Sunday , September 26 2021
Breaking News
Home / खबर / बिहार में मच गया बवाल, 24 घंटे में 60 लोगों को काटा सांप

बिहार में मच गया बवाल, 24 घंटे में 60 लोगों को काटा सांप

मुजफ्फरपुर: बिहार के मुजफ्फरपुर जिले में बाढ़ (Flood In Muzaffarpur) और जलजमाव (Waterlogging) के बाद सर्पदंश के मामले (Snakebite Cases) बढ़ गए हैं. अस्पतालों के आंकड़ों के अनुसार, बीते 24 घंटे में 60 लोग सर्पदंश के शिकार बने है. वहीं, एक हफ्ते की बात करे तो यह आंकड़ा 417 पहुंच गया है. ऐसे में डॉक्टर लोगों से अपील कर रहे है कि सांप के काटने के बाद लोगों सीधे अस्पताल में इलाज के लिए लेकर आए, झाड़फूंक के चक्कर में न पड़े.

मुजफ्फरपुर में बूढ़ी गंडक, बागमती, मानुषमारा और लखनदेई नदी (Lakhandei River) उफान पर है. जिससे कई इलाकों में बाढ़ की स्थिति बनी हुई है. वहीं, बारिश से शहर के कई इलाकों में जलजमाव की स्थिति है. ऐसे में सर्पदंश के भी मामले बढ़ गए है. सांप काटने के बाद बड़ी संख्या में मरीज इलाज के लिए जाने-माने प्रभात तारा अस्पताल पहुंच रहे हैं.

मुजफ्फरपुर के अलावा समस्तीपुर, शिवहर, पूर्वी चंपारण, पश्चिमी चंपारण, गोपालगंज, सिवान, दरभंगा, वैशाली और सीतामढ़ी जिलों से कई लोग यहां आए हैं. बता दें कि एक हफ्ते में निजी अस्पताल के आंकड़ों के अनुसार, कुल मिलाकर लगभग 417 सर्पदंश के मामले प्रभात तारा अस्पताल में आए हैं.

सर्पदंश के बाद क्या बचाव करें

  • किसी भी प्रकार का सांप काट ले तो घबराएं नहीं, शांत रहें
  • पीड़ित के शरीर पर कोई भी कसाव वाली वस्तु न रहने दें (बेल्ट, जूते की लेस) न बंधे रहने दें, इससे रक्तचाप बढ़ता है
  • काटे गए स्थान को हिलाए डुलाएं नहीं, मांसपेशियों में हरकत होने से जहर जल्दी फैल सकता है.
  • सांप की पहचान करने की पूरी कोशिश करें
  • पीड़ित को जितनी जल्दी हो सके, पास के स्वास्थ्य केंद्र ले जाएं और डॉक्टरी उपचार करवाएं
  • स्वास्थ्य केंद्र में ही एंटी वेनम लगवाएं

सर्पदंश के दौरान क्या न करें

  • ओझा या तांत्रिक के पास जाकर झाड़ फूंक में समय न गवाएं
  • सर्पदंश के स्थान पर ब्लेड और धारीदार वस्तु से न काटें
  • पीड़ित को ज्यादा चलने न दें
  • पीड़ित को किसी वाहन, व्हीलचेयर या स्ट्रेचर की सहायता से स्वास्थ्य केंद्र ले जाएं
  • कोबरा या करैत सांप के काटने पर पीड़ित को सोने न दें
  • सोने पर रक्त का प्रवाह तेजी से बढ़ता है

सर्पदंश से कैसे बचा जाए

  • घरों के आसपास साफ-सफाई रखें, कोई कबाड़ न होने दें
  • घरों में चूहे के बिलों को बंद करके रखें
  • पानी निकासी के मार्गों पर बारीक जाली लगाएं
  • खेतों और अधिक घास वाली जगहों पर नंगे पैर न चलें
  • किसी अंधेरी जगह में जाते समय टॉर्च या लालटेन का प्रयोग करें
  • घरों में यदि नीचे सो रहे हैं तो बीच मे सोएं या पलंग या मच्छरदानी का प्रयोग करें
  • घरों के दरवाजों और खिड़कियों की दरारों को किसी कपड़े की सहायता से बंद करके रखें
  • घरों में किसी बेला या पेड़ से लटकी हुई डाल को न रहने दें
  • अनजानी जगह और बिल में हाथ न डालें
loading...

Check Also

कानपुर : आपसे लक्ष्मी माता है नाराज, शिक्षिका से लाखों रुपए की टप्पेबाजी कर फरार हुए शातिर

तीन थानों की पुलिस फोर्स संग मौके पर पहुंचे एडीसीपी कानपुर  । शहर के सीसामाऊ ...