Thursday , October 28 2021
Breaking News
Home / खबर / जानिए देशभर में कब से खुल सकेंगे स्कूल? सरकार ने बताया क्या है प्लान

जानिए देशभर में कब से खुल सकेंगे स्कूल? सरकार ने बताया क्या है प्लान

नई दिल्ली :  देश में कोरोना महामारी की वजह से बच्चों की पढ़ाई बुरी तरह प्रभावित हुई है। हालांकि, अब दूसरी लहर ढलान पर है। दिल्ली एम्स और विश्व स्वास्थ्य संगठन ने अपने सीरो सर्वे के हवाले से कहा है कि अब स्कूलों को खोलना बहुत ज्यादा जोखिम वाली बात नहीं है क्योंकि ज्यादातर बच्चों में पहले से ही कोरोना के प्रति एंटीबॉडी मौजूद हैं। ऐसे में लोगों के मन में सवाल उठ रहे हैं कि स्कूल दोबारा कब से खुलेंगे। सरकार आखिर इस बारे में क्या सोच रही है, शुक्रवार को इसकी झलक मिली।

‘स्टूडेंट और टीचर्स को जोखिम में नहीं डाल सकते’
नीति आयोग के सदस्य डॉक्टर वीके पॉल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि सरकार कोई जोखिम नहीं लेगी। उन्होंने कहा कि जब ज्यादा से ज्यादा शिक्षकों और स्कूलों के स्टाफ को कोरोना की वैक्सीन लग जाएगी तभी स्कूलों को फिर खोलने पर विचार किया जाएगा। डॉक्टर पॉल ने कहा हम अपने छात्रों और शिक्षकों को उस स्थिति में तब तक नहीं डाल सकते जब तक हमें यह विश्वास नहीं हो जाता कि महामारी हमें नुकसान नहीं पहुंचाएगी।

‘स्कूल खोलने से पहले कई कारकों को ध्यान में रखना होगा’
डॉक्टर वीके पॉल ने कहा कि स्कूलों को फिर से खोलने से पहले कई फैक्टर्स और पहलुओं को ध्यान में रखना होगा। उन्होंने कहा कि कई देशों में स्कूल खोले गए लेकिन संक्रमण बढ़ने के बाद उन्हें फिर बंद करना पड़ा। डॉक्टर पॉल ने कहा कि कोरोना वायरस जैसे रूप बदल रहा है, उसे देखते हुए यह नहीं कहा जा सकता कि आगे चलकर यह बच्चों को अभी की तरह ज्यादा प्रभावित नहीं करेगा। इसलिए स्कूल खोलने का फैसला तभी लिया जाएगा जब पूरा भरोसा हो जाएगा कि महामारी नुकसान नहीं पहुंचा पाएगी।

यूपी में 1 जुलाई से खुल रहे स्कूल लेकिन सिर्फ टीचर्स के लिए
यूपी सरकार ने 1 जुलाई से प्राइमरी और जूनियर स्कूलों को खोलने का आदेश जारी किया है। हालांकि, स्कूल सिर्फ प्रशासनिक कामों के लिए खुलेंगे, पढ़ाई के लिए नहीं। यानी अभी बच्चों को स्कूल आने की अनुमति नहीं है। सिर्फ टीचर और दूसरे स्टाफ ही स्कूल आएंगे। बच्चों की ऑनलाइन पढ़ाई चलेगी।

कोरोना की तीसरी संभावित लहर में बच्चों के सबसे ज्यादा प्रभावित होने की बातें कही जा रही हैं। हालांकि, सरकार ने हालिया सीरो सर्वे के आधार पर कहा है कि इन आशंकाओं में कोई दम नहीं दिख रहा। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के जॉइंट सेक्रटरी लव अग्रवाल ने कहा, ‘इस बात में कोई सच्चाई नहीं दिख रही कि तीसरी लहर में बच्चे सबसे ज्यादा प्रभावित होंगे क्योंकि सीरो सर्वे में सभी आयुवर्ग में तकरीबन एक समान सीरोपॉजिटिविटी पाई गई। लेकिन सरकार तैयारियों के लिहाज से कोई भी कसर नहीं छोड़ रही है।’

loading...

Check Also

खूबसूरत जेलीफिश को देखने नजदीक जाना पड़ेगा महंगा, 160 फीट लंबी मूछों में भरा है जहर

लंदन (ईएमएस)। पुर्तगाली मैन ओवर नाम की जेलीफिश आजकल ब्रिटेन के समुद्र किनारे आतंक मचा ...