Friday , July 23 2021
Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / कातिल कोरोना: यूपी में डेल्टा प्लस वेरिएंट लेने लगा जान, जानें लक्षण और करें बचाव

कातिल कोरोना: यूपी में डेल्टा प्लस वेरिएंट लेने लगा जान, जानें लक्षण और करें बचाव

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में कोरोना के डेल्टा वेरिएंट (Corona Delta) पर सरकार काबू पाती दिख रही है। इस बीच डेल्टा प्लस वेरिएंट (Corona Delta Plus Variant) की सूबे में दस्तक से हड़कंप मच गया है। दो मरीजों में इस नए वेरिएंट की पुष्टि हुई है। इनमें एक की मौत चुकी है, तो दूसरा मरीज स्वस्थ बताया जा रहा है। डेल्ट प्लस वेरिएंट पूर्व के सभी कोरोना वेरिएंट से अधिक जानलेवा बताया जा रहा है। देश के कई राज्यों में इसके मामले सामने आ चुके हैं। यही वजह है कि सरकार व स्वास्थ्य विभाग इसे लेकर अधिक गंभीर है। लोगों को सचेत किया जा रहा है, लेकिन जगह-जगह लापरवाही देखने को मिल रही है। यूपी लगभग पूरी तरह अनलॉक हो गया है, लेकिन कोविड नियमों का पालन नहीं होता दिख रहा है। लोग समूह में घूमते नजर आ रहे हैं। सोशल डिस्टेंसिंग व मास्क पहनने जैसे नियम हवा होते दिख रहे हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi) इस बीच टीम-9 संग बैठक कर लोगों को सावधान रहने व कोविड नियमों का पालन करवाने के निर्देश दे रहे हैं।

23 वर्षीय छात्रा में मिला डेल्टा प्लस वेरिएंट-
गोरखपुर की रहने वाली एक 23 वर्षीय एमबीबीएस की छात्रा में डेल्टा प्लस वेरिएंट मिला है। वह मूल रूप से लखनऊ की रहने वाली है और बीआरडी मेडिकल कॉलेज में पढ़ाई कर रही है। करीब एक माह पहले वह संक्रमित पाई गई थी, जिसके बाद जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए उसका सैंपल भेजा गया था। बुधवार को इंस्टीट्यूट आफ जीनोमिक्स एंड इंटीग्रेटिव बायोलाजी (आइजीआइबी), नई दिल्ली से जीनोम सीक्वेंसिंग की रिपोर्ट आई। इसमें वह डेल्टा प्लस संक्रमित पाई गई। जानकारी के मुताबिक लड़की की हालत में पहले की अपेक्षा सुधार है। वह होम आइसोलेट है।

66 वर्षीय बुजुर्ग की हुई मौत-
देवरिया के रहने वाले 66 वर्षीय बुजुर्ग 17 मई को कोरोना संक्रमित मिले थे। गंभीर हालत में उन्हें बीआरडी मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया था। जून में उनकी मौत हो गई थी। मृत्यु से पहले उनके सैंपल लिए गए थे। जिल्ली से आई टेस्ट रिपोर्ट में पाया गया कि मरीज डेल्टा प्लस वेरिएंट से संक्रमित था। इन दोनों के संपर्क में आए सौ लोगों की जीनोम सीक्वेंसिंग की गई है। किसी में भी नया वेरिएंट नहीं मिला है।

बढ़ाई गई सतर्कता-
अपर मुख्य सचिव (चिकित्सा एवं स्वास्थ्य) अमित मोहन प्रसाद ने जानकारी देते हुए कहा कि जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए भेजे गए सैंपल में दो की रिपोर्ट डेल्टा प्लस वेरिएंट पॉजिटिव आई। इसके मद्देनजर प्रदेश में सतर्कता बढ़ा दी गई है।

क्या है लक्षण-
कोरोना के डेल्टा प्लस वेरिएंट पुराने सभी वेरिएंट से ज्यादा खतरनाक है। यह फेफड़े से काफी मजबूती से चिपक जाता है और रोगी की इम्युनिटी को कमजोर कर उसे चकमा दे देता है। इससे संक्रमित व्यक्ति में गंभीर रूप से सर्दी, जुकाम, खांसी, गले में खराश व नाक बहने आदि जैसे लक्षण दिखते हैं।

loading...

Check Also

आगरा: 8.5 करोड़ की डकैती का मास्टरमाइंड है खानदानी अपराधी, दो भाइयों का हुआ एनकाउंटर, बहन पर भी 8 केस दर्ज

आगरा में मणप्पुरम गोल्ड लोन कंपनी में 8.5 करोड़ रुपए की डकैती का मास्टरमाइंड नरेंद्र ...