Saturday , July 24 2021
Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / योगीराज में कातिलों के निशाने पर भगवा, एक साल में आठ संतों की हत्या

योगीराज में कातिलों के निशाने पर भगवा, एक साल में आठ संतों की हत्या

वेस्ट यूपी में साधुओं की हत्या के मामले लगातार बढ़ते ही जा रहे हैं। मेरठ के मुंडाली क्षेत्र में सोमवार की रात तोंबी मठ के साधु को ईंट से कूचकर मार डाला गया। शव को मेन रोड पर फेंककर हत्यारे भाग खड़े हुए। साधुओं की हत्या का ये कोई पहला मामला नहीं है। बल्कि इसके पहले भी समय-समय पर इस तरह के केस सामने आते रहे हैं।

इससे पहले बिजनौर में ऐसी ही घटना को अंजाम दिया गया। एक साल में एक के बाद आठ साधुओं की हत्या से लोगों के मन में आक्रोश बढ़ने लगा है। लोग कानून व्यवस्था को लेकर पुलिस और इंटेलिजेंस पर सवाल खड़े कर रहे हैं।

26 जून को बिजनौर में साधु की हत्या
बिजनौर के किरतपुर थाना क्षेत्र के गांव उमरी में मां काली मंदिर है। महाराज दयानंद गिरी(65) मंदिर की देखभाल करते थे। दयानंद गिरी रात में मंदिर के परिसर में बने कमरे में रहते थे। 26 जून को वह पूजा पाठ कर रहे थे। उसी समय शिवचरण नामक युवक ने कमरे में घुसकर डंडे से उन पर हमला कर दिया। आसपास के लोग जब तक उन्हें बचाते, तब तक उनकी मौत हो गई।

2 जून को गाजियाबाद मंदिर में घुसे थे संदिग्ध
गाजियाबाद के डासना में देवी मंदिर है। मंदिर के महंत यति नरसिंहानंद महाराज हैं। उन्हें कई बार धमकियां मिल चुकी हैं। 2 जून 2021 की रात इस मंदिर में दो संदिग्ध घुस गए। उन्होंने अपनी एंट्री विपुल विजयवर्गीय निवासी नागपुर व काशी गुप्ता निवासी संजयनगर के नाम से कराई। शक होने पर दोनों की तलाशी ली गई।

उनसे सर्जिकल ब्लेड, दवाएं और धार्मिक पुस्तक बरामद हुई। पूछताछ में काशी गुप्ता का असली नाम कासिफ निकला। पुलिस ने फिर इनके तीसरे साथी सलीमुद्दीन को गिरफ्तार किया। मामले में थाना डासना में केस दर्ज कराया गया था।

बुलन्दशहर में दो साधुओं की हत्या
28 अप्रैल 2020 को दो साधुओं का गला रेत कर हत्या कर दी गई थी। यह घटना बुलन्दशहर जिले के अनूप शहर क्षेत्र में स्थित मंदिर की थी। जहां दास उर्फ जगन दास वह शेर सिंह उर्फ सेवादास को मौत के घाट उतार दिया।

मेरठ में सेवादार की पीट-पीटकर हत्या
14 जुलाई 2020 को मेरठ में मंदिर के सेवादार की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई। इसके बाद धार्मिक टिप्पणी के लिए साधु क्रांतिप्रसाद के गले के भगवा दुपट्टे का उपयोग किया गया। यह घटना मेरठ के अब्दुल्लापुर गांव के शिव मंदिर की थी।

मेरठ में साधु की मिली लाश
24 सितंबर 2020 को मेरठ एक बहती हुई लाश मिली जिस की वेशभूषा साधु की तरह थी। घटना मेरठ की सरधना गंग नहर की थी।

बागपत में साधु की हत्या
बागपत में 24 सितंबर 2020 को एक तालाब के पास साधु की हत्या कर दी गई थी। यह घटना बागपत के टीकरी कस्बे की थी।

बागपत में मिला साधु का शव
9 अक्टूबर 2020 को बागपत में पुलिस चौकी के पास यमुना नदी में साधु का शव मिला। घटना बागपत के निवाड़ा पुलिस चौकी की थी।

loading...

Check Also

वैक्सीन लगाने को लेकर आपस में भिड़ गईं महिलाएं, जमकर हुई मारपीट, वीडियो वायरल

खरगोन एमपी के खरगोन जिले में वैक्सीन को लेकर जबरदस्त मारामारी (People Crowd For Vaccine) ...