Thursday , December 2 2021
Home / उत्तर प्रदेश / मोदी जी, बेशक बढ़ा दीजिए लॉकडाउन, लेकिन पहले दे दीजिए इस सवाल का जवाब

मोदी जी, बेशक बढ़ा दीजिए लॉकडाउन, लेकिन पहले दे दीजिए इस सवाल का जवाब

पीएम मोदी ने सर्वदलीय बैठक में लॉकडाउन बढ़ने के संकेत दे दिए हैं…….मोदी जी कहते है कि कोरोना वायरस के खिलाफ लंबी लड़ाई है………चलिए मोदी जी हम मान लेते हैं कि आप बिलकुल सही कह रहे हैं…….. लॉक डाउन की अवधि बढ़नी चाहिए लेकिन देश मे जो आवश्यक वस्तुओं की सप्लाई चेन टूट गयी है उसके बारे में आपने क्या सोचा है?……..

देश भर के अलग अलग हिस्सों से रोज खबरें आ रही है कि राशन बांटने किराना बाँटने आदि में जम कर अव्यवस्था फेल रही है जिस भी दुकान के बारे में खबर मिलती है कि यहाँ रोजमर्रा की जरूरत का सामान मिल रहा है वहाँ सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ाते हुए सैकड़ो हजारों की भीड़ लग जाती है ………

दरअसल किराना सामान सप्लाई की चेन बहुत बड़ी होती जिसमे मिलो से लेकर मजदूर -व्यापारी -ट्रांसपोर्ट- हम्माल आदि की श्रृंखला होती है इस सप्लाई चेन को पुनः खड़ा करने के लिए आप क्या व्यवस्था कर रहे है?…..

लगभग हर बड़े शहर कस्बे में जरूरत का सामान सप्लाई न होने से थोक किराना व्यापारियों के पास स्टॉक खत्म होने लगा है। दाल व बिस्किट आदि की कमी बाजार में दिखने लगी है। कई शहरों में तो आटा तक खत्म होने की सूचना मिल रही है………

जब 21 दिनों का लॉक डाउन शुरू हुआ था तब हालात कंट्रोल में थे क्योंकि हर शहर कस्बे में करीब 15 से 20 दिन का आटा, दाल, तेल, मसाले, शक्कर आदि का स्टॉक रखा हुआ था ..….कोई दिक्कत नही थी लेकिन अब वापस यदि 15 दिन का भी लॉक डाउन बढ़ता है तो शहरों में स्थितियां कंट्रोल के बाहर हो जाएगी इन 12- 15 दिनो में शहर के थोक व्यापारियों को पर्याप्त सप्लाई नही हुई है तो वो भी हाथ खड़े कर देंगे, जैसा कि पत्रकार मित्र प्रदीप कुमार बता रहे हैं कि इंदौर जैसे बड़े शहर में यह स्थिति बन गयी है

ऐसी स्थिति में यह अति आवश्यक है कि केंद्र व राज्य सरकारों को आपस मे समन्वय कर जल्दी से जल्दी पूरे देश में राशन किराना जैसे आटा दाल तेल शक्कर चायपत्ती के लिये युद्ध स्तर पर ट्रांसपोर्टिंग सिस्टम सिस्टम चालू करे एंव इस सप्लाई की चेन अविलम्ब शुरू करे …………पहले ही बहुत देर हो गयी है!…… कृपया इस विषय मे तुरंत संज्ञान लेवे!………………

(ये लेख वरिष्ठ पत्रकार गिरीश मालवीय की फेसबुक वॉल से साभार लिया गया है. ये लेखक के निजी विचार हैं.)

loading...

Check Also

क्या 7 दिन बाद MP में हो जाएगा अंधेरा ! रोजाना 68 हजार मीट्रिक टन खपत, सतपुड़ा पावर प्लांट के पास 7 दिन का स्टॉक

मध्य प्रदेश में कोयले का संकट गहराने लगा है. बात करें बैतूल के सतपुड़ा पावर ...