Friday , July 30 2021
Breaking News
Home / अंतर्राष्ट्रीय / स्पेशल बच्चों को बिजली के झटके देता था स्कूल, कोर्ट का फैसला- ‘ये बिलकुल ठीक है’

स्पेशल बच्चों को बिजली के झटके देता था स्कूल, कोर्ट का फैसला- ‘ये बिलकुल ठीक है’

अमेरिका के मैसाचुसेट्स में एक स्पेशल एजुकेशन स्कूल इन दिनों काफी चर्चा में है। दरअसल, यहां स्कूल बच्चों के इलेक्ट्रिक शॉक दिए जाते हैं। मामला फेडरल कोर्ट में पहुंच गया। कोर्ट ने कहा कि फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन रोटनबर्ग एजुकेशन सेंटर को Graduated Electronic Decelerator (GED) यूज करने से नहीं रोक सकता। क्योंकि यह एकमात्र अंतिम उपाय का उपचार है। बता दें कि इस स्कूल में बीते कई वर्षों से व्यवहार समायोजन के लिए स्पेशल बच्चों को इलेक्ट्रिक दिए जा रहे हैं।

यूएस कोर्ट ऑफ अपील्स का कहना है कि इस मेडिकल डिवाइस को बैन करना वैधानिक अधिकार का अभाव है। वहीं आलोचकों ने इसे काफी असभ्य और गवारू तरीका बताया है। वहीं कुछ बच्चों के पेरेंट्स का कहना है कि बिजली के झटके ही उनके बच्चों को बचाने में लाइफ सेविंग ट्रीटमेंट साबित हुए हैं और ये ही उनपर कारगर साबित हुए हैं।

बीते साल भी graduated electronic decelerator को लेकर कोर्ट में ऐसा मामला आया था। एक भयानक वीडियो भी सामने आया था। एफडीए ने साल 2016 में सबसे पहले इस बिजली का झटका देने वाले डिवाइस को बैन करने की मांग की थी। उन्होंने इसका फाइनल रूल बीते वर्ष पब्लिश किया। हालांकि अभी तक इसपर बैन नहीं लगा है।

वहीं रोटनबर्ग सेंटर का दावा है कि वो प्रशासनिक मंजूरी के बाद भी बच्चों को इलेक्ट्रिक शॉक देते हैं। उनके माता-पिता और लोकल जज से इसको लेकर मंजूरी ली जाती है। कोर्ट ने अपने स्टेटमेंट में कहा है कि इस ट्रीटमेंट के साथ वो लोग अपने परिवारवालों से मिल सकते हैं और ज्यादा जरूरी ये है कि वो खुद को नुकसान ना पहुंचाए और गुस्सा भी कम करें।

वहीं स्कूल पेरेंट्स एसोसिएशन ने भी एक स्टेटमेंट जारी की। उन्होंने कोर्ट के फैसले का स्वागत किया। और कहा कि शारीरिक प्रतिबंध और ज्यादा हैवी दवाइयों से ज्यादा इलेक्ट्रिक शॉक दिए जाने को प्रेफर करते हैं।

 

loading...

Check Also

‘मेंहदी लगा के रखना..’ गाने के अंग्रेजी वर्जन ने ‘देसी गर्ल’ को खूब हंसाया, आप भी देखें VIDEO

फिल्म ‘दिलवाले दुल्हनियां ले जाएंगे’ का खुमार अभी तक लोगों के सर चढ़कर बोलता है. ...