Tuesday , May 18 2021
Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / कोरोना पर CM योगी सख्त, बोले- मास्क न पहनने वालों पर सख्ती करें, लखनऊ में चला ‘महाअभियान’

कोरोना पर CM योगी सख्त, बोले- मास्क न पहनने वालों पर सख्ती करें, लखनऊ में चला ‘महाअभियान’

उत्तर प्रदेश में बेकाबू कोरोना वायरस के संक्रमण पर काबू पाने के लिए आज वीकेंड पर लॉकडाउन है। राजधानी लखनऊ समेत पूरे प्रदेश में आज बड़े स्तर पर सैनिटाइजेशन अभियान चलाया जा रहा है। इस बीच मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोविड-19 के मद्देनजर बनी टीम इलेवन के साथ समीक्षा बैठक की। इस दौरान उन्होंने कहा कि अगले 15 दिनों की अनुमानित डिमांड के सापेक्ष ऑक्सीजन की उपलब्धता सुनिश्चित किया जाए। हर अस्पताल में कम से कम 36 घंटे का ऑक्सीजन बैकअप होना ही चाहिए।

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रदेश में ऑक्सीजन की आपूर्ति को और बेहतर बनाने के लिए 10 नए प्लांट स्थापित होने हैं। इसमें DRDO सहयोग कर रहा है। कुछ जगहों पर ऑक्सीजन सिलेंडर की कमी की बात सामने आई है। चिकित्सा शिक्षा मंत्री आपूर्ति व वितरण की लगातार मॉनिटरिंग करेंगे।

मुख्यमंत्री ने और क्या-क्या कहा?

  • बिना मास्क सार्वजनिक स्थानों पर आवागमन करने वाले लोगों का यह कृत्य स्वयं के साथ-साथ समाज के लिए भी घातक है। ऐसे लोगों के साथ सख्ती की जाए। पहली बार पकड़े जाने पर 1,000 रुपए और दूसरी बार बिना मास्क पकड़े जाने पर 10,000 रुपए का जुर्माना लिया जाए।
  • किसी भी जीवन रक्षक औषधि और होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों के मेडिकल किट की दवाओं में कोई कमी न होने पाए। खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन विभाग का कंट्रोल रूम निरंतर कार्यशील रहते हुए रेमडेसिविर सहित विभिन्न औषधियों की उपलब्धता पर लगातार नजर रखे।
  • रायपुर (छत्तीसगढ़) में अस्पताल में आग लगने की हृदयविदारक घटना घटित हुई है। इस घटना में कोविड मरीजों की दुखद मृत्यु हुई है। हमें इस घटना से सीख लेना चाहिए। प्रदेश के सभी जिलों के सभी सरकारी व निजी चिकित्सा संस्थानों में फायर सेफ्टी के उपकरणों का परीक्षण कर लिया जाए। यह कार्य आज ही सम्पन्न करा लिया जाए। इसमें किसी प्रकार की शिथिलता स्वीकार नहीं है।
  • प्रदेश में औद्योगिक कार्य सतत जारी रहें। साप्ताहिक रविवार बंदी के दिन केवल उन्हीं इकाइयों में बंदी रहेगी, जहां पहले से ही रविवार को अवकाश होता है। सभी औद्योगिक इकाइयों में भी श्रमिकों की सुविधाओं/जरूरतों का ध्यान रखा जाए।
  • लखनऊ, प्रयागराज, मुरादाबाद, झांसी, कानुपर सहित संक्रमण से अति प्रभावित करीब 12 जिलों में ICU और आइसोलेशन बेड्स की क्षमता दोगुनी किए जाने की आवश्यकता है। चिकित्सा शिक्षा मंत्री यह व्यवस्था सुनिश्चित करेंगे।
  • कानपुर में जीएसवीएम, रामा मेडिकल कॉलेज और नारायणा मेडिकल कॉलेज की सुविधाओं में बढ़ोतरी की जाए। यह सभी हॉस्पिटल अपनी पूरी क्षमता के साथ कार्य करें। बेड्स में बढ़ोतरी की जाए, साथ ही सभी चिकित्सकीय सुविधाओं की उपलब्धता सुनिश्चित की जाए।
  • प्रदेश में अब तक 46000 से अधिक कंटेनमेंट जोन बनाए गए हैं। प्रत्येक जनपद में निगरानी समितियों के कार्याें की नियमित समीक्षा की जाए। इनकी सक्रियता अत्यंत आवश्यक है। सीएम हेल्पलाइन से निगरानी समितियों से नियमित संवाद किया जाए। कोविड पर नियंत्रण के लिए यह महत्वपूर्ण प्रयास है।
  • सार्वजनिक स्थल पर भीड़ न हो। सामान का लेन-देन करने वाले लोग मास्क और ग्लव्स का अनिवार्य रूप से उपयोग करें। धर्मस्थलों में 05 से अधिक लोग एक समय में न जाएं।
  • स्वच्छता, सैनिटाइजेशन और फाॅगिंग के विशेष अभियान के बेहतर नतीजों के लिए इसे युद्धस्तर पर संचालित किया जाए। ग्रामीण और शहरी इलाकों में स्वच्छता, सैनिटाइजेशन और फाॅगिंग की प्रभावी कार्रवाई की जाए।
  • सभी जनपदों में क्वारैंटाइन सेंटर का सुचारु संचालन सुनिश्चित किया जाए। विशेष ट्रेन के माध्यम से अन्य प्रदेशों से आने वाले लोगों को क्वारैंटाइन सेंटर पहुंचा कर सभी की स्क्रीनिंग एवं आवश्यकतानुसार जांच की जाए।
  • पंचायत चुनावों में लगे कार्मिकों की सुरक्षा के लिए सभी जरूरी प्रबंध किए जाएं। जिन महिलाओं के बच्चे छोटे हैं, यथासंभव उन्हें चुनाव ड्यूटी में न लगाया जाए।
  • आरटीपीसीआर टेस्ट की संख्या में वृद्धि की जाए। इसके लिए सरकारी एवं अधिकृत निजी प्रयोगशालाएं पूरी क्षमता से कार्य करें। जनपद स्तर पर जिला प्रशासन द्वारा अधिकृत निजी प्रयोगशालाओं के माध्यम से भी आरटीपीसीआर टेस्ट कराए जाएं। इस सम्बन्ध में जिलाधिकारियों एवं मुख्य चिकित्सा अधिकारी गण परस्पर समन्वय स्थापित करते हुए कारगर रणनीति तैयार करें।
  • कुछ जनपदों से गेहूं क्रय को लेकर शिकायतें प्राप्त हुई हैं। तत्काल इनका संज्ञान लिया जाए। कोविड काल में भी गेहूं क्रय की प्रक्रिया सतत जारी रखी जाए। क्रय केंद्रों पर किसानों की जरूरतों और सुविधाओं का पूरा ध्यान रखा जाए। भुगतान में देरी न हो।

पहले दिन पौने दो लाख मकानों को किया सैनिटाइज

लखनऊ नगर निगम ने कोरोना संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए कमर कस ली है। शनिवार को उन इलाकों को सैनिटाइज करने का अभियान चलाया गया, जहां अधिक संक्रमित मरीज हैं। इसकी शुरुआत अलीगंज से की गई। जहां 60 हजार मकानों और 6 हजार दुकानों समेत मुख्य सड़कों को सैनिटाइज किया गया। इसके अलावा इंदिरानगर के सभी 9 वार्डो के प्रमुख बाजार को सैनेटाइज किया गया। अब तक पाैने दो लाख मकानों को सैनिटाइज किया जा चुका है।

loading...
loading...

Check Also

यूपी में कोरोना : BJP विधायक का तंज- ज्यादा बोलूंगा तो देशद्रोह का केस हो जाएगा

कोरोना महासंकट के दौरान अस्पतालों में मेडिकल सुविधाओं की कमी के कारण भारत में हर ...