Saturday , October 16 2021
Breaking News
Home / खबर / राजस्थान: ऑड-ईवन सिस्टम से खुले 6वीं से 8वीं के स्कूल, जानें और क्या-क्या हैं नियम

राजस्थान: ऑड-ईवन सिस्टम से खुले 6वीं से 8वीं के स्कूल, जानें और क्या-क्या हैं नियम

राजस्थान में कोरोना संक्रमण का असर कम होने के साथ ही अब प्राइमरी स्कूल सोमवार से शुरू हो गए हैं। सरकार के आदेश पर कक्षा 6वीं से 8वीं तक के बच्चे लंबे अंतराल के बाद फिर से स्कूल में बैठकर पढ़ सकेंगे। बच्चों को उनके रोल नंबर के आधार पर ऑड-इवन फॉर्मूले से बुलाया जाएगा। कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए कक्षा में फिर से पढ़ाई शुरू हो सकेगी।

ऑनलाइन भी पढ़ सकेंगे छात्र
लंबे समय बाद खुले स्कूलों में फिलहाल 40% स्टूडेंट्स को ही हर दिन क्लास में बुलाया जाएगा। हर दिन अलग बैच के बच्चों को पढ़ाया जाएगा। फिलहाल छात्रों का स्कूल आना अनिवार्य नहीं किया गया है। ऐसे में छात्र घर बैठकर भी ऑनलाइन शिक्षा ले सकेंगे। वहीं जो छात्र स्कूल आ रहे हैं, वह बिना यूनिफार्म भी आ सकेंगे।

घर से ही लाना होगा भोजन-पानी
स्कूलों में फ़िलहाल कोरोना के मद्देनजर कैंटीन और कैफेटेरिया को बंद रखा गया है। इस दौरान जयपुर के स्कूलों में छात्रों से ही पानी की बोतल और भोजन लाने की अपील की गई है। ताकि बेवजह छात्र क्लास रूम से बाहर न निकलें। स्कूल स्टाफ द्वारा इसके लिए बाकायदा बच्चों के लंच टाइम को भी अलग-अलग कर दिया है। इसमें क्लास टीचर भी बच्चों के साथ क्लास रूम में बैठकर ही लंच लेंगे।

लग चुकी है वैक्सीन की दोनों डोज
संस्कार स्कूल की प्रिंसिपल नीलम भारद्वाज ने बताया कि पहली बार बच्चों के साथ टीचर भी स्कूल खुलने से काफी उत्साहित हैं। बच्चों की सुरक्षा के लिए स्कूल स्टाफ को वैक्सीन की दोनों डोज लग चुकी है। वहीं हर क्लास रूम में अत्याधुनिक मशीनों से वायरस को नष्ट करने की प्रक्रिया भी लगातार जारी है। बच्चों के स्कूल में प्रवेश से लेकर उनके क्लास में पहुंचने तक मार्किंग भी की गई है। शिक्षक तैनात रहकर बच्चों को सोशल डिस्टेंसिंग की पाठ पढ़ाएंगे।

फिलहाल ट्रांसपोर्ट सिस्टम रहेगा बंद
टैगोर पब्लिक स्कूल की CEO डॉक्टर रुचिरा राठौड़ ने बताया कि सरकार की गाइडलाइन के अनुरूप दो पारी में स्कूल खोलने की तैयारी है। इसके तहत सभी स्टाफ को वैक्सीन की पहली डोज भी लग चुकी है। स्कूल में भी बच्चों को कोरोना एप्रोप्रियेट बिहेवियर सिखाया जाएगा, ताकि भविष्य में बच्चे संक्रमण के खतरे से बच सकें। डॉक्टर रुचिरा ने बताया कि फिलहाल बच्चों के लिए ट्रांसपोर्ट फैसिलिटी शुरू नहीं की गई है। ऐसे में स्कूल के ऑटो और बस द्वारा बच्चे स्कूल नहीं आ पाएंगे।

सेफ्टी सेमिनार का किया जाएगा आयोजन
रावत पब्लिक स्कूल के डायरेक्टर नरेंद्र सिंह रावत ने बताया कि संक्रमण के इस दौर ने हमें भी काफी कुछ सिखाया है। ऐसे में हम स्कूली छात्रों के लिए हर सप्ताह दो सेमिनार का आयोजन करेंगे। इसमें विषय विशेषज्ञ उन्हें महामारी के इस दौर में जीने के तरीके सिखाएंगे। साथ ही, भविष्य में हर स्थिति से निपटने की भी जानकारी देंगे।

 

 

loading...

Check Also

खूबसूरत जेलीफिश को देखने नजदीक जाना पड़ेगा महंगा, 160 फीट लंबी मूछों में भरा है जहर

लंदन (ईएमएस)। पुर्तगाली मैन ओवर नाम की जेलीफिश आजकल ब्रिटेन के समुद्र किनारे आतंक मचा ...