Thursday , October 21 2021
Breaking News
Home / क्राइम / फेक एनकाउंटर : शिकार पर निकले युवक को पुलिस ने मारी गोली, बता दिया नक्सली

फेक एनकाउंटर : शिकार पर निकले युवक को पुलिस ने मारी गोली, बता दिया नक्सली

रांची
झारखंड के लातेहार में पुलिस का नक्सलियों से मुठभेड़ नहीं हुआ था। बल्कि शिकार पर निकले युवकों पर पुलिस ने गोली चलाई थी। जिसमें एक ग्रामीण की मौत हो गई और दूसरा अस्पताल में भर्ती है। जबकि कुछ नौजवानों को हिरासत में लेकर पुलिस पूछाताछ कर रही है।

नक्सली के भ्रम में निर्दोष मारा गया
भाकपा माओवादी के रीजनल कमांडर छोटू खरवार के दस्ते की गतिविधि की सूचना पर शनिवार को सर्च ऑपरेशन के लिए पुलिस निकली थी। सुबह में एक उग्रवादी को मुठभेड़ में मार गिराने का दावा किया गया था। स्थानीय ग्रामीणों का आरोप है कि पुलिस ने जंगल में शिकार करने गए निर्दोष ग्रामीण को अपना निशाना बनाया। मृतक की पहचान 24 वर्षीय ब्रह्मदेव सिंह के रूप में की गई है। इस मुठभेड़ में एक और ग्रामीण के भी घायल होने की बात कही गई है।

जनी शिकार पर निकले युवक की मौत
यह घटना गारु थाना क्षेत्र के पीरी जंगल में हुई। इसमें एक ग्रामीण घायल भी हुआ है, जिसकी पहचान 25 वर्षीय दीनानाथ सिंह के रूप में हुई है। दीनानाथ को बाएं हाथ में गोली लगी है। मृतक ब्रह्मदेव सिंह और घायल दीनानाथ दोनों पीरी गांव के बानोबार टोला के रहने वाले हैं। मृतक ग्रामीण की तीन साल का बेटा है। पुलिस की इस कार्रवाई के बाद गांव के लोग दहशत में हैं। मृतक के पिता सुशीलचंद्र सिंह समेत कई ग्रामीणों ने बताया कि गांव में परंपरा के अनुसार जनी शिकार (आदिवासी समाज में साल में एक बार इस महीने में लोग जंगली पशुओं के शिकार पर निकलते हैं ) पर ग्रामीण निकले थे।

गोलीबारी पर ग्रामीणों ने क्या कहा
जनी शिकार के लिए गांव के छह युवक जंगल में गए थे। इसी दौरान पुलिस ने युवक को गोली मार दी। मृत युवक के साथ गांव के ही रघुनाथ सिंह, सुकुल देव सिंह, गोविंद सिंह, राजेश्वर सिंह और दीनानाथ सिंह गए थे। जिसे पुलिस ने अपनी हिरासत में ले रखा है। घटना की सूचना मिलते ही गांव के सभी महिला पुरुष ग्रामीण एकत्रित हुए और पुलिस की इस कार्रवाई से आक्रोशित नजर आए। पुलिस को घेर लिया। ग्रामीण महिलाओं ने कहा कि मृतक की पत्नी और उसके तीन साल के अबोध बेटे की परवरिश आखिर कौन करेगा? लाख प्रयास के बाद भी ग्रामीणों को पुलिस ने घटनास्थल पर नहीं जाने दिया। ग्रामीणों ने बताया कि पीरी गांव के छह लड़कों के टोली भरठूआ बंदूक के साथ खरहा या सूअर का शिकार करने निकली थी कि पुलिस से भिड़ंत हो गई।

फायरिंग को लेकर पुलिस ने क्या कहा
इधर, लातेहार के एसपी प्रशांत आनंद ने कहा कि इलाकों में सीआरपीएफ, कोबरा, झारखंड जगुआर की टीम नक्सलियों के खिलाफ संयुक्त रुप से अभियान चला रही थी। इसी दौरान पिरी जंगल के पास कुछ युवकों को हथियार के साथ देखा गया। युवकों ने पुलिस को जैसे ही देखा उनके तरफ फायरिंग की गई। जिसके बाद पुलिस के जवाबी फायरिंग में एक युवक की मौत हो गई। युवक के साथ गए पांच और युवकों की गिरफ्तार किया गया। उससे पूछताछ की जा रही है। गिरफ्तार युवकों के पास से पांच देशी भरठूआ बंदूक भी बरामद किया गया है। मृत ग्रामीण ब्रह्मदेव सिंह के पास से भी एक भरठूआ बंदूक बरामद किया गया है।

loading...

Check Also

खूबसूरत जेलीफिश को देखने नजदीक जाना पड़ेगा महंगा, 160 फीट लंबी मूछों में भरा है जहर

लंदन (ईएमएस)। पुर्तगाली मैन ओवर नाम की जेलीफिश आजकल ब्रिटेन के समुद्र किनारे आतंक मचा ...