Thursday , October 21 2021
Breaking News
Home / खबर / SBI ने अपने ग्राहकों के लिए भेजा जरूरी मैसेज, भूलकर भी ये काम न करें

SBI ने अपने ग्राहकों के लिए भेजा जरूरी मैसेज, भूलकर भी ये काम न करें

मेरठ. केवाईसी (KYC) के नाम पर आ रहे फर्जी लिंक से सावधान रहने की जरूरत है। अकेले मेरठ (Meerut) में ही ऑनलाइन धोखाधड़ी (Online Fraud) के पिछले छह माह में 24 मामले आ चुके हैं। केवाईसी के नाम पर हो रहे फ्रॉड को देखते हुए अब भारतीय स्टेट बैंक (SBI) के अलावा अन्य बैंकों ने भी अपने ग्राहकों को ऐसे लिंक से सचेत रहने की सलाह दी है। पिछले 1 साल के भीतर केवाईसी धोखाधड़ी के मामलों में बढ़ोतरी हुई है। जब से कोरोना संक्रमण के चलते बैंकों ने अपने कई नियमों में छूट दी है, खासकर उसके बाद से ये फर्जी लिंक लोगों के मोबाइल और ईमेल पर आ रहे हैं।

दरअसल, एसबीआई ने ट्विटर पर एक अलर्ट भी जारी किया है, जिसमें ग्राहकों को ऐसे उदाहरणों की चेतावनी दी गई है जहां साइबर अपराधियों ने अपने ग्राहक को जानिए यानी केवाईसी के सत्यापन के साथ लोगों को धोखा दिया है। केवाईसी धोखाधड़ी के मामलों में साइबर अपराधी ग्राहकों के व्यक्तिगत जानकारी लेने के लिए बैंक या कंपनी का प्रतिनिधि बताकर एक टेक्स्ट संदेश भेजते हैं।

हाल ही में एसबीआई ने कोविड-19 महामारी की दूसरी लहर के बीच लॉकडाउन प्रतिबंधों के कारण ईमेल या पोस्ट के माध्यम से केवाईसी अपडेट के लिए दस्तावेजों की स्वीकृति की अनुमति देने का निर्णय लिया था। बैंक ने ग्राहकों को ऑनलाइन धोखाधड़ी के ऐसे सभी मामलों की रिपोर्ट https://www.cybercrime.gov.in/ पर करने को कहा है।

केवाईसी धोखाधड़ी के बढ़ते मामलों के बीच स्टेट बैंक ने तीन सुरक्षा उपाय साझा किए हैं, जिनसे ग्राहक अपने खातों को सुरक्षित रख सकते हैं। वहीं, मेरठ लीड बैंक के प्रबंधक संजय कुमार ने बताया कि इस तरह के मैसेज से सावधान रहने की जरूरत है। उन्होंने सलाह दी कि किसी भी लिंक पर क्लिक करने से पहले सोचें। बैंक कभी भी केवाईसी अपडेट करने के लिए लिंक नहीं भेजता है। अपना मोबाइल नंबर और गोपनीय डेटा किसी के साथ साझा न करें। अन्यथा धोखाधड़ी का शिकार हो सकते हैं।

loading...

Check Also

खूबसूरत जेलीफिश को देखने नजदीक जाना पड़ेगा महंगा, 160 फीट लंबी मूछों में भरा है जहर

लंदन (ईएमएस)। पुर्तगाली मैन ओवर नाम की जेलीफिश आजकल ब्रिटेन के समुद्र किनारे आतंक मचा ...