https://www.googletagmanager.com/gtag/js?id=UA-91096054-1">
Tuesday , June 22 2021
Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / मोदी की काशी: आंकड़े बता रहे तबाही का मंजर, एक महीने में कभी नहीं जारी हुए इतने डेथ सर्टिफिकेट

मोदी की काशी: आंकड़े बता रहे तबाही का मंजर, एक महीने में कभी नहीं जारी हुए इतने डेथ सर्टिफिकेट

वाराणसी ;  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में कोरोना से हुई मौतों का आंकड़ा चौकाने वाला है। कोरोना की पहली व दूसरी लहर में सरकारी आंकड़ों में मरने वालों की संख्‍या भले ही 756 हो, लेकिन हकीकत में संख्‍या बहुत ज्‍यादा है। नगर निगम कार्यालय से मई महीने में ही करीब 23 सौ डेथ सर्टिफिकेट जारी होना इस बात का प्रमाण है कि महामारी ने जिंदगी को बाज की तरह झपटा है।

नगर निगम के जन्‍म व मृत्‍यु रजिस्‍ट्रीकरण कार्यालय की ओर से सामान्‍य दिनों में हर महीने 400 से 450 मृत्‍य प्रमाण जारी किए जाते रहे। कोरोना काल में यह संख्‍या कई गुना बढ़ गई। रजिस्‍ट्रीकरण कार्यालय के आंकड़ों पर गौर करें तो इस साल जनवरी से लेकर मई तक यानी पांच महीने में 6483 मृत्‍यु प्रमाणपत्र जारी किए जा चुके हैं।

फरवरी में रही यह स्थिति
जनवरी महीने में 1232 लोगों का मृत्‍यु प्रमाण पत्र जारी हुआ था। फरवरी महीने में इसमें बढ़ोतरी हुई और 1366 प्रमाण पत्र जारी किए गए। कोरोना का प्रकोप थोड़ा कम होने पर मार्च में 729 तो अप्रैल में 888 मृत्‍यु प्रमाण पत्र जारी हुए।

कई गुना ज्यादा हुईं मौतें
अप्रैल महीने में शुरू हुई घातक दूसरी लहर में बड़ी संख्‍या में मौत होने से मई महीने में प्रमाण पत्र के लिए आवेदनों की संख्‍या बढ़कर 2300 से ज्‍यादा पहुंच गई, जो रिकॉर्ड है। अप्रत्‍याशित आवेदन आने और उनका सत्‍यापन कर प्रमाण पत्र जारी करने में नगर निगम के कर्मचारियों के पसीने छूट गए।

कभी नहीं जारी हुए इतने डेथ सर्टिफिकेट
नगर निगम के नगर स्‍वास्‍थ्‍य अधिकारी डॉ. एनपी सिंह ने बताया कि मई महीने में 2259 लोगों का मृत्‍य प्रमाण पत्र जारी किया जा चुका है। अभी कुछ और आवेदनों पर कार्रवाई चल रही है। निगम के इतिहास में एक महीने में इतनी बड़ी संख्‍या में मृत्‍यु प्रमाण पत्र कभी जारी नहीं हुए थे। मौत की वहज कोरोना वायरस संक्रमण, अन्‍य बीमारियां और सड़क हादसे रहे।

सरकारी आंकड़े से ज्‍यादा नगर निगम ने शव जलवाए
कोरोना से मरने वालों की संख्‍या को लेकर स्‍वास्‍थ्‍य विभाग और नगर निगम के आंकड़ों में भी बड़ा अंतर सामने आया है। सवास्‍थ्‍य विभाग के आंकड़ों के अनुसार अप्रैल व महीने में 375 लोगों की कोरोना से मौत हुई।

नगर निगम की ओर से इन दोनों महीनों में श्‍मशान घाटों पर हेल्‍प डेस्‍क के जरिए कोरोना संक्रमितों के जलवाए गए शवों की संख्‍या करीब नौ सौ है। अप्रैल महीने में 344 तो मई महीने में 534 शव नगर निगम ने जलवाए। आकंड़ों में अंतर के सवाल पर सीएमओ डॉ. वी.बी.सिंह और प्रशासन के अफसरों ने चुप्‍पी साधी है।

loading...
loading...

Check Also

UP हुआ शर्मसार : 2 साल की बच्ची से रेप, मासूम को तड़पता छोड़ भाग खड़ा हुआ दरिंदा, मौत 

उत्तर प्रदेश के बहराइच जिले से इंसानियत को शर्मसार कर देने वाली घटना सामने आई ...