनातनी हो गई है। दुनिया भर में इस संक्रमण से एक लाख के क़रीब जानें गँवा दिए जाने पर अमेरिकी मीडिया और विद्वत समुदाय में यह कहा जा रहा है कि वुहान (चीन) में पैदा हुआ यह संक्रमण क़ुदरती नहीं है, यह लेबोरेटरी जनित है। इस पर अमेरिका में प्रवासी भारतीय समुदाय से दोग़ुना प्रवासी चीनी समुदाय का सतत तिरस्कार हो रहा है।ट्रम्प की ओर से व्हाइट हाउस में प्रेस काँफ़्रेंस में कोविड-19 को “चीनी संक्रमण” के नाम से उच्चारण करने के बाद घृणा अपराध के मामलों में सौ गुणा वृद्धि हुई है। यह स्थिति चीनी तंत्र और वहाँ की जनता को नागवार गुज़री है। चीन ने भी आरोप लगाए हैं कि यह संक्रमण अमेरिकी सेना की ओर से लेबोरेटरी में तैयार किया गया था, जो समय पूर्व लीक हो गया। इस तरह के आरोप प्रत्यारोप दोनों ओर से लगाए जा रहे हैं।

डब्ल्यू एच ओ सवालों के घेरे में:

डब्ल्यू एच ओ को चीन केंद्रित बता कर अमेरिकी राष्ट्रपति ने चीन सहित डब्ल्यू एच ओ पदाधिकारियों को हतप्रभ कर दिया। ट्रम्प ने कहा था कि वह डब्ल्यू एच ओ को दी जाने वाली आर्थिक सहायता राशि रोक सकते हैं। इस पर बुधवार को डब्ल्यू एच ओ महानिदेशक टेडरास अधनोम ग़ेबरएसस ने इतना कहा कि यह संक्रमण भयावह है। दुनिया भर को चाहिए कि सभी एकजुट हों। डब्ल्यू एच ओ के यूरोपीय क्षेत्रीय निदेशक हान्स क्लूज ने टिप्पणी की कि यह वक़्त परस्पर उलझने का नहीं है। हम एक घोर संकट में हैं।

इस पर ट्रम्प ने बुधवार को इतना कहा कि वह ग़ौर करेंगे। यहाँ सवाल यह उठाया जा रहा है कि ट्रम्प ने यह मत क्यों व्यक्त किया? अमेरिका सदस्य देशों की ओर से दिए जाने वाले वार्षिक शुल्क दो लाख डालर के अलावा डब्ल्यू एच ओ के कुल बजट का 14 प्रतिशत अतिरिक्त फ़ंड जुटाता है। इसके विपरीत चीन अमेरिका से आधा फ़ंड दो करोड़ 80 लाख डालर स्वेच्छिक फ़ंड देता है। डब्ल्यू एच का कुल बजट चार अरब डालर प्रतिवर्ष है। इसके 194 सदस्यों में सौ सदस्य तो सदस्यता शुल्क भी नहीं दे पाते। आज डब्ल्यू एच ओ कंगाली की स्थिति में है।

ट्रम्प को डब्ल्यू एच ओ के ख़िलाफ़ कड़ा बयान क्यों देना पड़ा:

अमेरिका में प्रवासी चीनी समुदाय के चालीस लाख लोग अपने महा पर्व ‘ल्यूनर ईयर’मनाने जनवरी के तीसरे सप्ताह में चीन गए थे, जो फ़रवरी के पहले सप्ताह तक वापस अमेरिका के विभिन्न शहरों आ गए थे। वुहान में कोरोना संक्रमण के अंकुरित होने और इस महानगर की की एक करोड़ से अधिक आबादी के आधी से अधिक शंघाई, बीजिंग और अन्य चीनी शहरों में चली गई थी।

न्यू यॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट सही माने तो इन चालीस लाख लोगों में ज़्यादातर न्यू यॉर्क के थे। डब्ल्यू एच ओ की ओर से ग़लती यह हुई कि दिसंबर के अंत तक वह इस संक्रमण को ‘निमोनिया’ कहती रही। उसने 30 जनवरी को ग्लोबल हेल्थ इमेर्जेंसी घोषित किया और फिर फिर 11 मार्च को वैश्विक महामारी का नाम दिया। इस बीच लाखों लोग सैकड़ों विमान सेवाओं से वापस अमेरिका आ चुके थे और चालीस हज़ार लोग अमेरिका से बाहर भी गए थे।

loading...

Check Also

यूपी विधानसभा चुनाव 2022 का काउंटडाउन शुरू : क्या कांग्रेस को फॉलो करने लगी सपा ?

यूपी विधानसभा चुनाव 2022(UP Assembly Election 2022) का रण निकट है. सभी राजनीतिक दल अपने-अपने ...