Friday , July 30 2021
Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव नहीं लड़ेगी BSP, मायावती के इस फैसले में छुपा है बड़ा प्लान

जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव नहीं लड़ेगी BSP, मायावती के इस फैसले में छुपा है बड़ा प्लान

उत्तर प्रदेश में जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव में बसपा की दावेदारी न करने को लेकर उठ रहे सवालों पर पार्टी अध्यक्ष मायावती ने सोमवार को सफाई दी। उन्होंने कहा कि बसपा ने इस समय प्रदेश में हो रहे जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव को न लड़ने का निर्णय लिया है। जिला पंचायत अध्यक्ष सत्ता के साथ जाते हैं। पार्टी के लोगों को निर्देश है कि वे इस चुनाव में अपना समय और ताकत लगाने की बजाय पार्टी के संगठन को मजबूत बनाने और सर्व समाज में पार्टी के जनाधार को बढ़ाने में लगाएं।

सपा के रास्ते पर BJP
मायावती ने कहा- भाजपा सपा की कार्यशैली अपना रही है। हम अपना समय बर्बाद नहीं करेंगे। इस बार उत्तर प्रदेश में होने वाले आगामी विधानसभा चुनाव में बहुजन समाज पार्टी की सरकार बन सकेगी। जब यहां बसपा की सरकार बन जाएगी तो जिला पंचायत अध्यक्ष खुद ही बसपा में शामिल हो जाएंगे। उन्होंने कहा कि मेरी पार्टी विधानसभा चुनाव में अकेले लड़ेगी। हमारी आए दिन मीटिंग चल रही है। लेकिन मीडिया के माध्यम से हमारा मनोबल तोड़ा जा रहा है।

2019 में मायावती और अखिलेश साथ आए थे
उत्तर प्रदेश में 2019 लोकसभा चुनाव के दौरान BSP (बहुजन समाज पार्टी) और SP (समाजवादी पार्टी) अपनी पुरानी लड़ाई छोड़कर एक साथ आए थे, लेकिन चुनाव में मिली हार के बाद मायावती ने इसके लिए समाजवादी पार्टी के कमजोर संगठन को जिम्मेदार ठहराया था। इसके बाद ही दोनों का गठबंधन टूट गया था।

पिछले साल बिहार में हुए विधानसभा चुनाव में BSP और असदुद्दीन ओवैसी की AIMIM ने मिलकर चुनाव लड़ा था। तब से ही ये चर्चाएं शुरू हो गई थीं कि यूपी में भी AIMIM और BSP एक साथ आ सकते हैं। लेकिन रविवार को बसपा सुप्रीमो ने उन खबरों का खंडन भी कर दिया जिनमें कहा जा रहा था कि यूपी में बसपा और असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी AIMIM के बीच गठबंधन हो सकता है। बाद में शाम को आवैसी ने भी बसपा से गठबंधन की खबरों को गलत बताया।

loading...

Check Also

सहारनपुर: 10 साल बाद फिर नितिन बना अली हसन, बोला- सुंदर लड़कियों से शादी का था लालच

उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में धर्म परिवर्तन का एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है। ...