Thursday , December 2 2021
Home / उत्तर प्रदेश / क्वारंटीन सेंटर में कोरोना संदिग्ध बोले- यहां का खाना नहीं खाएंगे, दलित है रसोइया

क्वारंटीन सेंटर में कोरोना संदिग्ध बोले- यहां का खाना नहीं खाएंगे, दलित है रसोइया

डेमो

कोरोना वायरस के प्रसर को रोकने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी की ओर से घोषणा के बाद 21 दिन का राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन जारी है. बावजूद इसके कोरोना संक्रमण और इससे हो रही मौतों के मामले बढ़ते ही जा रहे हैं. कोरोना के संदिग्ध मरीजों को क्वारंटीन में रखा जा रहा है. लेकिन उत्तर प्रदेश के बस्ती में कोरोना के संदिग्धों की ओर से फरमाइशें और उनके नखरे प्रशासन के लिए परेशानी का सबब बनते जा रहे हैं.

मामला बस्ती के सल्टौवा ब्लॉक के सिसवा बरुआर गांव का है. जहां कोरोना संदिग्ध होने के चलते दस लोगों को प्राथमिक विद्यालय में क्वारंटीन किया है. लेकिन आरोप है कि इन लोगों ने विद्यालय की दलित रसोइया के हाथ से तैयार हुआ खाना खाने से इनकार किया और अपने घर से भोजन मंगवाकर खाया.

खबर के मुताबिक, शिकायत में राजेश ने आरोप लगाया है कि गांव के 10 लोग सत्यराम, रविशंकर, राजू, राजेश, मनमोहन, जगप्रसाद, दिलीप कुमार, राम प्रकाल यादव, शिवकपूर व नितराम दिल्ली से गांव लौटे हैं. एसडीएम के निर्देशानुसार सभी को कोरोना वायरस से संक्रमित होने की संभावना के मद्देनजर गांव के विद्यालय पर क्वारंटीन किया गया है.

इस मामले पर एसपी एमराज मीणा ने कहा कि क्वारंटीन किए गए सभी लोगों ने घर का भोजन करने की बात कही. प्रधान प्रतिनिधि ने सभी से घर से भोजन मंगाने पर उनके परिजनों को कोरोना वायरस से संक्रमित होने की शंका जाहिर की. इन सभी ने कहा कि रसोईया दलित है इसलिए वे उसके हाथ का बना खाना नहीं खाएंगे.

ऐसा करने वाले सभी 10 लोगों के ख़िलाफ़ पुलिस ने महामारी एक्ट और सुसंगत धाराओं के तहत मुक़दमा दर्ज कर लिया है.

loading...

Check Also

Petrol Diesel Price Today: पेट्रोल-डीजल सस्ता हुआ या महंगा, जारी हो गए नए रेट, फटाफट करें चेक

सरकारी तेल कंपनियों की ओर से आज पेट्रोल-डीजल के दामों में कोई बढ़ोतरी नहीं हुई ...