Tuesday , May 18 2021
Breaking News
Home / ऑफबीट / पाकिस्तान ने फैलाया ये झूठ तो रूस ने सामने आकर निकाल दी हवा !

पाकिस्तान ने फैलाया ये झूठ तो रूस ने सामने आकर निकाल दी हवा !

पाकिस्तान की ये फितरत रही हैं कि वो हमेशा झूठ का सहारा लेते हुए भारत को नीचा दिखाने के मकसद से एक के बाद एक प्रोपेगेंडा फैला रहता है. लेकिन हर बार उसके इन प्रोपेगेंडाओं की हवा निकल ही जाती है. जिसके बाद पूरी दुनिया में उसकी भयंकर वाली बेइज्जती होती है. खुद को बड़ा साबित करने के लिए कई बार पाकिस्तान ने भारत की नकल करने की कोशिशें की लेकिन उसे हर बार औंधे मुँह ही गिरना पड़ा. एक बार फिर से पाकिस्तान ने भारत के रूस से संबध कमतर दिखाने और खुद के साथ मजबूत दिखाने के लिए झूठ का सहारा लिया. मगर खुद रूस ने सामने आकर उसके इस झूठ की हवा निकालकर रख दी.

दरअसल रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव के दौरे के बाद पाकिस्तान ने दावा किया था उसे राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की तरफ से हर मोर्चे पर आर्थिक मदद मुहैया कराने का प्रस्ताव मिला है. इमरान सरकार ने इसे पुतिन सरकार की तरफ से ब्लैंक चेक का प्रस्ताव करार दिया था. लेकिन अब रूसी राजनियकों ने इसे झूठ बताया है.

दरअसल रूस के राजनियकों ने ब्लैंक चेक वाले पाकिस्तान के दावे को झूठा प्रचार और फेक न्यूज का हिस्सा बताया है. बिजनेस अखबार इकोनॉमिक्स टाइम्स ने बताया कि ब्लैंक चेक वाली कोई बात नहीं है. और पाकिस्तानी मीडिया में ब्लैंक चेक संबंधी प्रकाशित खबरों को प्रोपेगेंडा और फेक न्यूज बताया है.

‘रूस के साथ अपने रिश्तों को बढ़ा-चढ़ाकर बताने की पाकिस्तान की पुरानी आदत है. राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की पीएम नरेंद्र मोदी के प्रति प्रतिबद्धता को कम करने का कोई प्रयास नहीं किया जा रहा है. मॉस्को पाकिस्तान को सैन्य उपकरण बेचने नहीं जा रहा है.

बता दें कि हाल ही में रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने भारत के बाद पाकिस्तान का दौरा किया था. उस दौरान लावरोव ने पाकिस्तान को आर्थिक मदद सहित सैन्य उपकरण मुहैया कराने की बात कही थी. इसे भारत के सामने चुनौती की तरह देखा गया. साथ ही विश्लेषकों ने कहा कि रूस-पाकिस्तान-चीन अब ज्यादा करीब हो रहे हैं जबकि रूस के भारत के साथ ऐतिहासिक द्विपक्षीय संबंध रहे हैं.

पाकिस्तान के अंग्रेजी अखबार द ट्रिब्यून एक्सप्रेस ने पिछले सप्ताह दावा किया था कि जब लावरोव ने भारत के बाद इस्लामाबाद का दौरा किया, तो उन्होंने पाकिस्तानी नेतृत्व को एक “महत्वपूर्ण” संदेश दिया. संदेश राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन का था.

द ट्रिब्यून एक्सप्रेस ने एक पाकिस्तानी अधिकारी के हवाले से लिखा, लावरोव ने कहा है, ‘मैं अपने राष्ट्रपति की तरफ से एक संदेश लेकर आया हूं जिसमें उन्होंने कहा है कि पाकिस्तान को चाहे जिस चीज की भी जरूरत हो, रूस हर मदद के लिए तैयार है.

पाकिस्तानी अधिकारी का दावा था कि दूसरे शब्दों में कहें तो रूसी राष्ट्रपति ने एक तरह से ब्लैंक चेक का प्रस्ताव दिया है. दावा किया गया कि ये वो अधिकारी था जो रूसी विदेश मंत्री और पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी की बंद दरवाजे के पीछे हुई बातचीत में शामिल था. लेकिन अब रूसी राजनयिकों के सूत्रों ने पाकिस्तान के इस दावे को खारिज कर दिया है.

फिलहाल, रूस के राजनयिक सू्त्रों ने कहा है कि पाकिस्तान की मीडिया रूस से अपने देश के रिश्ते के बारे में फेक न्यूज छापती है. रूसी राजनयिकों के इस दावे से पहले नई दिल्ली में रूसी रानयिकों ने कहा कि रूस के पाकिस्तान के साथ संबंध सीमित हैं, जबकि भारत उसका पुरानी साथी है. तो देखा आपने एक बार फिर से झूठ फैलाकर पाकिस्तान ने खुद की बेइज्जती करा ली. वैसे भी जिसने जमीन और जमीर दोनों की बेच दिए हों. उसपर फर्क की क्या पड़ेगा बेइज्जती कराने का.

loading...
loading...

Check Also

यूपी में कोरोना : BJP विधायक का तंज- ज्यादा बोलूंगा तो देशद्रोह का केस हो जाएगा

कोरोना महासंकट के दौरान अस्पतालों में मेडिकल सुविधाओं की कमी के कारण भारत में हर ...