मई में 1.20 करोड़ लोगों के सफर से देश में 5 गुना बढ़ी हवाई यात्रियों की संख्या

घरेलू हवाई सेवा फलफूल रही है। कोविड के बाद देश में हवाई यात्रियों की संख्या में भारी इजाफा हुआ है. अकेले मई में देश की एयरलाइंस ने 1.20 करोड़ यात्रियों को सेवा दी। यह आंकड़ा देश के लोकल रूट का है। एक साल में घरेलू हवाई यात्रियों की संख्या लगभग 5 गुना बढ़ गई है। यह संख्या मई 2021 से मई 2022 तक है। यह जानकारी नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (डीजीसीए) के आंकड़ों से मिली है । हवाई यात्रियों की संख्या बुधवार को जारी की गई।

डीजीसीए के आंकड़ों में कहा गया है कि मई 2021 में घरेलू हवाई यात्रियों की संख्या केवल 21 लाख थी। वहीं, मई 2022 में यह संख्या बढ़कर 1.20 करोड़ हो गई। पिछले साल कोरोना महामारी से हवाई सेवा बुरी तरह प्रभावित हुई थी। पिछले साल के अंत से इसमें सुधार हो रहा है। कोरोना संक्रमण कम होने के बाद से हवाई यात्रा बढ़ गई है। इंडिगो की फ्लाइट में सबसे ज्यादा 70 लाख यात्री सवार हुए हैं। इंडिगो की कुल बाजार हिस्सेदारी का 57.9% हिस्सा था। इसके बाद मुंबई की एयरलाइन गो फर्स्ट थी, जिसमें 12.76 लाख यात्री सवार थे। गोफर्स्ट का कुल घरेलू यातायात का 10.8 प्रतिशत हिस्सा है।

कंपनी एयरलाइन में सबसे ऊपर है

देश के दो फूल सेवा वाहक, एयर इंडिया और क्षेत्र ने भी हवाई यात्रा में बड़ी वृद्धि देखी है। दोनों कंपनियां टाटा समूह का हिस्सा हैं। एयर इंडिया ने 8.23 ​​लाख जबकि विस्तारा ने 9.83 लाख यात्रियों को सेवा दी। यह आंकड़ा मई माह का है। एयर एशिया ने मई में घरेलू मार्गों पर 6.86 लाख यात्रियों को ढोया। स्पाइसजेट ने लोड फैक्टर या सीट फैक्टर 89.1% के साथ अधिकतम क्षमता के साथ हवाई सेवा प्रदान की। दूसरे स्थान पर 86.5% लोड फैक्टर के साथ गो फर्स्ट का नाम है। लोड फैक्टर ही दिखाता है कि एयरलाइन कंपनी कितनी क्षमता का इस्तेमाल करती है। इससे यह भी पता चलता है कि फ्लाइट में कितनी सीटें भरी हैं।

एयरलाइन समय पर चली

DGCA रिपोर्ट समय पर प्रदर्शन (OTP) डेटा भी प्रदान करती है। इससे पता चलता है कि किन एयरलाइनों के विमान समय पर चल रहे थे या उड़ान सेवा में देरी हो रही थी। एयरएशिया का ओटीपी सबसे ज्यादा 90.8% रहा। यानी एयर एशिया की अधिकतम उड़ानों ने समय पर उड़ान भरी। एयरएशिया के ओटीपी को देश के चार बड़े एयरपोर्ट पर स्पॉट किया गया है। समय पर 87.5 फ्लाइट के साथ ओटीपी में विस्तारा दूसरे स्थान पर रही। डीजीसीए हर महीने स्थानीय एयरलाइनों के लिए ओटीपी डेटा जारी करता है। जिसमें दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरु और हैदराबाद के एयरपोर्ट्स पर फ्लाइट का समय नजर आ रहा है।