Sunday , August 1 2021
Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / यूपी की कानून व्यवस्था फेल : प्रयागराज में थाने से रोशनदान तोड़कर तीन अपराधी फरार, पुलिस महकमे में हड़कंप

यूपी की कानून व्यवस्था फेल : प्रयागराज में थाने से रोशनदान तोड़कर तीन अपराधी फरार, पुलिस महकमे में हड़कंप

उत्तर प्रदेश के प्रयागराज के सिविल लाइंस कोतवाली में शुक्रवार की रात तीन अपराधी पुलिस को गज्जा देकर कस्टडी से फरार हो गए। तीनों अपराधियों ने सिविल लाइंस कोतवाली के विवेचक कक्ष का रोशनदान तोड़ा और रफूचक्कर हो गए। देर रात हुई इस वारदात का पता चलने के बाद पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया। कोतवाली से फरार अपराधियों की खोज के लिए पूरी रात सर्च आपरेशन चला। पूरे शहर में नाकेबंदी की गई, लेकिन तीनों अपराधियों को कुछ पता नहीं चल पाया।

करेली के रहने वाले हैं तीनों चोर, कर चुके हैं कई वारदातें

सूत्रों के अनुसार शहर के करेली थाना अंतर्गत करामत की चौकी मोहल्ला निवासी 18 से 30 साल के तीन लड़कों को सिविल लाइंस पुलिस ने पकड़ा था। उन्हें 15 जुलाई की रात में सिविल लाइंस कोतवाली के लॉकअप में डाला गया था। 16 जुलाई को दोपहर बाद अपराधियों को सिविल लाइंस इंस्पेक्टर कार्यालय के बगल में स्थित विवेचक कक्ष में लाया गया।

लॉकअप से निकाल विवेचक कक्ष में की जा रही थी पूछताछ

पूछताछ के बाद तीनों को उसी कक्ष में छोड़कर पुलिसकर्मी बाहर चले गए। कुछ देर बाद जब पूछताछ करने वाली टीम अंदर पहुंची तो वहां से तीनों अपराधी गायब मिले। यह देख पुलिस वालों को होश उड़ गए। पहरा पर तैनात पुलिसकर्मी ने बताया कि इधर से कोई नहीं गया। खोजबीन शुरू की गई तो पता लगा कि उस कक्ष का रोशनदान टूटा हुआ था। इससे यह आशंका जताई गई कि इसी रोशनदान के जरिए तीनों बदमाश फरार हुए हैं। उसके बाद गोपनीय स्तर पर तीनों की खोजबीन शुरू हो गई। जब मामला हाथ से निकलने लगा तो अधिकारियों को सूचना दी गई। पूरे शहर में उनकी तलाश के लिए नाकेबंदी की गई। एसओजी को लगाया गया, लेकिन तीनों बदमाशों का कुछ पता नहीं चला।

मामले को छिपाने की होती रही कोशिश

सूत्रों के अनुसार पकड़े गए तीनों युवक अधिकारियों के निर्देश पर हिरासत में लिए गए थे। तीनों ने चोरी की घटना में शामिल होने की बात कुबूली थी। पुलिस सामान की बरामदगी में लगी हुई थी। इसके लिए सिविल लाइंस पुलिस ने प्रतापगढ़ में भी दबिश दी थी, लेकिन सामान बरामद नहीं हो पाया था। इसीलिए उनको रखा गया था। उनकी फ़रारी से पुलिस महकमें में हड़कंप मचा हुआ है।इंस्पेक्टर सिविल लाइंस ने ऐसी किसी घटना से साफ इनकार किया है।

सीओ सिविल लाइन अजीत कुमार का कहना है कि ऐसी कोई घटना नहीं हुई है। मेरे संज्ञान में बात नहीं आई है।

loading...

Check Also

अनलॉक हुआ रेलवे: 16 ट्रेनें फिर से चलाने का ऐलान, देखें लिस्ट

रक्षाबंधन से पहले भारतीय रेलवे मध्यप्रदेश के लाखों रेलवे यात्रियों को बड़ी सौगात देने जा ...