Sunday , October 24 2021
Breaking News
Home / खबर / UP महिला आयोग सदस्य बोलीं- मोबाइल की वजह से भाग रहीं लड़कियां, स्वाति मालीवाल बोलीं-घटिया सोच

UP महिला आयोग सदस्य बोलीं- मोबाइल की वजह से भाग रहीं लड़कियां, स्वाति मालीवाल बोलीं-घटिया सोच

उत्तर प्रदेश महिला आयोग की सदस्य मीना कुमारी का बेतुका बयान सामने आया है। मीना कुमारी का कहना है कि महिलाएं मोबाइल ज़्यादा यूज करती हैं, इसीलिए महिलाओं के खिलाफ अपराध बढ़ते जा रहे हैं। एक महिला अत्याचार से जुड़े मामले को लेकर अलीगढ़ पहुंची मीना कुमारी ने कहा कि लड़कियां मोबाइल ज़्यादा इस्तेमाल कर रही हैं, इस वजह से महिलाओं के साथ अपराध की घटनाएं बढ़ती जा रही है।

उन्होंने कहा कि लड़कियां घण्टों घण्टों तक लड़कों से मोबाइल पर बात करती रहती हैं। लड़कों के साथ उठती-बैठती हैं। घरवाले लड़कियों का मोबाइल भी चेक नहीं करतें। ऐसे ही मोबाइल से घण्टों बात करते करते वो एक दिन लड़कों के साथ भाग जाती हैं।

महिला आयोग की सदस्य का मानना है कि लड़कियों को मोबाइल नहीं देना चाहिए. अगर ज़रूरत के लिए देना भी पड़े तो उसकी पूरी मोनिटरिंग की जानी चाहिए।

महिला आयोग की सदस्या के इस उटपटांग बयान को लेकर उनकी जमकर खिंचाई भी हो रही है। दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने कहा है कि “यूपी महिला आयोग एक ओछी मानसिकता का किटी पार्टी ग्रुप है और कुछ नहीं! ये लोग महिलाओं की मदद क्या करेंगी ! ये तो महिलाओं के कपड़े और हाथ में मोबाइल देख कर उनका कैरेक्टर बता देती हैं साथ में कैरेक्टर भी निर्धारित कर देती हैं”

स्वाति ने कहा कि इस तरह के घटिया बयान देने वालों को ऐसे महत्वपूर्ण पद पर बैठे रहने का कोई अधिकार नहीं है।

वहीं लड़कियों को मोबाइल फोन देने से रोकने की बात कहने पर स्वाति ने कहा कि नहीं मैडम जी, लड़की के हाथ में फोन देखकर बलात्कार नहीं होते! बलात्कार की वजह होती है ऐसी घटिया मानसिकता जो अपराधियों के हौंसले को बढ़ाती है।

यूपी महिला आयोग की सदस्या का इस तरह का बयान बताता है कि इस देश में महिलाओं के संरक्षण के लिए काम करने वाले महिला आयोग में किस प्रकार की सोच की महिलाएं भरी पड़ी है।

मीना कुमारी ने जो भी कहा है, वो उनकी खुद की नहीं बल्कि समूचे पितृसत्तात्मक समाज की विचारधारा है जो हमेशा महिलाओं को दोयम दर्जे का नागरिक समझती रही हैं।

मीना कुमारी को कौन बताये, जब मोबाइल नहीं थे, टेलीफोन नहीं था। तब भी लड़के, लड़की एक दूसरे के साथ प्रेम करते थे और सामाजिक बंदिशों को चुनौती देकर एक दूसरे के साथ घर बसाते थे।

इस संसार में प्रेम तब से है जब से संसार बना है लेकिन प्रेम के महत्व को पितृसत्ता से जुड़े लोग नहीं समझ पाएंगे क्योंकि उनकी बुनियाद में ही नफरत है।

loading...

Check Also

खूबसूरत जेलीफिश को देखने नजदीक जाना पड़ेगा महंगा, 160 फीट लंबी मूछों में भरा है जहर

लंदन (ईएमएस)। पुर्तगाली मैन ओवर नाम की जेलीफिश आजकल ब्रिटेन के समुद्र किनारे आतंक मचा ...