Thursday , October 21 2021
Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / मोदी-योगी के बीच ‘दरार’ बता रहे थे जो लोग, दोनों ने उनको कर दिया ‘ट्रोल’

मोदी-योगी के बीच ‘दरार’ बता रहे थे जो लोग, दोनों ने उनको कर दिया ‘ट्रोल’

पिछले कुछ दिनो से मीडिया का एक तबका आधारहीन खबरों को हवा दे रहा है। जैसे कि, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच मतभेद चल रहा है और उत्तर प्रदेश के ब्राह्मण योगी आदित्यनाथ से नाराज है। लेकिन हमेशा की तरह इस बार भी प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मिलकर इन खबरों की हवा निकाल दी है। दरअसल, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को उत्तर प्रदेश सरकार की एक पहल की प्रशंसा की, जिसमें वरिष्ठ नागरिकों को अन्य सेवाओं के साथ स्वास्थ्य सेवा और कानूनी सहायता प्रदान करने के लिए हेल्पलाइन सुविधा की पेशकश की गई थी।

यूपी के मुख्यमंत्री ने प्रशंसा को स्वीकार करते हुए, PM के ट्वीट का जवाब देने में कोई देरी किया बिना ट्वीट किया, “आपके सर्वसमावेशी मंत्र ‘सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास’ से ही प्रेरणा लेकर अपने प्रदेश के वृद्ध नागरिकों को ‘प्रोजेक्ट एल्डरलाइन’ के माध्यम से सहयोग, भावनात्मक देखभाल और समर्थन देने का कार्य कर रही है। सभी प्रदेशवासियों की ओर से आपकी आत्मीय प्रशंसा हेतु हार्दिक आभार।”

बता दें कि हाल ही में योगी आदित्यनाथ प्रधानमंत्री से अधिकारिक तौर पर मिलने दिल्ली गए हुए थे। इस मीटिंग की आड़ में मीडिया का एक तबका इन दोनों के बीच तनाव की खबरें फैलाना तेज कर दिया था। साथ ही एक खबर और फैलाई गई थी कि साल 2022 के विधान सभा चुनाव में बीजेपी आलाकमान उत्तरप्रदेश के नेतृत्व में बदलाव कर सकती है।

इन दोनों आधारहीन खबरों पर पीएम मोदी ने सांकेतिक ट्विट करके करारा जवाब दे दिया है। आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने ट्वीट में बस यही लिखा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की यह बहुत अच्छी पहल है। सिर्फ एक लाइन के ट्वीट ने लिबरल मीडिया और विरोधी दलों द्वारा लगाए जा रहे कयास पर पूर्ण विराम लगा दिया है।

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश सरकार ने पिछले साढ़े चार सालों में विकास की नई बुलंदियों को छुआ है। गुंडों और दबंगों के खात्मे की कहानी से कौन वाकिफ नहीं है। शांतिप्रिय न्याय प्रशासन की वजह से आज उत्तर प्रदेश की जानता चैन की नींद सो पा रही है। ऐसे में विरोधी दलों और लिबरल ब्रिगेड के पास मुद्दे की कमी हो गई है, जिसके वजह से उनका कहानी बनाना लाज़िमी था।

बहरहाल, लेफ्ट लिबरल मीडिया ने मोदी योगी के बीच में फूट डालकर भी देख लिया, नतीजा फिर उन्हें एक बार और मुंह की खानी पड़ी। अब यह देखना दिलचस्प होगा कि ये मीडिया क्या नई कहानी पका रही है।

loading...

Check Also

खूबसूरत जेलीफिश को देखने नजदीक जाना पड़ेगा महंगा, 160 फीट लंबी मूछों में भरा है जहर

लंदन (ईएमएस)। पुर्तगाली मैन ओवर नाम की जेलीफिश आजकल ब्रिटेन के समुद्र किनारे आतंक मचा ...