Sunday , May 16 2021
Breaking News
Home / खबर / सूरत: कोरोना मरीज का शव सड़क पर फिंकवाया प्राइवेट अस्पताल, बिलखते हुए बोले पिता- ‘बिल नहीं भर सका था’

सूरत: कोरोना मरीज का शव सड़क पर फिंकवाया प्राइवेट अस्पताल, बिलखते हुए बोले पिता- ‘बिल नहीं भर सका था’

सूरत : महामारी की आपदा के बीच स्वास्थ्य सुविधाओं की कमी, ऑक्सीजन और दवाईयों की कालाबाजारी के बीच मानवता को शर्मशार करने वाली घटनाएं भी सामने आ रही हैं। यह मामला गुजरात की डायमंड सिटी सूरत का हैं, जहां एक पिता अपने बीमार बेटे की मौत के बाद एक निजी अस्पताल का बिल नहीं भर पाया तो स्टाफ ने बेटे का शव सड़क पर फिंकवा दिया।

हृद्यविदारक घटना के सामने आने के बाद कई लोग मदद के लिए आगे आए और इस तरह मामला पुलिस तक भी पहुंचा।

इस हृद्यविदारक घटना के सामने आने के बाद कई लोग लाचार पिता की मदद के लिए आगे आए और इस तरह मामला पुलिस तक पहुंचा। मृतक के पिता का कहना है कि बेटे की मौत के बाद अस्पताल ने शव देने के लिए कहा था कि पहले पूरा बिल भरिए। पिता ने कहा कि वे जल्द ही पैसों का इंतजाम करके बिल भर देंगे, लेकिन स्टाफ ने उनकी एक नहीं सुनी।

तीन दिन में ही तीस हजार से ज्यादा वसूल लिए
मृतक भगवान नायक (36) के पिता त्रिनाथ ने बताया कि बेटे को तीन दिन पहले तेज बुखार आया था। कोरोना के डर के बीच बेटे को अस्पताल में भर्ती करवाया था। यहां एक्स-रे के लिए ही ढाई हजार रुपए जमा करवाने के बाद कहा गया था कि वह जल्द ही ठीक हो जाएगा। इसके बाद दो दिन के दो बार में 20 हजार रुपए जमा करवाए गए। रोजाना 4500 की दवा भी मंगाई गई। इसके बाद भी बेटे की जान नहीं बची।

अस्पताल के बाहर बिलखते हुए मृतक भगवान नायक (36) के परिजन।

लाश सड़क पर फिंकवाकर अस्पताल का गेट बंद कर लिया गया
त्रिनाथ जब अस्पताल पहुंचे तो और पैसे जमा करने की बात कही। जब त्रिनाथ ने पैसों का इंतजाम होने के बाद जमा करने की बात कही तो बेटे की लाश अस्पताल के बाहर सड़क पर फिंकवा दी और अस्पताल के गेट अंदर से बंद कर लिया गया। पुलिस ने अस्पताल के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।

loading...
loading...

Check Also

हिसार में हंगामा: कोविड अस्‍पताल का फीता काटने पहुंचे CM खट्टर का विरोध किए किसान, DSP को पीटा

हिसार में रविवार को 500 बिस्तर की क्षमता वाले अस्थायी कोविड अस्पताल का उद्घाटन करने ...