यादों के झरोखे से : 90 साल पहले आज ही के दिन भारत ने खेला था अपना पहला टेस्ट मैच

नई दिल्ली, 25 जून (हि.स.)। भारतीय क्रिकेट के लिए आज का दिन काफी यादगार है। आज ही के दिन 25 जून 1932 को, भारत ने टेस्ट खेलने वाले राष्ट्र के रूप में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में अपनी यात्रा शुरू की और इंग्लैंड के खिलाफ लॉर्ड्स में अपना पहला टेस्ट मैच खेला।

भारत का पहला अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच एक विश्व स्तरीय अंग्रेजी टीम के खिलाफ कठिन था, जिसमें वैली हैमंड, कप्तान डगलस जार्डिन, विकेटकीपर बल्लेबाज लेस एम्स और पेसर बिल बोवेस आदि जैसे विश्व स्तरीय खिलाड़ी थे।

इंग्लैंड की टीम ने इस मैच में टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया। इंग्लिश टीम 105.1 ओवर में 259 रनों पर सिमट गई। इंग्लैंड के लिए जार्डिन फिनली ने सर्वाधिक 79 रन बनाए थे। फिनली के अलावा वैली हमोंड ने 35 रन बनाए थे। भारत के लिए निसार ने 5 और अमर सिंह व कप्तान सीके नायडू ने 2-2 विकेट लिए।

जवाब में भारतीय टीम अपनी पहली पारी में 189 रनों पर सिमट गई। भारत के लिए नाउमल जीउमल ने 33, सैयद वाजिर अली ने 31, कप्तान नायडू ने 40 और सोराबजी कोलाह ने 22 रन बनाए। इंग्लैंड के लिए बिल बोवेस ने 4 और बिल वोस ने 3 विकेट लिए। पहली पारी के आधार पर इंग्लैंड को 70 रनों की बढ़त मिली।

दूसरी पारी में इंग्लैंड ने 8 विकेट पर 275 रन बनाकर पारी घोषित कर दी और कुल 345 रनों की बढ़त हासिल कर ली। दूसरी पारी में इंग्लैंड के लिए कप्तान डगलस जारडिन ने 85 रन बनाए। भारत के लिए जहांगिर खान ने 4 और अमर सिंह ने दो विकेट लिए।

346 रनों के स्कोर का पीछा करने उतरी भारतीय टीम 187 रनों पर सिमट गई और 158 रनों से मैच हार गई। भारत के लिए अमर सिंह ने 51, वाजिर अली ने 39, लाल सिंह ने 29 और जीउमल ने 25 रन बनाए। इंग्लैंड के लिए हमोंद ने तीन, वोस ओर स्पिनर फ्रैडी ब्राउन ने 2-2 विकेट लिए।

1932 में अपने पहले टेस्ट मैच के बाद भारतीय टीम ने टेस्ट क्रिकेट में काफी सुधार किया। भारत ने अब तक 562 टेस्ट खेले हैं, जिसमें 168 में जीत और 173 में हार का सामना करना पड़ा है। 220 मैच ड्रॉ समाप्त हुए जबकि एक टाई में रहा। इस प्रारूप में भारत का जीत प्रतिशत 29.89 प्रतिशत है।