घड़ी से फास्टैग स्कैन कर खाते से पैसे चुराने का झूठा दावा वायरल वीडियो की सच्चाई सामने आई

सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है. देखा जा सकता है कि कार की खिड़की को कपड़े से साफ करते समय एक बच्चा स्मार्ट वॉच से फास्टैग के स्कैन कोड को स्कैन करता है। इसके बाद लड़का भाग जाता है। वीडियो के अंत में ड्राइवर का कहना है कि बच्चे ने कार साफ करने के बहाने ठगी की. फास्टैग में जमा पैसे को उसने अपनी स्मार्ट घड़ी से स्कैन कर निकाला।

वायरल वीडियो की सच्चाई जानने के लिए फास्टैग का आधिकारिक सोशल मीडिया अकाउंट चेक किया। हमें वायरल वीडियो के जवाब में फास्टैग के अकाउंट पर एक पोस्ट मिला।

एनईटीसी फास्टैग का लेन-देन केवल पंजीकृत व्यापारियों द्वारा किया जा सकता है, जिन्हें एनपीसीआई द्वारा उनके भौगोलिक स्थान से फास्टैग सिस्टम में जोड़ा गया है, फास्टैग लिखता है। कोई भी अपंजीकृत डिवाइस NETC FASTag पर लेनदेन नहीं कर सकता है। फास्टैग पूरी तरह से सुरक्षित है।

पड़ताल के दौरान हमें पेटीएम के ऑफिशियल अकाउंट पर इससे जुड़ी एक पोस्ट भी मिली। पेटीएम लिखता है कि वीडियो फर्जी है।एक वीडियो में पेटीएम फास्टैग को लेकर गलत जानकारी फैलाई जा रही है। NETC के दिशानिर्देशों के अनुसार, FASTag भुगतान केवल पंजीकृत व्यापारी ही कर सकते हैं। इसका कई राउंड में परीक्षण किया जा चुका है। पेटीएम फास्टैग पूरी तरह से सुरक्षित है।

बता दें कि हमें जांच के दौरान डिवाइस स्कैन से फास्टैग घोटाले की कोई मीडिया रिपोर्ट नहीं मिली है। वहीं, फास्टैग का कहना है कि जालसाजी संभव नहीं है। फास्टैग पूरी तरह से सुरक्षित है। साफ है कि सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो के साथ किया जा रहा दावा पूरी तरह झूठा है।