Sunday , May 16 2021
Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / लखनऊ का लोहिया संस्थान : खाली पड़े हैं बेड फिर भी लौटाए जा रहे कोरोना पेशेंट

लखनऊ का लोहिया संस्थान : खाली पड़े हैं बेड फिर भी लौटाए जा रहे कोरोना पेशेंट

लखनऊ
लकनऊ में केकेसी के शिक्षक विजय श्रीवास्तव के पिता बीएन श्रीवास्तव (90) की शनिवार सुबह सांस फूलने लगी। लोहिया संस्थान की इमरजेंसी में ले जाने पर बेड फुल होने का टका सा जवाब दे दिया गया। करीब 45 मिनट तक पिता को ऐंबुलेंस में रखकर विजय ने अधिकारियों से गुहार लगाई। इसके बाद इमरजेंसी में लिया गया, लेकिन तब तक देर हो चुकी थी।

यह अकेला मामला नहीं है। लोहिया संस्थान की इमरजेंसी पहुंचने वाले कई मरीज इलाज के अभाव में दम तोड़ रहे हैं। जबकि संस्थान में ही सेकेंड फ्लोर पर स्थित मेडिसिन वॉर्ड में बेड खाली पड़े हैं। एक मरीज ने रविवार को मीडिया को फोटो भेजकर हकीकत का खुलासा किया। मेडिसिन विभाग में ही करीब बीस खाली बेड खाली पड़े हैं। हर बेड तक ऑक्सिजन की पाइप लाइन तक है। सिर्फ हाई फ्लो मीटर नहीं लगा होने से मरीजों को भर्ती नहीं किया जा रहा है।

बाजार में एक हजार रुपये में हाई फ्लो मीटर मिलता है और सभी बेड पर महज एक घंटे में लग जाएगा। संस्थान के पास मीटर भी मौजूद होंगे। इसके बावजूद गंभीर मरीजों को बेड खाली न होने की बात कहकर लौटाया जा रहा है।

इमरजेंसी में गंभीर मरीज दम तोड़ रहे हैं। तमाम स्ट्रेचर पर हैं। संस्थान के हॉस्पिटल ब्लॉक में करीब 400 बेड हैं। सर्जरी, गैस्ट्रो सर्जरी, ईएनटी आदि सभी में मरीजों की भर्ती बंद है। ओपीडी भी बंद हैं। ऐसे में आधे से ज्यादा बेड खाली है और सभी पर ऑक्सिजन की व्यवस्था है। संस्थान में ऑक्सिजन प्लांट भी लगा।

इसके बावजूद इमरजेंसी में 50 मरीज होने के बाद बाकी को बेड खाली न होने की बात कहकर लौटाया जा रहा है। जबकि इमरजेंसी के मरीजों की हालत स्थिर होने के बाद विभागों में पड़े खाली बेड में ट्रांसफर किया जा सकता है। इससे इमरजेंसी भी खाली रहेगी।

loading...
loading...

Check Also

हिसार में हंगामा: कोविड अस्‍पताल का फीता काटने पहुंचे CM खट्टर का विरोध किए किसान, DSP को पीटा

हिसार में रविवार को 500 बिस्तर की क्षमता वाले अस्थायी कोविड अस्पताल का उद्घाटन करने ...