Saturday , September 25 2021
Breaking News
Home / खबर / मौत का कुआंः अगर ‘नींद’ में नहीं होता अफसर तो बच जाती लोगों की जान!

मौत का कुआंः अगर ‘नींद’ में नहीं होता अफसर तो बच जाती लोगों की जान!

विदिशा। जिले के गंजबासौदा में बच्चे को बचाने के दौरान कई लोग कुएं में गिर गए थे, जिसमें से अब तक 4 लोगों के शव बाहर निकाले जा चुके हैं, वहीं 12 से अधिक लोग अब भी लापता हैं, वहीं इस हादसे में 16 लोग घायल हुए हैं, जिन के घायल होने की सूचना मिली है, जिनमें से 4 घायलों का इलाज भोपाल और विदिशा में हो रहा है, जबकि 12 लोगों का इलाज राजीव गांधी शासकीय चिकित्सालय में हो रहा है, मौके पर प्रभारी मंत्री विश्वास सारंग सहित आईजी कलेक्टर के साथ बड़ी संख्या में फोर्स तैनात है.

पूर्व विधायक और कांग्रेस नेता निशंक जैन ने प्रशासन पर गंभीर आरोप लगाए हैं, उनका कहना है कि प्रशासन समय पर रेस्क्यू करने नहीं पहुंचा, सहायता के लिए थाना प्रभारी को समय पर फोन लगाया गया, लेकिन वे भी मौके पर नहीं पहुंचे, यदि समय पर रेस्क्यू शुरू कर दिया जाता, तो जनहानि को रोका जा सकता था.

कांग्रेस नेता निशंक जैन ने प्रशासन पर आरोप लगाते हुए कहा कि हादसे के तुरंत बाद थाना प्रभारी सिम्मी देसाई को सूचना दी गई, लेकिन पुलिस की टीम मौके पर नहीं पहुंची, जब मामला तूल पकड़ता दिखा, तब कई घंटों बाद प्रशासन की टीम रेस्क्यू करने पहुंची, तब तक कई लोगों ने दम तोड़ दिया था.

जिस कुएं में बड़ी संख्या में लोग गिरे हैं, उसकी शिकायत कई बार प्रशासन से रहवासी कर चुके हैं, पीएचई की नल जल योजना के तहत कुएं का निर्माण 8 साल पहले किया गया था, जो अब जर्जर हालत में है, इसकी रिपेयरिंग कराने के लिए ग्रामीणों ने लिखित आवेदन भी दिया था, इसके बावजूद इसी ठीक नहीं कराया जा सका था, जिसके जिस वजह से ये हादसा हुआ.

कांग्रेस नेता निशंक जैन का कहना है कि पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ लगातार इस मामले में जानकारी ले रहे हैं, मुख्यमंत्री कमलनाथ ने ट्वीट कर पीड़ित परिवार के लिए शोक संवेदनाएं भी व्यक्त की हैं, निशंक जैन ने शिवराज सरकार से से मृतक के परिजनों को ₹10 लाख देने की मांग की है.

loading...

Check Also

पंजाब के नए मुख्यमंत्री का भांगड़ा वाला वीडियो हुआ वायरल तो एक्ट्रेस स्वरा का यूं आया रिएक्शन

नई दिल्ली :  पंजाब के नए मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी का एक वीडियो सोशल मीडिया ...