Friday , July 30 2021
Breaking News
Home / खबर / उत्तराखंड में मुख्यमंत्री-बदली के बाद बड़ा सवाल, क्या बीजेपी हुई गलतफहमी की शिकार!

उत्तराखंड में मुख्यमंत्री-बदली के बाद बड़ा सवाल, क्या बीजेपी हुई गलतफहमी की शिकार!

देहरादून: उत्तराखंड में तीरथ सिंह रावत के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफे के बाद अब पुष्कर सिंह धामी के हाथ में प्रदेश की कमान है. हालांकि, तीरथ के इस्तीफा देने के बाद अब सवाल ये उठता है कि क्या देश की सबसे बड़ी पार्टी बीजेपी को आर्टिकल 164-A और 151 की जानकारी नहीं थी. हम ये बात यूं ही नहीं कह रहे बल्कि प्रदेश में मौजूदा राजनीतिक समीकरण ही इस बात की ओर ही इशारा कर रहे हैं.

क्या कहता हैं आर्टिकल 164-A और 151.

बता दें कि, 10 मार्च को तीरथ सिंह रावत ने बतौर मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी. हालांकि उस दौरान, विधानसभा चुनाव को एक साल का वक्त बचा था. लेकिन गलतफहरी की शिकार होने के चलते बीजेपी ने आर्टिकल 164-A और 151 पर ध्यान नहीं दिया. जिसके चलते  तीरथ सिंह रावत को इस्तीफा देना पड़ा.

गलतफहमी की शिकार हुई बीजेपी !

शुक्रवार को देर रात तीरथ सिंह रावत ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया, और इसकी सबसे बड़ी वजह है चुनाव प्रक्रिया पर आधारित आर्टिकल 164-A और 151. चलिए बताते हैं कि क्या कहता है आर्टिकल 164-A और 151.

जी हां, तीरथ सिंह रावत ने सीएम पद से इस्तीफा देने के बाद प्रेसवार्ता में इसी संवैधानिक संकट की बात कह रहे थे. राजनीतिक जानकार जय सिंह रावत की मानें तो बीजेपी देश की सबसे बड़ी पार्टी तो है, लेकिन उन्हें नियमों का ज्ञान नहीं है. जिसके चलते पहले तो तीरथ सिंह रावत के ऊपर उत्तराखंड के सीएम का पद थोपा गया और फिर इस्तीफा ले लिया गया.

बीजेपी की सबसे बड़ी गलती

जय सिंह रावत ने बताया कि बीजेपी ने सबसे बड़ी गलती ये किया कि तीरथ सिंह रावत को सल्ट विधानसभा सीट से उपचुनाव नहीं लड़ाया. अगर सल्ट विधानसभा सीट से तीरथ सिंह रावत को उपचुनाव लड़ाया जाता तो शायद आज ये नौबत नहीं आती.

सल्ट पर तीरथ की सफाई

हालांकि, इस्तीफा देने के बाद तीरथ सिंह रावत ने आलाकमान का धन्यवाद देते हुए कहा कि आर्टिकल 164-A और 151 के चलते संवैधानिक संकट की स्थिति उत्पन्न हो गई है. जिसके चलते उन्होंने इस्तीफा दिया है. यहीं नहीं, तीरथ ने सल्ट विधानसभा सीट से उपचुनाव लड़ने के सवाल पर कहा कि उस समय कोरोना संक्रमित होने के चलते वहां से चुनाव नहीं लड़ सके.

गलतफहमी पर बोले प्रदेश अध्यक्ष

वहीं, बीजेपी को गलतफहमी होने के सवाल पर बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक में कहा कि बीजेपी को आर्टिकल 164-A और 151 की जानकारी थी. लेकिन वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण की वजह से भारत निर्वाचन आयोग ने उपचुनाव कराने से मना कर दिया, जिसके चलते ये संवैधानिक संकट उत्पन्न हुआ है. ऐसे में संवैधानिक संकट को देखते हुए तीरथ सिंह रावत ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया.

loading...

Check Also

बेटी पैदा होने पर ससुरालवाले बने ‘जल्लाद’ : प्रताड़ना से कोमा में पहुंची महिला, दो साल से भोग रही नर्क

आगरा: हमारे समाज की एक बड़ी विडंबना है कि जिस समाज में कन्या को देवी के ...