Friday , July 30 2021
Breaking News
Home / खबर / 14 साल की लड़की के 100 बार बलात्कार और हत्या की कहानी, कान फेस्टिवल में छाएगी ‘धूमकुड़िया’

14 साल की लड़की के 100 बार बलात्कार और हत्या की कहानी, कान फेस्टिवल में छाएगी ‘धूमकुड़िया’

‘धूमकुड़िया’ (Dhoomkudiya) टूटे हुए सपनों की कहानी, जो उन हज़ारों आदिवासी लड़कियों की कहानी है जिन्हें झूठे वादों पर बड़े शहरों में ले जाया जाता है और उनका शोषण किया जाता है। ‘धूमकुड़िया’ झारखंड की 14 साल की एक लड़की के जीवन की सच्ची घटनाओं पर बनी एक फिल्म है। इस फिल्म को 12 जुलाई को प्रतिष्ठित कान फिल्म महोत्सव में प्रदर्शित किया जाएगा।

फिल्म के निर्देशक नंदलाल नायक जो स्वयं एक लोक कलाकार होने के साथ एक संगीत निर्देशक भी हैं, उनका कहना है कि वह अब भी उस लड़की की आंखों में दिखने वाले डर को याद करते हैं जिसकी जिंदगी की वास्तविक घटनाओं पर फिल्म आधारित है। फिल्म को पहले ही क्रिटिक्स की प्रशंसा मिल चुकी है और अब इसे विश्व प्रसिद्ध कान फिल्म महोत्सव में दिखाया जाएगा।

नायक ने इंटरव्यू में कहा कि वह लड़की की कहानी सुनकर करीब-करीब डिप्रेशन में चले गए थे, वह लड़की किस तरह से दिल्ली के एक पॉश इलाके में यौन शोषण का शिकार होने के बाद वहां से निकलकर भागी। ‘धूमकुड़िया’ की शूटिंग 52 दिनों में झारखंड के अंदरूनी इलाकों में हुई। इस फिल्म को 84 देशों में अब तक 60 से अधिक पुरस्कारों से सम्मानित किया जा चुका है।

नंदलाल नायक पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित लोक कलाकार मुकुंद नायक के बेटे हैं। अमेरिकन इंस्टिट्यूट ऑफ इंडियन स्टडीज में स्कॉलरशिप पाने के बाद नंदलाल अमेरिका चले गए थे, इसके बाद वह 2003 में पारंपरिक आदिवासी लोक संगीत पर अनुसंधान के सिलसिले में अपने गांव लौटे। नंदलाल ने कहा, ‘मैं आदिवासी संगीत के बारे में जानने के लिए झारखंड के एक गांव में गया। उस दौरान मैं 14 साल की एक लड़की से मिला। गांव के लोग बड़ी ही उत्सुकता के साथ मेरी कहानी सुनने के लिए मेरे पास आ रहे थे, लेकिन यह बच्ची बेहद शांत और किसी भी चीज को लेकर इच्छुक नहीं थी।’

नंदलाल ने कहा, ‘मैंने उसे गोद लेने का फैसला किया। कुछ महीनों के लिए मैं अमेरिका चला गया, लौटने पर मुझे पता चला कि उसे कई बार बेचा जा चुका है और उसकी हत्या करने से पहले उसके साथ 100 से अधिक बार दुष्कर्म किया गया था।’ निर्देशक ने कहा, ‘इसके बाद मैं डिप्रेशन में चला गया और मैंने आदिवासी संगीत पर अपने अनुसंधान को छोड़ दिया और उसकी जिंदगी पर एक फिल्म बनाने का फैसला किया। इससे पहले मैं कई बड़े फिल्म निर्देशकों और कलाकारों के साथ काम कर चुका था, लेकिन यह फिल्म बनाने में किसी ने मेरी मदद नहीं की।’

फिल्म में प्रमुख किरदार रिंकल कच्चप और प्रद्युमन नायक ने निभाए हैं। इसके अलावा राजेश जैश, सुब्रत दत्ता, विनोद आनंद और गीता गुहा भी फिल्म में अहम भूमिका में हैं। फिल्म में काम करने वाले अधिकतर लोग प्रतिष्ठित राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय से हैं।

loading...

Check Also

IND vs SL 3rd T20: भारत की शर्मनाक हार में करिश्माई कैच लपके श्रीलंकाई कप्तान, देखें Video

श्रीलंका के खिलाफ तीसरा टी20 मैच भारत की लचर बल्लेबाजी के लिए हमेशा याद किया ...