Monday , September 20 2021
Breaking News
Home / क्रिकेट / ओलंपिक: फर्जी थी डोप टेस्ट वाली खबर, सोने में नहीं बदलेगा मीराबाई चानू का सिल्वर मेडल

ओलंपिक: फर्जी थी डोप टेस्ट वाली खबर, सोने में नहीं बदलेगा मीराबाई चानू का सिल्वर मेडल

भारोत्तोलन (weightlifting) 49 किग्रा वर्ग में गोल्ड मेडल चीन की झिहुई होउ (Zhihui Hou) के पास ही रहेगा और मीराबाई चानू (Mirabai Chanu) सिल्वर मेडल विजेता बनी रहेंगी. इससे पहले, कई मीडिया चैनलों ने बताया था कि झिहुई होउ की डोपिंग जांच की जाएगी और अगर वह टेस्ट में फेल हो जाती हैं, तो चानू को गोल्ड मेडल मिल जाएगा. लेकिन कोई टेस्ट नहीं किया गया है और ये एक गलत खबर थी. चीन की एथलीट का डोपिंग टेस्ट नहीं होना था.

चीन के झिहुई होउ ने शनिवार को कुल 210 किग्रा का वजन उठाकर नए ओलंपिक रिकॉर्ड के साथ गोल्ड मेडल अपने नाम किया था. वहीं मीराबाई चानू ने सिल्वर मेडल जीतकर भारत की मेडल तालिका में पहला मेडल जोड़ा था. प्रतियोगिता में अपने चार सफल प्रयासों के दौरान चानू ने कुल 202 किग्रा (स्नैच में 87 किग्रा और क्लीन एंड जर्क में 115 किग्रा) वजन उठाया था.

चीन की झिहुई होउ ने एक नया ओलंपिक रिकॉर्ड कायम किया था, जबकि इंडोनेशिया की विंडी केंटिका आइशा ने कुल 194 किग्रा के साथ ब्रॉन्ज मेडल जीता था. इस सिल्वर मेडल के साथ चानू ओलंपिक पदक जीतने वाली दूसरी भारतीय वेटलिफ्टर बन गईं. उनसे पहले कर्णम मल्लेश्वरी ने 2000 सिडनी खेलों में 69 किग्रा वर्ग में ब्रॉन्ज मेडल जीता था, ये वेटलिफ्टिंग में भारत का पहला ओलंपिक मेडल था.

loading...

Check Also

टेलीकॉम सेक्टर में सुधार के लिए क्रांतिकारी कदम उठाई मोदी सरकार, जानें पूरा फैसला

मोदी सरकार ने भारत की एक बड़ी चुनौती का समाधान करना शुरू कर दिया है। ...