Monday , October 18 2021
Breaking News
Home / क्रिकेट / न्यूजीलैंड बना टेस्ट का पहला वर्ल्ड चैंपियन, अंतिम चार विकेटों के लिए बने 87 रनों से डूबा भारत

न्यूजीलैंड बना टेस्ट का पहला वर्ल्ड चैंपियन, अंतिम चार विकेटों के लिए बने 87 रनों से डूबा भारत

भारत को 8 विकेट से हराकर न्यूजीलैंड पहली वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप की विजेता बन गई। न्यूजीलैंड ने 139 रनों का पीछा करते हुए महज 2 विकेट खोकर लक्ष्य हासिल कर लिया। न्यूजीलैंड के लिए केन विलियमसन ने सबसे ज्यादा 52 रन बनाए। भारत के लिए रविचंद्रन अश्विन ने 2 विकेट लिए। दो साल चली पहली वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप के विजेता का फैसला मैच के अंतिम दिन के अंतिम सत्र के अतिरिक्त समय में हुआ। फाइनल मुकाबले में जीत के साथ न्यूजीलैंड इस ट्राॅफी को जीतने वाला पहला देश बन गया। वहीं न्यूजीलैंड ने 21 साल बाद कोई आईसीसी ट्राॅफी जीती। इससे पहले न्यूजीलैंड ने 2000 में चैम्पियंस ट्राॅफी जीती थी। आईसीसी वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप में न्यूजीलैंड भारत के खिलाफ अजेय रहा। ट्राॅफी में भारत ने न्यूजीलैंड के खिलाफ 3 मैच खेले और तीनों में ही हार का सामना करना पड़ा।

कुछ गलत निर्णय, बल्लेबाजों के खराब प्रदर्शन के साथ-साथ विपक्षी टीम के पुछल्ले बल्लेबाजों को आउट नहीं कर पाने की समस्या भारत के इस मुकाबले में हार के प्रमुख कारण रहे। न्यूजीलैंड को पहली पारी में 32 रन की बहुमूल्य लीड मिली। जो अंतिम दिन भारत की हार और जीत के बीच का अहम अंतर साबित हुई। पहली पारी में न्यूजीलैंड का छठा विकेट 162 रन के स्कोर पर गिर गया था। यहां से न्यूजीलैंड की टीम को आउट करने में भारत ने 87 रन खर्च कर दिए। नतीजतन न्यूजीलैंड ने 249 रन बना डाले और भारत पर 32 रन की लीड ले ली।

वहीं दूसरी ओर भारत की पहली पारी का छठा विकेट 182 रन पर गिरा। इसके बाद भारतीय टीम को समेटने में न्यूजीलैंड टीम ने महज 35 रन खर्च किए और 217 पर भारत को आउट कर दिया। इसी तरह दूसरी पारी में भी भारत का छठा विकेट 142 रन के स्कोर पर गिरा। इसके बाद भारतीय पारी 170 रन पर सिमट गई। यानी न्यूजीलैंड ने अंतिम चार विकेट लेने में महज 28 रन खर्च किए।

न्यूजीलैंड की एक पारी में उनके अंतिम चार विकेट लेने में जहां भारत ने 87 रन खर्च कर दिए। वहीं दूसरी ओर भारतीय की दो पारियों में अंतिम 4 विकेट यानी 8 विकेट लेने में न्यूजीलैंड ने 63 रन ही खर्च किए। यानी न्यूजीलैंड के अंतिम चार विकेट पर बनाए 87 रन के बराबर भारतीय टीम दो पारियों में भी नहीं बना पाई। यही दोनों टीमों के बीच मुकाबले में बड़ा अंतर साबित हुआ।

हार की ये भी रही बड़ी वजह

तीन तेज गेंदबाज: भारत ने सिर्फ तीन तेज गेंदबाज ही खिलाए। जबकि न्यूजीलैंड पांच गेंदबाजों के साथ उतरा। भारत के लिए सिर्फ ईशांत शर्मा और मोहम्मद शमी ही विकेट ले पाए। जसप्रीत बुमराह एक विकेट भी नही ले सके।

टाॅस हारना: टाॅस हारना भी भारत की हार में बड़ा कारण बना। मैच के पहले दिन जबरदस्त बरसात और मैदान पर पानी भरा रहने का नुकसान भारत को पहली पारी में उठाना पड़ा। पिच में नमी और फाॅरकास्ट कंडिशन का फायदा न्यूजीलैंड के बल्लेबाजों को हुआ।

पहली पारी में ढह जाना: 149 रन पर 3 विकेट के साथ मजबूत स्थिति में होने के बावजूद भारतीय पारी 217 रन पर सिमट गई। 68 रन के अंतराल में भारत ने 7 विकेट गंवा दिए।

दूसरी पारी में विकेट फेंके: दूसरी पारी में कठिन परिस्थिति होने के बावजूद भारतीय बल्लेबाजों ने विकेट फेंके। रिषभ पंत, रवींद्र जडेजा और आर अश्विन ने खराब शाॅट खेलकर विकेट गंवाए।

धीमी बल्लेबाजी: हद से ज्यादा धीमी बल्लेबाजी का खामियाजा भी भारत को भुगतना पड़ा। रन नहीं बनने के चलते दबाव बना और भारतीय बल्लेबाजों ने विकेट गंवा दिए। चेतेश्वर पुजारा ने हद से ज्यादा धीमी पारी खेली।

loading...

Check Also

खूबसूरत जेलीफिश को देखने नजदीक जाना पड़ेगा महंगा, 160 फीट लंबी मूछों में भरा है जहर

लंदन (ईएमएस)। पुर्तगाली मैन ओवर नाम की जेलीफिश आजकल ब्रिटेन के समुद्र किनारे आतंक मचा ...