Wednesday , May 12 2021
Breaking News
Home / भारत / कोरोना : 28 दिनों में 52 पत्रकारों की मौत, कापड़ी बोले- अब तो सच बोलो या मौत के डर से ज्यादा है मोदी का डर?

कोरोना : 28 दिनों में 52 पत्रकारों की मौत, कापड़ी बोले- अब तो सच बोलो या मौत के डर से ज्यादा है मोदी का डर?

देश में कोरोना की दूसरी लहर से समाज का हर वर्ग प्रभावित हो रहा है। पत्रकार भी इससे अछूते नहीं रहे। एक रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 28 दिनों में 52 पत्रकार कोरोना की वजह से मर चुके हैं। जो वर्ग लोकतंत्र का चौथा स्तंभ है, वहां भी इस महामारी ने कहर मचा कर रख दिया है।

नेशनल मीडिया के साथ क्षेत्रीय स्तर तक के पत्रकार बड़ी संख्या में पिछले 1 साल में कोरोना की भेंट चढ़ चुके हैं।

द हिंदू पब्लिशिंग ग्रुप के डायरेक्टर एन राम ने ट्वीटर पर एक रिपोर्ट जारी करते हुए कहा कि पिछले 28 दिनों में 52 से ज्यादा पत्रकार मौत के मुंह में जा चुके हैं। बात करें पिछले 1 साल की तो 101 लोगों की मौत हो चुकी है।

पूर्व पत्रकार और फिल्ममेकर विनोद कापड़ी ने ट्वीटर पर इस मुद्दे पर लिखा है कि “यकीन नहीं होता कि मोदी का डर मौत के डर से ज्यादा है. अब भी वक्त है जाग जाओ और बस सच लिखो और सच कहो.

मेरे या तुम्हारे जाने के बाद मोदी या कोई और तुम्हारे परिवार को पूछेगा भी नहीं, इसलिए फिर कह रहा हूं कि डरो मत, लड़ो.”

विनोद कापड़ी ने वर्तमान समय में देश में चल रही गोदी मीडिया को इशारों ही इशारों में सच से रुबरु करा दिया है।

मीडिया का असल चरित्र है सरकार की विफलताओं को प्रखर तरीके से उठाना लेकिन आज की मीडिया कर क्या रही है, सरकार के पापों और विफलताओं पर पर्दा डाल रही है। झूठ का बाजार सजा रही है।

सरकार की नाकामियों को भी सफलता की तरह दिखा रही है. सरकार से सवाल पूछने की बजाय विपक्ष से सवाल करती है. पीएम मोदी से जवाब लेने की बजाय नेहरु को कोसती है।

देश की ध्वस्त हो चुकी स्वास्थ्य व्यवस्था पर सरकार को घेर कर इस मीडिया ने सवाल पूछे होते, सरकार को कटघरे में खड़ा किया होता तो ये सैकड़ों पत्रकार सिस्टम की भेंट नहीं चढ़ते।

इन पत्रकारों को मोदी का खौफ इतना था कि उसके आगे अपनी मौत का खौफ भी छोटा लगने लगा।

क्या इन पत्रकारों की विधवा हो चुकी पत्नियों और अनाथ हो चुके बच्चों के लिए वो सरकार कुछ करेगी जिसके लिए उन्होंने पत्रकारिता की सभी मर्यादाओं को ध्वस्त कर दिया और चापलूसी को अपना धर्म बना लिया।

खबर साभार- बोलता हिंदुस्तान

loading...
loading...

Check Also

एमपी की दर्दनाक तस्वीर: युवक ने इलाज के अभाव में तोड़ा दम, बाइक पर जिंदा की तरह बैठा कर ले गए घर

मध्यप्रदेश के उमरिया जिले में संक्रमित सिस्टम और दम तोड़ती मानवता की तस्वीरें सामने आई। ...