Monday , October 25 2021
Breaking News
Home / खबर / चिराग से ‘बदले’ के बाद जेडीयू का ‘कांग्रेस-तोड़ो’ अभियान, 12 विधायकों से होगा कामयाब?

चिराग से ‘बदले’ के बाद जेडीयू का ‘कांग्रेस-तोड़ो’ अभियान, 12 विधायकों से होगा कामयाब?

पटना
‘मिशन चिराग’ ने बिहार की सियासत में भूचाल ला दिया है। माना जा रहा है कि ताजा घटनाक्रम महज शुरुआत भर है। लोक जनशक्ति पार्टी में टूट को जेडीयू का ‘मास्टर प्लान’ बताया जा रहा है। अब इस ऑपरेशन की सफलता के बाद जनता दल यूनाइटेड कांग्रेस को तोड़ने की कोशिशें शुरू कर चुकी है। इसके लिए ‘ऑपरेशन कांग्रेस’ को लॉन्च किया जा चुका है।

बताया जा रहा है कि कांग्रेस बैक ग्राउंड से आनेवाले एक मंत्री को ऑपरेशन तेज करने की जिम्मेदारी दी गई है। बिहार विधानसभा चुनाव 2020 में कांग्रेस ने 19 सीटों पर जीत दर्ज की थी। ऐसे में कांग्रेस में किसी भी जोड़-तोड़ को बिना दल-बदल कानून के दायरे में लाए आगे बढ़ने के लिए कम से कम 13 विधायकों को मनाना होगा। जानकारी के मुताबिक 10 विधायकों ने पार्टी छोड़ने के लिए हामी भर दी है। मामला दो-तिहाई पर अटका है।

लेकिन बिहार कांग्रेस में कई ऐसे नेता हैं तो जेडीयू के ऑफर को नहीं मान रहे हैं। वो टूटने को तैयार नहीं हैं। इनमें अल्पसंख्यक समुदाय से जुड़े विधायक, पुराने कांग्रेसी परिवार से जुड़े एमएलए और नए विधायक जेडीयू के ‘ऑपरेशन कांग्रेस’ के रास्ते के रोड़ा बने हुए हैं। इस मिशन में एक जेडीयू के सांसद को भी लगाया गया है, जो अपनी जाति के विधायकों को आगे होनेवाले फायदों के बारे में बता रहे हैं। हालांकि आगे क्या होगा, इसके लिए इंतजार करना पड़ेगा।

हाल ही में कांग्रेस विधायकों के टूटने और जेडीयू में शामिल होने के सवाल को नीतीश कुमार ने टाल दिया था। हालांकि जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह ने कहा कि कांग्रेस अब एक डूबते जहाज की तरह है और इसलिए इसे अतीत की तरह कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है। जहां भी लोगों को बोलने और अपने विचार रखने का अवसर नहीं मिलेगा, संगठन पर ध्यान नहीं देंगे, केवल परिवार (नेहरू-गांधी परिवार) पर रहिएगा तो बहुत लंबा नहीं चल पाएगा। निकट भविष्य में बिहार में कांग्रेस विधायकों के पाला बदलने की संभावना के बारे में पूछे जाने पर आरसीपी सिंह ने कहा कि जब कोई पुल बनता है, तभी पार करेंगे न। जब नौबत आएगी तो देखेंगे।

दरअसल हाल के दिनों में बीजेपी के सहयोगी विकासशील इंसान पार्टी के अध्यक्ष मुकेश सहनी और जदयू के सहयोगी जीतन राम मांझी के तेवर को देखते हुए कांग्रेस में सेंधमारी की कोशिश हो सकती है। लेकिन, कांग्रेस इससे सीधा इंकार करती है। कांग्रेस विधान मंडल दल के नेता अजीत शर्मा ने कहा कि कांग्रेस आज भी देश की सबसे बड़ी पार्टी है। उसे तोड़ने का सपना देखने वालों का सपना पूरा नहीं होगा। विधायक कांग्रेस के साथ पूरी ताकत के साथ एकजुट हैं।

loading...

Check Also

खूबसूरत जेलीफिश को देखने नजदीक जाना पड़ेगा महंगा, 160 फीट लंबी मूछों में भरा है जहर

लंदन (ईएमएस)। पुर्तगाली मैन ओवर नाम की जेलीफिश आजकल ब्रिटेन के समुद्र किनारे आतंक मचा ...