Monday , June 14 2021
Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / मोदी-शाह समेत नड्डा भी नहीं दिए योगी को जन्मदिन की बधाई, क्या चरम पर है BJP में फूट की शुरुआत?

मोदी-शाह समेत नड्डा भी नहीं दिए योगी को जन्मदिन की बधाई, क्या चरम पर है BJP में फूट की शुरुआत?

लखनऊ। कल 5 जून उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का जन्मदिन था। देश के तमाम राजनोताओं ने योगी को फोन से लेकर शोसल मीडिया पर बर्थडे की बधाई दी लेकिन प्रधानमंत्री व उनके राजनीतिक हमराह गृह मंत्री अमित शाह ने योगी को बधाई नहीं दी। सत्ता के गलियारों की अंदरूनी जानकारी रखने वाले लोग इसके अलग-अलग मायने निकाल रहे हैं।

भाजपा की राजनीति में अबसे पहले शायद ही यह हुआ हो कि किसी राज्य के मुख्यमंत्री को उसके जन्मदिन की बधाई ना दी गई हो। यहां तक की विपक्ष के नेताओं को भी राजनैतिक आकांक्षाओं के चलते बधाई देने का रिवाज रहा है। लेकिन योगी को बधाई नहीं दी गई। जिसके राजनैतिक गलियारों में निहितार्त निकाले जाने शुरू कर दिए गए हैं।

आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 4 जून से 5 जून तक कुल दस ट्वीट किए। जिनमें से पहला ट्वीट सीएसआईआर सोसाईटी की मीटिंग को लेकर था। मोदी का दूसरा ट्वीट मॉरीशस पीएम के लिए तो तीसरा ट्वीट पर्यावरण को लेकर किया गया था। चौथा ट्वीट वैक्सीनेशन तथा पाँचवा ट्वीट फिर से पर्यावरण का हुआ।

पीएम का छठा ट्वीट पूणें के किसान बालू नाथ बाघमारे को लेकर तो सांतवा ट्वीट आणंद के अमित कुमार के लिए रहा। आठवां ट्वीट हरदोई के अरविंद कुमार की गन्ने की खेती से संबंधित रहा तो नौवां और दसवां ट्वीट एथेनॉल की उपज को लेकर किया गया था।

इसी प्रकार देश के गृह मंत्री और मोदी के बिल्कुल खासमखास अमित शाह ने बीते 23 घण्टों में कुल चार ट्वीट किए हैं। जिसमें तेइसवें घण्टे में पहला ट्वीट वैक्सीनेशन को लेकर किया गया। दूसरा ट्वीट आरएसएस के द्वितिय सरसंघचालक गुरूजी को लेकर किया गया। इसके तुरंत बाद गुरूजी को लेकर तीसरा ट्वीट हुआ जिसके बाद 12 घण्टे पहले पर्यावरण को लेकर चौथा ट्वीट किया गया।

भाजपा के इन दोनो चोटी के नेताओं ने यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के जन्मदिन को लेकर एक भी ट्वीट नहीं किया। इसके अलावा भाजपा के एक बड़े नेता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं जेपी नड्डा, उन्होंने भी योगी को जन्मदिन की बधाई के नाम पर एक भी ट्वीट नहीं किया है।

योगी को जन्मदिन की बधाई ना देने के विषय में एक अख़बार के सीनियर जर्नलिस्ट अपनी राय रखते हुए कहते हैं कि ‘देखिए यूपी की सत्ता में इस समय सबकुछ ठीक नहीं है, इस बधाई संदेश का ना आना उसी सबकुछ ठीक ना होने का मैसेज है। ऐसा भी नहीं हो सकता कि भाजपा के नेता फोन पर बधाई दे दें, प्रचार ना करें ये भी नहीं हो सकता। बधाई ना देने के पीछे भाजपा की अंदरूनी तल्खियां खुलकर सामने आ रही हैं।’

वहीं इस मसले को लेकर लखनऊ में तमाम चर्चाएं होनी शुरू हो गई हैं। वरिष्ठ पत्रकार सुशील दुबे  कहते हैं कि ‘शाम होने को आई, सुना है मोदी जी व शाहजी ने अभी तक योगी जी को बधाई, आशीर्वाद या अभयदान कुछ भी नहीं दिया। कभी-कभी कडुआहट भी बडे मैसेज दे देती है। बस लोगों को अपने मुताबिक संदेश समझ में आना चाहिये।’

इस सबके बीच चर्चा वही जो चल रही है, जिसके बीते कई दिनो से अलग-अलग मायने व निहितार्थ निकाले जा रहे हैं। वह ये कि भाजपा के अंदरखाने सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है। इसकी वजह दिल्ली से यूपी प्लांटेड शर्मा हैं या कुछ और.. ये साफ होने में अभी कुछ वक्त और लग सकता है।

loading...
loading...

Check Also

2 करोड़: कोरोना से जंग में जान लड़ा दिया है गुजरात, हासिल किया बड़ा मुकाम

अहमदाबाद. प्रदेश में कोरोना से सुरक्षा कवच के रूप में रविवार को भी 234551 को ...