Monday , October 25 2021
Breaking News
Home / खबर / दिल्ली में लाखों लोगों को दोबारा मिला रोजगार, दुकानों और बाजारों की नई गाइडलाइन जानिए

दिल्ली में लाखों लोगों को दोबारा मिला रोजगार, दुकानों और बाजारों की नई गाइडलाइन जानिए

Delhi Unlock Guidelines: देश की राजधानी दिल्ली में आखिरकार का अनलॉक (Delhi Unlock 3.0) का अगला चरण शुरू हो गया है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार सुबह 5 बजे से स्कूल-कॉलेज, स्पा, स्वीमंग पूल, सिनेमा हॉल आदि को छोड़कर बाकी सब खोलने का फैसला किया है। सरकार एक हफ्ते देखेगी और अगर फिर से मामले बढ़े तो सख्ती भी बढ़ेगी, लेकिन अगर मामले घटते रहे तो ढील दी जा सकती है। हालांकि, तमाम प्रतिबंध हटने के बावजूद हर किसी को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए मास्क लगाना होगा, क्योंकि कोरोना की तीसरी लहर के आने की भी पूरी आशंका है।

अब कैसे खुलेंगे बाजार?

दिल्ली के बाजार फिलहाल ऑड-ईवन सिस्टम के हिसाब से खुल रहे थे, जिसे सोमवार से खत्म कर दिया जाएगा। हालांकि, बाजार खुलने का समय पहले जैसे ही रहेगा। यानी बाजार सुबह 10 बजे से रात 8 बजे तक खुल सकेंगे। वहीं रेस्टोरेंट्स को भी 50 फीसदी सिटिंग व्यवस्था के साथ शुरू करने की इजाजत दी गई है। वैसे भी, लॉकडाउन की वजह से दिल्ली के व्यापारियों को भारी नुकसान उठाना पड़ा है।

50 लाख लोगों की रोजी-रोटी पर आई आंच

दिल्ली में लॉकडाउन को पूरी तरह खुलने में करीब ढाई महीने लग गए हैं। ट्रेडर एसोसिएशन कैट के मुताबिक दिल्ली में करीब 35 लाख ट्रेडर्स हैं और ये सभी ट्रेडर मिलकर लगभग 35 लाख लोगों को रोजगार मुहैया करवाते हैं। यानी दिल्ली में दुकानें और व्यापार बंद होने से कुल 50 लाख लोगों की रोजी-रोटी पर आंच आई है। सोमवार से बाजार फिर से खुलने की वजह से ये लोग दोबारा कुछ पैसे कमा सकेंगे।

सरकार ने साप्ताहिक बाजारों के लिए की ये व्यवस्था

लॉकडाउन से सबसे बुरी हालत उस गरीब तबके की हुई, जो रोज कमाकर खाता था। साप्ताहिक बाजार में दुकानें लगाने वाले भी उनमें से ही हैं। सोमवार से साप्ताहिक बाजारों को भी 50 फीसदी वेंडर्स के साथ शुरू करने की इजाजत मिल गई है। हालांकि, इन बाजारों को सड़क किनारे लगाने की इजाजत नहीं है, बल्कि किसी खाली मैदान आदि में इन्हें लगाया जा सकता है। इन बाजारों की टाइमिंग शाम 4 बजे से रात के 10 बजे तक की होगी।

बजट होटल की सुधरेगी हालत, झेला है भारी नुकसान

अगर बात बजट होटल की करें तो अब उनकी हालत में भी सुधार होगा। लॉकडाउन में बड़े होटल तो चलते रहे, लेकिन बजट होटल के बिजनस का बहुत नुकसान हुआ है। दिल्ली के करोलबाग और पहाड़गंज जैसे इलाकों में तो बजट होटल और गेस्ट हाउस की भरमार है। पीक सीजन में तो वह खचाखच भर जाते हैं। बजट होटल खुल तो रहे हैं, लेकिन सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हर किसी को करना होगा, उल्लंघन करने पर कार्रवाई भी हो सकती है।

लॉकडाउन के चलते बजट होटल के तमाम काम से जुड़े करीब 30 हजार लोगों की नौकरी चली गई। लॉकडाउन की वजह से दिल्ली में सिर्फ हॉस्पिटेलिटी इंडस्ट्री को ही हर महीने करीब 500 करोड़ रुपये का नुकसान झेलना पड़ रहा है। पूरे दिल्ली में करीब 2500 बजट होटल हैं, जो कुल मिलाकर करीब 60 हजार कमरे किराए पर देते हैं। इनका हर रोज का किराया करीब 2-3 हजार रुपये तक रहता है।

ब्यूटी पार्लर और सैलून भी खुलेंगे

काफी समय से ब्यूटी पार्लर और सलून बंद पड़े हैं, जिससे उन्हें काफी नुकसान झेलना पड़ रहा है। अब सोमवार से ये सब भी खुलेंगे, जिससे उनकी रोजी-रोटी फिर से चल सकेगी। हालांकि, सोशल डिस्टेंसिंग बहुत जरूरी है। सलून और ब्यूटी पार्लर में कुछ ज्यादा ही सतर्क रहने की जरूरत है, क्योंकि वहां एक ही औजार या कपड़े का इस्तेमाल कई लोगों पर किया जाता है। देखना दिलचस्प रहेगा कि इस बार ये बिजनस कैसे चलता है और लोगों की कितनी सहूलियत देता है।

loading...

Check Also

खूबसूरत जेलीफिश को देखने नजदीक जाना पड़ेगा महंगा, 160 फीट लंबी मूछों में भरा है जहर

लंदन (ईएमएस)। पुर्तगाली मैन ओवर नाम की जेलीफिश आजकल ब्रिटेन के समुद्र किनारे आतंक मचा ...