Sunday , May 16 2021
Breaking News
Home / ऑफबीट / भोपाल में बेकाबू कोरोना : 10 मई तक बढ़ाया गया कोरोना कर्फ्यू, सिर्फ ये सेवाएं रहेंगी चालू

भोपाल में बेकाबू कोरोना : 10 मई तक बढ़ाया गया कोरोना कर्फ्यू, सिर्फ ये सेवाएं रहेंगी चालू

मध्यप्रदेश के लिए राहत भरी बात है। यहां देर से ही सही, लेकिन कोरोना कर्फ्यू का असर दिखने लगा है। प्रदेश में शनिवार को 12 हजार 379 लोगों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई। खास बात ये है कि 14 हजार 562 मरीज ठीक होकर लौटे हैं। लगातार चौथे दिन एक्टिव केस कम हुए हैं। इससे पहले 27 अप्रैल को 1,742 एक्टिव केस बढ़े थे। तब से इनमें रोजाना कमी आ रही है। इधर, सरकार ने भोपाल में भी 10 मई की सुबह 6 बजे तक के लिए लॉकडाउन को बढ़ाने के आदेश रविवार शाम को जारी कर दिए हैं। पाबंदियां पूर्ववत लागू रहेंगी। किसी तरह की अतिरिक्त छूट नहीं दी है। जबलपुर, छिंदवाड़ा में 17 मई तक कर्फ्यू है तो इंदौर में 10 मई की सुबह 6 बजे तक के आदेश हो चुके हैं।

उधर, 24 घंटे में इंदौर, भोपाल, ग्वालियर और जबलपुर में जितने नए केस आए, उससे 1 हजार ज्यादा लोग ठीक हुए हैं। हालांकि, मौत के आंकड़ों में यहां कमी नहीं आई है। 28 मौतें दर्ज की गई हैं। प्रदेश में 25 अप्रैल को अब तक के सबसे ज्यादा 13 हजार 601 मरीज आए थे। इसके बाद से यह संख्या घटने लगी। इसके बाद से मामूली उतार-चढ़ाव के साथ नए केस अब कम होना शुरू हो गए हैं। 30 अप्रैल को प्रदेश में 12 हजार 400 और 1 मई को 12 हजार 379 नए संक्रमित आए।

वहीं, भाजपा के संभागीय प्रवक्ता राजेंद्र अग्रवाल और भाजपा प्रदेश कार्यसमिति के सदस्य नवनीत लटोरिया की कोरोना से मौत हो गई है। दोनों कुछ दिन पहले संक्रमित हुए थे।

भोपाल में 10 दिन में संक्रमण दर 13% तक कम
राजधानी में संक्रमण दर में तेजी से कमी आई है। 10 दिन में 13% की गिरावट आई है। चारों बड़े शहरों के मुकाबले यह कहीं ज्यादा सुधार है। इसके बाद ग्वालियर में सा़ढ़े 4 फीसदी की कमी दर्ज की गई है। 24 घंटे में यहां 1648 नए केस आए हैं, जबकि 200 ज्यादा मरीज स्वस्थ हुए हैं। 4 मरीजों की मौत हुई है।

इंदौर: ज्यादा स्वस्थ हो रहे पर नए केस में भी कमी नहीं
इंदौर के संक्रमण दर में मामूली गिरावट है। अब भी यहां 18% संक्रमण दर बनी हुई है। हालांकि स्वस्थ होने वालों की संख्या भी यहां ठीक है, लेकिन नए केस में कमी नहीं आ रही है। यहां 1821 नए केस मिले और 2604 स्वस्थ हुए। 8 मरीजों की जान गई। नए केस में कमी न आने से अस्पतालों में ऑक्सीजन और इंजेक्शन की कमी बनी हुई है। कई अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी की वजह से नए मरीजों को भर्ती नहीं किया जा रहा है।

जबलपुर: बड़ी लापरवाही सैंपलिंग कम कर दी
कोरोना की दूसरी लहर में जबलपुर के प्रशासन ने बड़ी लापरवाही शुरू कर दी है। सैंपलिंग की संख्या घटा दी है। शनिवार को सिर्फ 1968 सैंपल जांच के लिए लिए गए। इसके एक दिन पहले 3083 सैंपल लिए गए थे। यह हाल तब है जब यहां पर 24% संक्रमण दर है। 24 घंटे में यहां 731 नए संक्रमितों सामने आए हैं। वहीं 805 कोरोना को हरा कर घर गए। रिकवरी रेट में लगातार सुधार है। एक मई को रिकवरी रेट 85% हो गया। सरकारी रिकार्ड में 8 मौतों के बाद कुल मौत का आंकड़ा 432 पहुंच गया है। इसमें 3837 लोग घरों में आइसोलेट हैं। एक्टिव केस 6 हजार के नीचे आ गए हैं।

ग्वालियर: 43 कोरोना मरीजों की मौत, सरकारी आंकड़ों में सिर्फ 8
यहां 3813 लोगों के सैंपल की रिपोर्ट में 1072 नए केस सामने आए हैं, जबकि 43 संक्रमित की इलाज के दौरान अस्पतालों में मौत हुई है। इनमें से 31 ग्वालियर के थे। लगातार मौत का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है। हालांकि सरकारी रिकॉर्ड में मौतें सिर्फ 8 बताई गईं। राहत की बात यह है कि 911 संक्रमित डिस्चार्ज हुए। एक्टिव केस घटकर 8757 रह गए हैं। साथ ही 1 मई तक जिले में कुल एक्टिव कंटेनमेंट जोन की संख्या 534 हो गई है। यहां सबसे ज्यादा ऑक्सीजन और रेमडेसिविर इंजेक्शन की डिमांड बनी हुई है। बाहर से ऑक्सीजन के टैंकर आने का सिलसिला लगातार जारी है। शनिवार को 19 बॉक्स रेमडेसिविर इंजेक्शन ग्वालियर को मिले हैं।

loading...
loading...

Check Also

हिसार में हंगामा: कोविड अस्‍पताल का फीता काटने पहुंचे CM खट्टर का विरोध किए किसान, DSP को पीटा

हिसार में रविवार को 500 बिस्तर की क्षमता वाले अस्थायी कोविड अस्पताल का उद्घाटन करने ...