Sunday , June 13 2021
Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / पूरे यूपी में हटा कोरोना कर्फ्यू, ये पाबंदी अभी भी रहेगी जारी, नई गाइडलाइन का इंतजार

पूरे यूपी में हटा कोरोना कर्फ्यू, ये पाबंदी अभी भी रहेगी जारी, नई गाइडलाइन का इंतजार

लखनऊ:  देशभर में कोरोना (UP unlock) के मामलों की रफ्तार धीरे-धीरे कम हो रही है. यूपी में भी पिछले कुछ दिनों में मामले लगातार घट रहे हैं, जिसके चलते सभी जिलों से कोरोना कर्फ्यू को हटा लिया गया है. अब सिर्फ शाम 7 बजे से सुबह 7 बजे तक नाइट कर्फ्यू रहेगा.  सभी जिलों में कोरोना के सक्रिय केस 600 से कम आ रहे हैं. अपर मुख्य सचिव सूचना नवनीत सहगल ने जानकारी दी कि 9 जून से पूरे प्रदेश के सभी 75 जिलों में शाम 7 बजे से सुबह 7 बजे तक नाइट कर्फ्यू रहेगा. उन्होंने ये भी बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ उच्चस्तरीय बैठक में ये फैसला लिया गया.  उन्होंने ये भी बताया कि सभी जिलों में कोरोना के एक्टिव केस कम हुए हैं. अब प्रदेश में कुल 14 हजार कोरोना पीड़ितों का इलाज चल रहा है.

नोएडा मेट्रो सेवा भी हो रही है चालू
उत्तर प्रदेश के नोएडा में मेट्रो की सेवाएं नौ जून से बहाल होंगी. हालांकि, कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए मेट्रो ट्रेन सुबह सात बजे से रात आठ बजे तक ही चलेगी. इसके अलावा, सप्ताहांत कर्फ्यू वाले दिन शनिवार और रविवार को सेवाएं पूरी तरह बंद रहेंगी. ट्रेनों की फ्रीक्वेंसी में भी बदलाव किया गया है. अब पीक ऑवर (अधिक भीड़ वाला समय) के दौरान मेट्रो सेवा 15 मिनट के अंतराल पर उपलब्ध होगी. जबकि बाकी समय में 30 मिनट के अंतराल पर मेट्रो मिलेगी.नोएडा मेट्रो रेल निगम (एनएमआरसी) की प्रबंध निदेशक ऋतु महेश्वरी ने बताया कि कोरोना महामारी की वजह से एनएमआरसी की सभी रेल सेवाएं बीते एक मई से स्थगित कर दी गई थीं. हालांकि, अब गौतम बुद्ध नगर में लॉकडाउन से राहत मिल गई है. ऐसे में नौ जून से फिर से नोएडा-ग्रेटर नोएडा मेट्रो सेवाएं बहाल करने का फैसला लिया गया है.

यूपी में कोरोना के मामले हुए कम
बीते 24 घंटे में यूपी में कोरोना के 797 नए मामले सामने आए, हालांकि जिलों में एक्टिव मरीजों की संख्या 600 से कम है. रिकवरी रेट भी बढ़कर 97.10 फीसदी हो गया है. सीएम योगी ने भी सोमवार को कहा था कि कोरोना महामारी के दृष्टिगत प्रदेश की स्थिति हर दिन के साथ बेहतर होती जा रही है और अब राज्य में कुल उपचाराधीन मामले घटकर 17,900 रह गए हैं, लेकिन हमें यह समझना होगा कि वायरस कमजोर पड़ा है, समाप्त नहीं हुआ है, थोड़ी-सी लापरवाही बहुत भारी पड़ सकती है, इसलिए कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करना सभी की जिम्मेदारी है.

loading...
loading...

Check Also

करगिल विजय की कहानी: आज ही मिली थी पहली जीत, तोलोलिंग चोटी पर लहराया तिरंगा

आज से 22 साल पहले करगिल युद्ध लड़ा गया था। करगिल युद्ध में सबसे पहली ...