Saturday , December 4 2021
Home / ऑफबीट / ट्रंप ने जिसके लिए भारत को धमका दिया, अमेरिका को अब क्यों नहीं चाहिए वो दवा !

ट्रंप ने जिसके लिए भारत को धमका दिया, अमेरिका को अब क्यों नहीं चाहिए वो दवा !

खबर आ रही है कि जिस हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वाइन दवा को मांगने के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारत को धमका तक दिया, वह कोरोना के इलाज में कारगर नहीं बल्कि खतरनाक सिद्ध हो रही है। इस दवा को देने से कोरोना के मरीजों में हार्ट से जुड़ी गंभीर समस्याएं उत्पन्न हो जा रही हैं। इसी खतरे को देखते हुए खुद अमेरिकी स्वास्थ्य विभाग ने अपनी वेबसाइट से इस दवा को कोरोना पीड़ित को दिए जाने की सलाह व जानकारी को हटा दिया है। यही नहीं, फ्रांस सरकार ने तो इस दवा को कोरोना पीड़ितों को न दिए जाने का बाकायदा निर्देश भी जारी कर दिया है।

अगर इसे स्वास्थ्य विशेषज्ञों का अंतिम फैसला मान लिया जाए तो यह भी तय है कि अब अमेरिका भी इस दवा की खरीद को रोक देगा। जाहिर है, ऐसे में ट्रम्प की गीदड़ भभकी और हड़बड़ी का शिकार होकर प्रधानमंत्री नरेंद् मोदी द्वारा इस दवा का उत्पादन बड़े पैमाने पर बढ़वाने के फैसले का नुकसान भी भारतीय उद्योग जगत को झेलना पड़ेगा। जबकि भारतीय उद्योग जगत पहले से ही लॉक डाउन के चलते कोमा में जा चुका है।

हालांकि अभी अमेरिकी सरकार ने आधिकारिक तौर पर भारत को अपने मोजूदा ऑर्डर या भविष्य में इस दवा की जरूरत को लेकर कोई सूचना तो नहीं दी है मगर वहां के मेडिकल जगत द्वारा इस दवा को लेकर दिख रही निराशाजनक प्रतिक्रिया साफ बता रही है कि ट्रम्प ने भले ही इस दवा को लेकर हाय तौबा मचा रखी हो….मगर यह दवा कोरोना में काम आ ही जाएगी, इसकी फिलहाल कोई गारंटी नहीं है।

लिहाजा भारत को रातों रात इस दवा का उत्पादन बढ़ाकर कई गुना करने की बजाय केवल कन्फर्म्ड आर्डर और अपनी घरेलू जरूरत के हिसाब से ही सीमित रखना चाहिए।

(ये लेख वरिष्ठ पत्रकार अश्विनी कुमार श्रीवास्तव की फेसबुक वॉल से साभार लिया गया है. ये लेखक के निजी विचार हैं.)

loading...

Check Also

पेट्रोल-डीजल की कमी के बाद अब इस देश में अंडरवियर्स और पजामे की भारी किल्लत

लंदन (ईएमएस)।आपकों जानकार हैरानी होगी कि यूके में इन दिनों अंडरवियर्स और पजामे की भारी ...