Thursday , May 6 2021
Breaking News
Home / ऑफबीट / भारतीय वायु सेना को मिले लाइट बुलेट प्रूफ व्हीकल, दुश्मनों के छुड़ा देंगे छक्के

भारतीय वायु सेना को मिले लाइट बुलेट प्रूफ व्हीकल, दुश्मनों के छुड़ा देंगे छक्के

भारतीय वायुसेना की ताकत दिनों दिन बढ़ती जा रही है. जबसे मोदी सरकार केंद्र में आई है सेना की ताकत में जबर्दस्त इजाफा हुआ है. भारतीय वायुसेना ने हाल ही में लाइट बुलेट प्रूफ व्हीकल (LBPV) खरीदे हैं. जिसकी सप्लाई भारतीय व्हीकल निर्माता कंपनी अशोक लीलैंड ने की है. वहीं इनको अमेरिकी वाहन निर्माता कंपनी लॉकहीड मार्टिन ने डेवलप किया है. आपको बता दें भारतीय वायुसेना को 13 अप्रैल को पहला बैच दिया गया है. वहीं आने वाले दिनों में और भी LBPV व्हीकल्स की सप्लाई की जाएगी.

मेक इन इंडिया के तहत बने है LBPV
भारतीय वायुसेना के लिए तैयार किए गए लाइट बुलेट प्रूफ व्हीकल मेक इन इंडिया के तहत भारत में बनाए गए हैं. साथ ही इन व्हीकल्स के लिए लॉकहीड मार्टिन कंपनी ने पूरी तकनीक को भारत में ट्रांसफर किया हैं. आपको बता दें ये व्हीकल पहाड़ी क्षेत्र, उथले पानी, कीचड़ और रेत में समान रफ्तार से चल सकते हैं और इनमें दी गई सभी तकनीक समान रूप से काम कर सकती हैं.

आतंकवाद रोधी अभियान में आएंगे काम
इंडियन एयर फोर्स को मिले ये लाइट बुलेट प्रूफ व्हीकल आतंक रोधी अभियान में सक्रिय भूमिका अदा करेंगे. वहीं वाहन निर्माता कंपनी अशोक लेलैंड जल्द ही सेना के लिए और भी कई व्हीकल विकसित करने वाली हैं.

महिंद्रा ने भी बनाए है सेना के लिए वाहन
देश की जानी मानी व्हीकल मैन्युफैक्चरिंग कंपनी Mahindra की ही अलग विंग महिंद्रा डिफेंस सिस्टम्स लिमिटेड (MDSL) ने रक्षा मंत्रालय के साथ इस हफ्ते की शुरुआत में, भारतीय सेना के लिए 1,300 लाइट स्पेशलिस्ट वाहनों की आपूर्ति के लिए एक करार किया है. इनकी डिलीवरी की समय सीमा 4 साल है और वाहनों की कीमत 1,056 करोड़ रुपये आंकी गई है.

महिंद्रा डिफेंस सिस्टम लिमिटेड द्वारा निर्मित ये वाहन पूरी तरह से ‘मेड-इन-इंडिया’ होंगे और ये वाहन लाइट कॉम्बैट वाहन है, और छोटे हथियारों के हमले से बचाव के लिए पूरी तरह से कारगर होंगे. साइज में छोटी ये गाड़ियां ऑपरेशन एरिया में आसानी से मूवमेंट कर सकती हैं.

loading...
loading...

Check Also

‘तानाशाह की सनक! लाशों के ढेर पर अपना 20,000 करोड़ का महल बनवा रहा है एक प्रधानमंत्री’

पूरे देश के लोग ऑक्सीजन के बगैर तड़प-तड़प कर मर रहे हैं और प्रधानमंत्री अपने ...