Sunday , September 26 2021
Breaking News
Home / खबर / राजस्थान के इन जिलों को डुबा दी बाढ़, जानें आगे कैसे रहेंगे मौसम के हालात

राजस्थान के इन जिलों को डुबा दी बाढ़, जानें आगे कैसे रहेंगे मौसम के हालात

जयपुर। भारी बारिश के कारण कोटा-बूंदी-बारां-धौलपुर सहित अन्य जिलों में बाढ़ के हालत बन गए हैं। बारां जिले में कई दिनों से लगातार दो सौ मिमी से अधिक बारिश हो रही है। अब कोटा संभाग के कई जिलों में ऐसी स्थिति हो चुकी है कि जहां देखो, वहां पानी ही पानी नजर आ रहा है।

बात करें कोटा की तो 230 लोगों को तो एसडीआरएफ की टीम ने 400 से अधिक ग्रामीणों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया। बड़ोद में कालीसिंध नदी की पुलिया पर करीब 4 फीट की चादर चल रही है। भारी बारिश के कारण कोटा-इटावा मार्ग बंद हो गया। मारवाड़ा चौकी में रेलवे अंडर ब्रिज के नाले में पानी की आवक होने से आवागमन बंद है।

वहीं बूंदी जिले में जैतसागर झील के बरसाती नाले में आए उफान से शहर दो हिस्सों में बंट गया। मेज नदी पर लाखेरी के निकट पापड़ी पुलिया पर पानी आने के बाद कोटा-दौसा मेगा स्टेट हाईवे पर आवागमन बंद हो गया। पिछले 24 घंटों में बारां, सवाई माधोपुर, कोटा और बूंदी जिलों में कहीं-कहीं अत्यंत भारी बारिश दर्ज की गई है। सर्वाधिक बारिश 280 मिमी खातोली, कोटा में दर्ज की गई है।

चंबल खतरे के निशान से 14.60 मीटर ऊपर
धौलपुर जिले में चंबल का पानी करीब 120 गांव व ढाणियों में बाढ़ का पानी प्रवेश कर चुका है। गांवों के लोगों को ऊंचे स्थानों पर भेजा गया। बुधवार देर शाम चंबल का जलस्तर 144.60 पहुंच गया, जो कि खतरे के निशान से करीब 14.60 मीटर ऊपर है। यह पानी गुरुवार तक धौलपुर पहुंच जाएगा। बाढ़ प्रभावित 23 ग्राम पंचायतों के 65 राजस्व गांवो में 21 मेडिकल टीमें तैनात अलर्ट मोड़ पर कार्य करते हुए दवा वितरण कार्य कर रही है।

कोटा बैराज से एक लाख क्यूसेक पानी की निकासी
मंगलवार देर रात 3 बजे चम्बल नदी पर बने कोटा बैराज बांध के 10 गेट खोलकर एक लाख क्सूसेक पानी की निकासी की गई। देर रात 3 बजे कोटा बैराज के दस गेट खोलकर 1 लाख क्यूसेक पानी की निकासी की गई। उसके बाद बुधवार को दिन तक 10 गेट खोलकर 78,760 क्यूसेक पानी की निकासी की गई। शाम को पानी की आवक कम होने से 4 गेट खोलकर 11 हजार क्यूसेक पानी की निकासी की गई।

आगे क्या होगा
पश्चिमी मध्य प्रदेश के ऊपर बना अति कम दबाव का क्षेत्र बुधवार को कमजोर होकर कम दबाव के क्षेत्र में परिर्वितत हो गया। यह अभी भी उत्तर पश्चिमी मध्य प्रदेश व आसपास के क्षेत्र के ऊपर बना हुआ है। इसी कारण मध्यप्रदेश कुछ जिलों एवं उससे लगते राजस्थान के इलाकों में भी भारी बारिश हो रही है।

मौसम विभाग के अनुसार कम दबाव के क्षेत्र के धीरे-धीरे कमजोर होने से पूर्वी राजस्थान में बारिश की गतिविधियों में कमी होने की संभावना है। हालांकि कोटा संभाग के जिलों में कहीं-कहीं भारी बारिश व एक दो स्थानों पर अति भारी बारिश होने की संभावना आगामी 24-48 घंटों के दौरान बनी रहेगी।

5 अगस्त को करौली, बूंदी, कोटा, बारां व सवाईमाधोपुर में एक-दो स्थानों पर अति भारी बारिश हो सकती है। वहीं 6 और 7 अगस्त सवाई माधोपुर, करौली, धौलपुर में भारी बारिश हो सकती है।

loading...

Check Also

कानपुर : आपसे लक्ष्मी माता है नाराज, शिक्षिका से लाखों रुपए की टप्पेबाजी कर फरार हुए शातिर

तीन थानों की पुलिस फोर्स संग मौके पर पहुंचे एडीसीपी कानपुर  । शहर के सीसामाऊ ...