Saturday , December 4 2021
Home / ऑफबीट / मुंबई में मजदूरों की भीड़ जुटाया ये शख्स, जानें क्या था इसका मकसद !

मुंबई में मजदूरों की भीड़ जुटाया ये शख्स, जानें क्या था इसका मकसद !

मंगलवार को लॉकडाउन के बीच मुंबई के बांद्रा इलाके में हजारों मजदूरों के सड़कों पर उतरने के बाद से ही राज्य सरकार की नींद उड़ गई. प्रदेश की उद्धव सरकार पर सवाल उठ रहे हैं. इस बीच मुंबई के रहने वाले एक शख्स की देशव्यापी मजदूर आंदोलन की धमकी से बांद्रा में मजदूरों के जुटान के तार जुड़ते नजर आ रहे हैं. प्रवासी मजदूरों को गुमराह कर इकट्ठा करने वाले विनय दुबे नाम के शख्स को मुंबई पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस के अनुसार विनय दुबे ‘चलो घर की ओर’ कैंपेन चला रहा था.

बांद्रा में हजारों की संख्या में मजदूरों की जुटान के पीछे इस शख्स का हाथ होने की आशंका जताई जा रही है. सोशल मीडिया पर विनय दुबे ने मजदूरों को लॉकडाउन का उल्लंघन करने के लिए उकसाने के अलावा उनसे 18 अप्रैल को रेलवे स्टेशन पर इकट्ठा होने के लिए आह्वान भी किया है. साथ ही प्रशासन से मांग की है कि मजदूरों को घर जाने के लिए ट्रेनें चलाई जाएं.

ट्विटर पर इस शख्स ने चेतावनी दी थी कि मजदूरों को घर पहुंचाने के लिए 18 अप्रैल से ट्रेनों का संचालन शुरू किया जाए, नहीं तो देशव्यापी मजदूर आंदोलन किया जाएगा. अपने ट्वीट में उसने रेल मंत्री पीयूष गोयल, पीएमओ के अलावा महाराष्ट्र, यूपी, झारखंड और बिहार के सीएम ऑफिस को भी टैग किया है.

बांद्रा की घटना सामने आने के बाद से विनय दुबे के ट्वीट्स को उससे जोड़कर देखा जाने लगा है. साथ ही उसकी चेतावनियों से 18 अप्रैल को भी मुंबई में गड़बड़ होने की आशंका को बल मिल रहा है. दुबे ने फेसबुक पर भी वीडियो डालकर मजदूर आंदोलन के शुरू होने की बात लिखी थी. स्थिति की गंभीरता को ध्यान में रखते हुए मुंबई पुलिस फेसबुक पर डाले गए वीडियो की जांच कर रही है. इस वीडियो को फेसबुक से डिलीट कर दिया गया है.

लॉकडाउन के बीच विनय दुबे पर भीड़ को गुमराह करने का आरोप है. उसके खिलाफ आईपीसी की धारा-188 और महामारी अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया है.  ट्विटर पर मौजूद जानकारी के मुताबिक, विनय दुबे सामाजिक कार्यकर्ता है. उसके कुछ ट्वीट्स सत्ताधारी पार्टी की सहयोगी एनसीपी से उसके करीबी संबंधों की ओर इशारा करते हैं.

ऐसे ही एक ट्वीट में विनय ने बताया है कि उसके पिता ने कोरोना के खिलाफ लड़ाई के लिए महाराष्ट्र सरकार को अपने जीवन की सारी पूंजी दान कर दी. उसने अनुदान स्वीकारने के लिए गृह मंत्री अनिल देशमुख के अलावा मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे का भी आभार व्यक्त किया है. इस पोस्ट से गृह मंत्री देशमुख से उसके नजदीकी संबंध होने का भी पता चलता है.

 

loading...

Check Also

क्या 7 दिन बाद MP में हो जाएगा अंधेरा ! रोजाना 68 हजार मीट्रिक टन खपत, सतपुड़ा पावर प्लांट के पास 7 दिन का स्टॉक

मध्य प्रदेश में कोयले का संकट गहराने लगा है. बात करें बैतूल के सतपुड़ा पावर ...