Tuesday , May 18 2021
Breaking News
Home / खबर / ‘मोदीजी, आप PM हैं.. पद का मान रखिए.. कंगना की सिक्योरिटी छीनिये!’

‘मोदीजी, आप PM हैं.. पद का मान रखिए.. कंगना की सिक्योरिटी छीनिये!’

फिल्म अभिनेत्री कंगना रनौत ने पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस की जीत और कई जगहों पर हुए हिंसा के बाद ममता बनर्जी के लिए आपत्तिजनक शब्दों का इस्तेमाल करते हुए कई ट्वीटस किए हैं।

जिसके चलते ट्विटर ने फिल्म अभिनेत्री कंगना रनौत के खिलाफ बड़ा एक्शन लेते हुए उनके ट्विटर अकाउंट को सस्पेंड कर दिया है।

ट्विटर ने कंगना रनौत पर यह कार्रवाई करते हुए कहा है कि उन्होंने ट्विटर नियमों का उल्लंघन किया है।

दरअसल बंगाल चुनाव के बाद हुई हिंसा पर कंगना रनौत ने ममता बनर्जी की तुलना राक्षस से की थी। इसके साथ ही कंगना रनौत ने पश्चिम बंगाल में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग भी की थी।

कंगना रनौत ने ट्वीट कर कहा था- “ये खौफ़नाक है…गुंडई के अंत के लिए हमें सुपर गुंडई की जरूरत है…वो राक्षसी रूप में बेनकाब हो चुकी है…उसपर लगाम लगाने के लिए, मोदीजी आप सत्र 2000 के पहले वाले विराट रूप में आ जाइए।

इस मामले में पत्रकार विनोद कापड़ी ने मोदी सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने कंगना रनौत को दी गई हाई सिक्योरिटी हटाने की मांग की है।

विनोद कापड़ी ने ट्वीट कर लिखा है कि आदरणीय प्रधानमंत्री जी, आपको सार्वजनिक तौर पर SUPER GUNDAI करने और 2002 के दंगो की तरह “विराट रूप” दिखाने की सलाह देने वाली की Y SECURITY कब हटा रहे हैं? आप प्रधानमंत्री हैं, कृप्या पद का मान रखिए सर।

गौरतलब है कि फिल्म अभिनेत्री कंगना रनौत को भाजपा समर्थक के तौर पर जाना जाता है। खुद उन्होंने इस बात को कबूल किया है कि वह मोदी सरकार की बहुत बड़ी सपोर्टर है।

बता दें, सरकार द्वारा कंगना रनौत को वाई प्लस सिक्योरिटी प्रदान की गई है। जब मोदी सरकार ने कंगना रनौत को वाई सिक्योरिटी देने का फैसला लिया था।

तो इसकी विपक्षी दलों द्वारा काफी आलोचना भी की गई थी और सरकार पर सवाल भी उठे थे।

कंगना रनौत अक्सर गैर भाजपा शासित राज्यों की सरकारों की आलोचना करती हुई नजर आती है। महाराष्ट्र के बाद कंगना ने पश्चिम बंगाल सरकार को लेकर भी कई विवादित बयान दिए हैं।

loading...
loading...

Check Also

यूपी में कोरोना : BJP विधायक का तंज- ज्यादा बोलूंगा तो देशद्रोह का केस हो जाएगा

कोरोना महासंकट के दौरान अस्पतालों में मेडिकल सुविधाओं की कमी के कारण भारत में हर ...