चाणक्य नीति: ऐसे लोगों से होगी परेशानी, जानिए क्या कहती है चाणक्य नीति

0
3

सफल जीवन के लिए चाणक्य नीति: आचार्य चाणक्य ने जीवन के कई तथ्य प्रस्तुत किए हैं। उस समय की चाणक्य नीति में लिखे तथ्य आज भी लागू हैं। आचार्य चाणक्य ने जीवन जीने के ऐसे कई तरीकों का उल्लेख किया है। नियमों का पालन करने से मनुष्य अच्छा जीवन जी सकता है। कभी-कभी हम ऐसे लोगों के साथ रहते हैं जिन्हें हम नहीं जानते हैं, इसलिए हमारी समस्याएं और भी बढ़ जाती हैं। हमारा जीवन दुखों से भरा है। ऐसे में इन लोगों से समय रहते दूरी बना लेना ही बेहतर है।

आचार्य चाणक्य ने कटु शब्दों में अपनी भविष्यवाणियां की हैं। आचार्य चाणक्य ने कुछ लोगों को उनसे दूर रहने को कहा है। नहीं तो इन लोगों की संगति में सुखी व्यक्ति का जीवन दुखों से भर जाता है।

मूर्ख शिष्य : गुरु चाहे कितना ही परिश्रमी क्यों न हो, चाहे वह कितना भी प्रसिद्ध क्यों न हो, यदि उसका कोई शिष्य मूर्ख है, तो गुरु के जीवन को दुखी होने में देर नहीं लगती। मूर्ख शिष्य अपनी मूर्खता के कारण गुरु के जीवन में अनेक बाधाएँ लाते हैं।

दुखी और बीमार लोगों के बीच रहने वाला व्यक्ति: जो व्यक्ति दुखी और बीमार लोगों के साथ रहता है, वह विद्वान और खुश होते हुए भी कभी-कभी निराशा के गड्ढे में गिर जाता है। उसका जीवन भी दुखने लगता है।

दुष्ट स्त्री : जिस प्रकार एक अच्छी, सुसंस्कृत, शिक्षित स्त्री का संग पुरुष के जीवन को सफलता और खुशियों से भर देता है। उसी प्रकार दुष्ट स्त्री की संगति से अनेक कठिनाइयाँ बढ़ जाती हैं। यदि पत्नी दुष्ट हो, झगड़ालू हो तो संसार का कोई भी सुख और धन जीवन के दुखों को दूर नहीं कर सकता।