Saturday , September 25 2021
Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / गोरखपुर : काजल हत्याकांड का मुख्य आरोपी पुलिस मुठभेड़ में ढेर, एक लाख का था इनाम

गोरखपुर : काजल हत्याकांड का मुख्य आरोपी पुलिस मुठभेड़ में ढेर, एक लाख का था इनाम

गोरखपुर के जगदीशपुर भलुवान गांव में बीती 20 अगस्त की रात राजीव नयन सिंह का उसी गांव के बदमाश विजय प्रजापति से रुपए के लेन-देन में विवाद हो गया था. जिसका वहीं मौजूद राजीव नयन की 17 वर्षीय बेटी काजल वीडियो बना रही थी. काजल को वीडियो बनाता देख विजय प्रजापति ने उसके पेट में गोली मार दी थी. जिसके बाद रक्त के अत्यधिक रिसाव के कारण पांचवे दिन काजल की मौत हो गई थी. बीती देर रात गगहा पुलिस और स्वाट टीम ने एक लाख के इनामी और काजल के हत्यारे विजय प्रजापति को मुठभेड़ में ढेर कर दिया है.

गोरखपुर: जनपद पुलिस को देर रात बड़ी सफलता हाथ लगी, जब गगहा थाना क्षेत्र में पिछले दिनों पिता की पिटाई का वीडियो बना रही काजल सिंह को बदमाशों ने पेट में गोली मारकर मौत के घाट उतार दिया था. जिसके बाद घटना के मुख्य आरोपी और शातिर बदमाश विजय प्रजापति पर एडीजी ने एक लाख के इनाम की घोषणा की थी. आखिरकार, मुखबिर की सटीक सूचना पर गगहा पुलिस और स्वाट टीम ने एक लाख के इनामी विजय प्रजापति को मुठभेड़ में ढेर कर दिया. वहीं, उसका दूसरा साथी अंधेरे का फायदा उठाकर मौके से फरार हो गया, जिसकी तलाश के लिए वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डॉ. विपिन ताडा ने टीम गठित कर तलाश की जा रही है.

बता दें कि गगहा थाना क्षेत्र के जगदीशपुर भलुवान गांव में 20 अगस्त की रात राजीव नयन सिंह का उसी गांव के बदमाश विजय प्रजापति से रुपए के लेन-देन में विवाद हो गया था. जिस पर शातिर बदमाश और उसके साथियों द्वारा राजीव नयन सिंह की पिटाई की जा रही थी. वहीं मौके पर मौजूद राजीव नयन की 17 वर्षीय बेटी काजल सिंह इस मार पीट का वीडियो बना रही थी. काजल को वीडियो बनाता देखकर विजय प्रजापति ने उसके पेट में गोली मार दी थी और उसका मोबाइल लेकर मौके से फरार हो गया था.

काजल को गंभीर हालत में जिला चिकित्सालय लाया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मेडिकल कॉलेज रेफर कर दिया था, वहीं बीआरडी मेडिकल कॉलेज के डॉक्टरों ने भी प्राथमिक उपचार के बाद उसकी गंभीर स्थिति को देखते हुए उसे लखनऊ के लिए रेफर कर दिया था. रक्त के अत्यधिक रिसाव की वजह से चिकित्सक पेट से गोली नहीं निकाल सके और पांचवे दिन काजल की मौत हो गई.

इसके बाद पुलिस ने शातिर विजय प्रजापति और उसके साथी के ऊपर एक लाख का इनाम घोषित किया था. गोरखपुर की बिटिया की मौत के बाद बदमाश की गिरफ्तारी नहीं होने की वजह से तमाम संगठन सड़क पर उतरकर पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान खड़ा कर रहे थे. मामले को पूरी गंभीरता से लेते हुए एडीजी खुद घटनास्थल पर पहुंचकर जांच कर आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए टीम गठित की थी. शुक्रवार की देर रात मुखबिर की सूचना पर गगहा थाने की पुलिस बसवा टीम की संयुक्त कार्रवाई में पुलिस मुठभेड़ के दौरान 21 दिन बाद शातिर बदमाश को पुलिस ने ढेर कर दिया.

इस संबंध में जनपद के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डॉ. विपिन ताडा ने बताया कि गगहा थाना क्षेत्र में चेकिंग के दौरान पुलिस ने दो बदमाशों को रोकने का प्रयास किया, बदमाशों ने पुलिस टीम पर फायर कर दिया, जवाबी कार्रवाई में पुलिस की गोली से एक बदमाश घायल हो गया. दूसरा बदमाश अंधेरे का फायदा उठाकर मौके से भागने में कामयाब रहा. जिस बदमाश को गोली लगी, उसे जिला चिकित्सालय लाया गया. जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया, जिसकी शिनाख्त एक लाख के इनामी बदमाश व दर्जनों मामलों में वांछित विजय प्रजापति के रूप में हुई है.

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डॉ. विपिन ताडा ने बताया कि गगहा थाना क्षेत्र की एक बालिका की कुछ दिन पूर्व गोली मारकर इस शातिर बदमाश हिस्ट्रीशीटर द्वारा हत्या कर दी गई थी. इसके ऊपर एक दर्जन से अधिक मामले दर्ज हैं. जिसमें लूट, हत्या के प्रयास और रंगदारी जैसी गंभीर धाराओं में मामले दर्ज किए गए हैं. देहरादून, बाराबंकी और गोरखपुर के कई थानों में इसके खिलाफ मुकदमे दर्ज हैं. इसके अन्य इसके अन्य साथी की तलाश की जा रही है.

loading...

Check Also

पंजाब के नए मुख्यमंत्री का भांगड़ा वाला वीडियो हुआ वायरल तो एक्ट्रेस स्वरा का यूं आया रिएक्शन

नई दिल्ली :  पंजाब के नए मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी का एक वीडियो सोशल मीडिया ...