Friday , July 30 2021
Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / लखनऊ: बाहुबली पूर्व सांसद पर एक्शन, दाउद की मल्टी स्टोरी बिल्डिंग पर चला बुलडोजर

लखनऊ: बाहुबली पूर्व सांसद पर एक्शन, दाउद की मल्टी स्टोरी बिल्डिंग पर चला बुलडोजर

लखनऊ. भारतीय पुरातत्व सवेक्षण ( एसएसआई ) ने गिराना शुरू कर दिया। एलडीए से मिली भगत कर निर्माण कराने की कोशिश को एसएसआई ने फेल कर दिया है। दरअसल, रेजीडेंसी और आस-पास के इलाकों में कोई भी निर्माण कराने से पहले एसएसआई से एनओसी लेना अनिवार्य है लेकिन ऐसा नहीं किया गया। यहां तक की बहुमंजिला इमारत खड़ी कर दी है। इसमें करीब सात करोड़ रुपये से ज्यादा खर्च होने की बात सामने आ रही है।

इस बिल्डिंग का नक्शा भी एलडीए के अधिकारियों ने बिना एएसआई की अनापत्ति के ही स्वीकृत कर दिया था। हालांकि बाद में विरोध के बाद इसको निरस्त कर दिया। अब एएसआई के आदेश पर जिला प्रशासन और पुलिस के लोग संयुक्त अभियान चलाकर इमारत को ध्वस्त कर रहे हैं। ये बिल्डिंग रेजीडेंसी के नजदीक है और इस सीमा के भीतर ऊंचे निर्माण प्रतिबंधित है।

Building Of Former Mp Construct In The Region Of Asi - संरक्षित क्षेत्र में  बिना पुरातत्व एनओसी के बनी पूर्व सांसद की बिल्डिंग - Lucknow News

बिल्डिंग गिराने में फेल हो चुका हैं एलडीए
एलडीए की ओर से इसको गिराने की कोशिश कुछ महीनें पहले की गई थी। लेकिन रसूख और कागजों में फंसा कर इसको रोक दिया गया था। तब नक्शा पास होने और अन्य कई कारण बताते हुए कार्रवाई रोकी गई थी। इस बिल्डिंग को लेकर बाद में एएसआई के संयुक्त निदेशक ने पूर्व सांसद दाउद को नोटिस जारी किया था। इसमें कहा गया था कि सात दिन में ये निर्माण खुद हटा लें। मगर हटाए न जाने की दशा में प्रशासन की जेसीबी मशीनों ने इमारत को ध्वस्त करना शुरु कर देगा। सुबह सात बजे से ही बिल्डिंग को गिराने के लिए कार्रवाई की गई । विरोध को देखते हुए बड़ी संख्या में पुलिस के लोगों को भी रखा गया था हालांकि ऐसा हुआ नहीं। बिल्डिंग पांच मंजिला बनाई गई है। इसमें केवल फिनिशिंग काम बचा था।

कौन है दाउद अहमद
दाउद अहमद 1999 से 2004 तक शाहाबाद के बसपा सांसद रहे। 2007 से 2012 तक पिहानी हरदोई से वह विधायक रहे हैं। 2017 के विधानसभा चुनाव में वह मोहम्मदी से बसपा के टिकट पर चुनाव लड़े थे, पर हार गए थे। हालांकि साल 2019 में पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल बता कर बसपा सुप्रीमो मायावती ने इनको पार्टी से निकाल दिया था। उनकी गिनती बाहुबली नेताओं में की जाती है।

loading...

Check Also

कोरोना ने अरमानों पर फेरा पानी : दूल्हा तीन बार निकला संक्रमित, बिना दुल्हन लौटी बारात

पीलीभीत से उत्तराखंड जा रही एक बारात को बगैर दुल्हन के ही बॉर्डर से लौटना ...